बिहार : युद्ध तत्काल बंद हो और नाटो को भंग करो - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 6 मार्च 2022

बिहार : युद्ध तत्काल बंद हो और नाटो को भंग करो

  • अभियान सांस्कृतिक मंच  एवं भारतीय  सांस्कृतिक सहयोग एवं मैत्री संघ( ISCUF) के संयुक्त तत्वाधान में यूक्रेन -रूस संकट पर विमर्श आयोजित हुआ

seminar-on-ukrain-russia-crisis
पटना 6 मार्च। 'अभियान सांस्कृतिक मंच’ और 'इसकफ’ ने संयुक्त रूप से ‛समकालीन भूराजनीतिक परिदृश्य में रूस-यूक्रेन संकट’ विषय पर एक बातचीत का आयोजन किया। इस बातचीत में कई राजनीतिक-सामाजिक कार्यकर्ता, बुद्धिजीवी, संस्कृतिकर्मी आदि शामिल हुए। सबने एक स्वर से कहा कि युद्ध बंद हो और नाटो को तत्काल खत्म किया जाए। अमेरिका नाटो की आड़ में अपना हित न साधे। अमेरिका ने उकसाकर यूक्रेन को युद्ध में धकेल दिया।  अमेरिका अपनी नापाक हरकतों से बाज आए।


शिक्षक सर्वेश जी ने कहा कि युद्ध एक खतरनाक स्थिति है। यह नहीं होना चाहिए इससे आमआदमी को नुकसान होता है। अशोक कुमार सिन्हा ने कहा कि इस संकट का असर हमलोगों पर भी पड़ने जा रहा है। महंगाई बहुत बढ़ सकती है। युद्ध तत्काल बंद होना चाहिए। यूरोप ने रूस को आश्वासन दिया कि नाटो को समाप्त किया जाएगा। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। नाटो का विस्तार होता गया। यूक्रेन भी नाटो में शामिल होना चाहता है। जिससे नाटो के हथियार रूस के दरवाजे पर आ जाते। इन सबके के अमेरिका जिम्मेदार है। नाटो भी पीछे से युद्ध में शामिल है। आज नाटो खत्म होना चाहिए। दुनिया को शांति की तरफ जाना चाहिए। सामाजिक कार्यकर्ता सुनील सिंह ने बताया कि नॉबेल विजेता विद्वान अलेक्सेंडर ने अपनी किताब में लिखा कि लेनिन की उदारता की वजह से यूक्रेन बना। यूक्रेन नाटो का सदस्य बनना चाहता है। क्रीमिया जनमत संग्रह से रूस का हिस्सा बना। अमेरिका किसी भी सूरत में यूक्रेन में सैन्य अड्डा बनाना चाहता है। अमेरिका ने जापान के समर्पण के बावजूद हिरोशिमा नागासाकी पर बम गिराया। अमेरिका के इशारे पर नाटो काम करता है। अमेरिका लैटिन अमेरिका के तमाम देशों को तबाह करता रहा है। जेल्सनकी और मोदी दोनों जोकर हैं।


seminar-on-ukrain-russia-crisis
अधिवक्ता मदन जी कहा कि अमेरिका की दादागिरी के खिलाफ यह सब हो रहा है। अमेरिका दुनिया का सबसे झूठा देश है। इस लड़ाई में यूक्रेन का राष्ट्रपति राष्ट्र के नाम पर अपने लोगों को मरवा रहा है। सामाजिक कार्यकर्ता गोपाल गोपी ने कहा कि पुतिन कहते हैं कि यूक्रेन के पूंजीपति जनता को लूट रहें है। रूस अपने स्टेटेहूड के लिए लड़ रहा है। पूंजीवादी हेजेमनी इस सबके पीछे है।वामपंथी कार्यकर्ता अशोक गुप्ता ने बताया कि मोदी ने भारत को फंसा दिया। मोदी अपनी जिम्मेदारी से भाग रहे हैं। इस युद्ध का खलनायक नाटो है। अमेरिका को हथियार बेचना है। इसकफ के बिहार महासचिव रविन्द्र नाथ राय ने अपने अध्यक्षीय वक्तव्य में बताया कि नाटो रूस को चिढ़ा रहा था। अमेरिका ने ही जेल्सनकी को खड़ा किया है। राष्ट्रवाद के नामपर यह चुनाव जीत गए। यूक्रेन की आम-अवाम रूस के बहुत खिलाफ नहीं है। कुछ लोग हैं जो जेल्सनकी के साथ हैं। रूस बहुत संभलकर आगे बढ़ रहा कि आम आदमी को नुकसान कम हो। नाटो के आने से रूस का गैस पाइपलाइन बंद हो जाएगा। जरूरी है कि युद्ध बंद हो। भारतीय छात्रों को सुरक्षित वापस लाया जाए।  सभा का संचालन जयप्रकाश ने किया इस सभा में अनीश अंकुर, मिरसैफ, भोला पासवान, कपिलदेव वर्मा, प्रो अरुण कुमार, डॉ संजीव, महेश्वर, नीरज सहित कई लोग शामिल हुए।

कोई टिप्पणी नहीं: