झाबुआ (मध्य प्रदेश) की खबर 27 मार्च - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 27 मार्च 2022

झाबुआ (मध्य प्रदेश) की खबर 27 मार्च

भगवान श्री राम का मानव अवतरण के रूप में इतिहास गौरवशाली, विवेकशील एवं मर्यादा सीखाने वाला है -ः वरिष्ठ इतिहासकार डॉ. केके त्रिवेदी

  • झाबुआ के कॉलेज मार्ग पर मोगली गार्डन में धर्म रक्षा दल एवं सकल हिन्दू समाज द्वारा होगा श्री राम कथा का भव्य आयोजन
  • आयोजन को लेकर सर्व संस्थाओं और समाज की महत्वपूर्ण बैठक हुई संपन्न, आमंत्रण-पत्रिकाओं का किया गया विमोचन

jhabua news
झाबुआ। भगवान श्री राम के आदर्शों और मर्यादाओं को जन-जन तक पहुंचाने के लिए धर्म रक्षा दल एवं सकल हिन्दू समाज की ओर से स्थानीय कॉलेज मार्ग स्थित अंबे माता मंदिर के समीप मोगली गार्डन में ऐतिहासिक श्री राम कथा का आयोजन किया जा रहा है। जिसकी तैयारियां एवं प्रचार-प्रसार भी व्यापक पैमाने पर किया जा रहा है। आयोजन को लेकर पिछले दिनों एक संक्षिप्त बैठक के साथ शहर की सर्व संस्थाओं और समाज की महत्वपूर्ण बैठक का आयोजन 26 मार्च, शनिवार देर शाम 7 बजे आयोजन स्थल पर मोगली गार्डन पर ही किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में सेवानिवृत्त प्राचार्य एवं वरिष्ठ इतिहासकार डॉ. केके त्रिवेदी, श्री विघ्नहर्ता विहार धाम ट्रस्ट फुलमाल के प्रमुख ट्रस्टी एवं वरिष्ठ समाजसेवी यशवंत भंडारी, सामाजिक महासंघ के जिलाध्यक्ष नीरजसिंह राठौर, मातृ शक्तियों में जिला महिला एवं पतंजलि योग समिति की प्रभारी सुश्री रूक्मणी वर्मा एवं वरिष्ठ साहित्यकार तथा लेखिका देवयानी नायक उपस्थित थी। प्रारंभ में अतिथियों द्वारा श्री राम-दरबार की तस्वीर पर माल्यार्पण कर दीप प्रज्वजलन किया गया। बाद सभी ने भगवान श्री राम एवं हनुमानजी के सामूहिक जयकारे लगाए। अतिथियों का स्वागत श्री राम कथा उत्सव समिति से जुड़े वरिष्ठजनों में विट्ठल प्रसाद शर्मा, ललित शर्मा, मदन राठौर, नीरंजनसिंह चौहान, गजराजसिंह चौहान ‘दादुभाई’, महेन्द्र पंवार, महिलाओं में रेखा शर्मा, स्मृति भट्ट, श्रीमती संगीता पंवार, आनंदीबेन कहार, चेतना चौहान, प्रेमलता पंवार, अनिता जाखड़, हरिप्रिया निगम, शांताबेन जायसवाल, विनीता नायक आदि ने पुष्पमाला एवं पुष्प गुच्छ भेंटकर किया।


कथा में यह रहेगा खास

स्वागत उद्बोधन एवं कार्यक्रम का सफल संचालन करते हुए श्री राम कथा आयोजन समिति के वरिष्ठ अश्विन शर्मा ने बताया कि श्री राम कथा चैत्र नवरात्रि एकम 2 अप्रेल से आरंभ होकर 10 अप्रेल श्री राम नवमी तक चलेगी। 11 अप्रेल को दशहरा पर महाप्रसादी (भंडारे) का आयोजन होगा। कथा वाचन भोपाल से पधारे पं. मंथनजी शांडिल एवं उनकी टीम द्वारा संगीतमय तरीके से किया जाएगा। समय प्रतिदिन दोपहर 3 से शाम 6 बजे तक रहेगा। प्रथम दिन शहर में शोभायात्रा के साथ कथा का आगाज किया जाएगा। प्रतिदिन कथा के प्रसंगांे के अनुसार अलग-अलग जीवंत चित्रण भी प्रस्तुत होगा। कथा का उद्देश्य सकल हिन्दू संप्रदाय में अपने धर्म, संस्कृति और सभ्यता के प्रति जागरूकता लाकर एकीकरण करना है।


भगवान श्री राम मर्यादा और विवेकशीलता के धनी

बाद अपने उद्बोधन में मुख्य वक्ता डॉ. केके त्रिवेदी ने कहा कि भगवान श्री राम का मानव जीवन के रूप में इतिहास सदियों पुराना है। श्री राम के मुख मंडल पर हमेशा सौम्यता, मर्यादा और विवेकशीलता तथा विवेकवानता झलकती है। प्रत्येक मनुष्य के लिए वह आदर्श और प्रेरणास्त्रोत है। वरिष्ठ समाजसेवी यशवंत भंडारी ने सभी को भगवान श्री राम और हनुमानजी की प्रेरक कहानी सुनाई। उन्होंने कहा कि श्री राम कथा में पूरे जीवन का सार है। इसे प्रत्येक व्यक्ति को श्रवण कर वर्तमान दौर में अपने जीवन में परिवर्तन लाने की आवश्यकता है। उन्होंने सभी से कहा कि कथा को तन-मन से दोनो कानो से सुनकर उसे ह्रदय में स्थापित करना है, क्योकि भगवान श्री राम हनुमानजी की तरह प्रत्येक मनुष्य के भी ह्रदय में ही निवास करते है।


झाबुआवासियांे में धर्म और आध्यात्म के प्रति अटूट आस्था

सामाजिक महासंघ के जिलाध्यक्ष नीरजसिंह राठौर ने उपस्थित सभीजनों से भगवान श्री राम, एवं राम-लखन-जानकी जय बोलो हनुमान की .... के जयघोष लगाते हुए अपने उद्बोधन की शुरूआत की। उन्होंने बताया कि कोई भी कार्यक्रम तन-मन और धन तीनों से संपन्न होता है। कोई तन अर्थात श्रम के माध्यम से तो कोई मन के माध्यम से, तो कोई धन अर्थात आर्थिक सहयोग भी प्रदान करता है। यह बड़े हर्ष का विषय है कि झाबुआ एक ऐसी नगरी है, जहां के लोगांे में आध्यात्म और धर्म के प्रति निष्ठा और समपर्णता कूट-कूट कर भरी हुई है।


कथा का सभी अधिकाधिक श्रवण करे

महिला पतंजलि योग समिति की जिला प्रभारी सुश्री रूक्मणी ने उपस्थित मातृ शक्तियों से कहा कि हमे स्वयं तो प्रतिदिन पांडाल पर आकर कथा का श्रवण करना है, अपने साथ अन्य महिलाओं और घर के सभी को सदस्यों को भी कथा श्रवण के लिए लाना है। मातृ शक्तियां कथा में आने के लिए एक ड्रेस कोर्ड निर्धारित करे एवं पुरूष भी एक जैसे ड्रेस कोड में कथा में भाग ले, तो इससे कथा स्थल पर एक अलग ही नजारा देखने को मिलेगा। साथ ही पूरे पांडाल को केसरिया ध्वज से सजाए जाने के साथ शोभायात्रा में भी बड़ी संख्या महिला-पुरूषों के साथ युवाओं की भी सहभागिता रहने पर बल दिया।


मातृ शक्तियों की रहे पूर्ण सहभागिता

वरिष्ठ साहित्यकार एवं लेखिका देव्यानी नायक ने कथा में विशेष रूप से मातृ शक्तियों की सहभागिता पर बल दिया एवं अपनी ओर से भी पूर्ण सहयोग हेतु आश्वास्त किया। इस अवसर पर जिला पेंशनर्स एसोसिएशन के कोषाध्यक्ष एवं राजपूत समाज झाबुआ के पूर्व अध्यक्ष भेरूसिंह सोलंकी, श्री संकट मोचन हनुमान मंदिर सेवा समिति से गजेन्द्रसिंह चंद्रावत ने भी अपने विचार रखे। जिला आजाद साहित्य परिषद् के सचिव शरत शास्त्री ने श्री राम पर आधारित कविता से सभी को आनंदित एवं रोमांचित किया। इस दौरान विभिन्न संस्थाओं और संगठनों की ओर से कथा की व्यवस्था में विशेष सहयोग देने के साथ आर्थिक सहयोग और सामग्री भेंट करने की भी घोषणा की गई। जिसमें राजवाड़ा मित्र मंडल के संरक्षक एवं वरिष्ठ समाजसेवी लाखनसिंह सोलंकी की ओर से सर्वाधिक 51 हजार रू. का सहयोग देने हेतु उनके भाई शंभुसिंह चौहान द्वारा सहमति व्यक्त की गई।


आमंत्रण-पत्रिकाओं का किया गया विमोचन

बैठक के समापन पर अतिथियों के साथ सभी ने भारत माता, वंदे मातरम् और श्री राम के जयकारों के बीच श्री राम कथा महोत्सव की आमंत्रण-पत्रिकाओं का भी विमोचन किया। बैठक की व्यवस्था में विशेष सहयोग भाजपा मंडल झाबुआ के महामंत्री एवं वार्ड के सक्रिय पार्षद पपीश पानेरी, गजराजसिंह चौहान दादुभाई, पंकजभाई, जगदीश पंडा, शंभुसिंह चौहान आदि ने प्रदान किया। अंत में सभी के प्रति आभार वार्ड के युवा एवं सक्रिय पार्षद पपीश पानेरी ने माना।


हिन्दू नववर्ष गुड़ीपड़वा पर श्री संकट मोचन हनुमान मंदिर सेवा समिति द्वारा होगा ‘‘ एक शाम अपने नाम’’ आत्म साक्षात्कार कार्यक्रम का आयोजन

  • आचार्य रामानुजजी द्वारा 90 मिनिट तक सत्त दिए जाएंगे व्याख्यान, आयोजन को लेकर महत्वपूर्ण बैठक संपन्न 

झाबुआ। श्री संकट मोचन हनुमान मंदिर सेवा समिति हनुमान टेकरी झाबुआ द्वारा प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष भी हिन्दू नववर्ष गुड़ीपड़वा पर आगामी 2 अप्रेल को ‘‘एक शाम अपने नाम’’ ‘‘आत्म साक्षात्कार’’ कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। उक्त आयोजन बस स्टेंड के पीछे मनोकामना गार्डन पर शाम 7.30 बजे से होगा। जिसमें वेद एवं शास्त्रों के ज्ञाता आचार्य रामानुजजी द्वारा सत्त 90 मिनिट तक प्रेरणादायी व्याख्यान दिया जाएगा। उक्त आयोजन को लेकर श्री संकट मोचन हनुमान मंदिर सेवा समिति द्वारा जोर-शोर से तैयारियां की जा रहंी है। आयोजन की तैयारियां संबंधी महत्वपूर्ण बैठक का आयोजन 26 मार्च, शनिवार रात 8 बजे से स्थानीय हनुमान टेकरी पर किया गया। जिसमें प्रारंभ में समिति के समस्त महिला एवं पुरूष तथा युवा सदस्यों ने सुंदरकांड पाठ किया। जिसका लाभ श्रीमती राधादेवी सोलंकी ने लिया। बाद श्री राम एवं हनुमानजी पर आधारित सुंदर कविता पाठ भी किया गया।


विभिन्न दायित्व एवं जिम्मेदारियां सौंपी गई

तत्पश्चात् बैठक का संचालन करते हुए समिति के वरिष्ठ गजेन्द्रसिंह चंद्रावत ने अलग-अलग व्यवस्थाओं के संबंध में दायित्व सौंपे। जिसमें आयोजनस्थल पर मंच सज्जा हेतु तरूण बैरागी, पुष्पेन्द्र नीमा एवं मोहित उपाध्याय, बैठक व्यवस्था हेतु हार्दिक अरोड़ा, अतिथियों का सत्कार-स्वागत हेतु समिति अध्यक्ष अरूण भावसार, गजेन्द्रसिंह चंद्रावत एवं समस्त अन्य वरिष्ठ सदस्यगण और मातृ शक्तियां, प्रवेश द्वार पर तिलक एवं पुष्प वर्षा हेतु प्रणव त्रिपाठी, मीडिया व्यवस्था हेतु दौलत गोलानी, प्रसादी वितरण समिति में सुभाष गिधवानी एवं दिनेश चौहान, पूजन में मोहित पुरोहित के साथ कई अन्य विभिन्न दायित्व एवं जिम्मेदारियां सौंपी गई।


यह रहे उपस्थित

इसके साथ ही समिति के पदाधिकारी-सदस्यों का ड्रेस कोड भी तय किया गया। सभी को बेंच भी लगाए जाएंगे। यह बैठक करीब एक घंटे तक चली। इस अवसर पर समिति से जुड़े वरिष्ठजनों में पवेन्द्रसिंह चौहान, मुकेश नीमा, सुश्रीत झरबड़े, वरूण बैरागी, राहुल बैरागी, महिलाओं में श्रीमती सीमा चौहान, पवित्रा भावसार, पुष्पा नीमा, माया बैरागी, नीता भावसार, सीमा चौहान, श्री नवदुर्गा महिला मंडल समिति से अनिता जाखड़, हरिप्रिया निगम, शांताबेन जायसवाल, विनीता नायक, स्मृति भट्ट आदि उपस्थित थी। अंत में आभार समिति अध्यक्ष प्रेमअदीपसिंह पंवार ने माना।


झाबुआ के हाऊंिसंग बोर्ड कॉलोनी में केशव विद्या पीठ स्थित बगीचे में मनाया गया दशा माता पर्व, महिलाआंे ने समूह में की वर्षों पुराने पीपल के वृक्ष की पूजन

  • घरों की दशा सुधारने के लिए वृक्ष पर सूत बांधकर लगाई परिक्रमा

jhabua news
झाबुआ। शहर के पुरानी हाऊसिंग बोर्ड कॉलोनी में केशव विद्या पीठ स्थित बगीचे में दशा माता का पर्व आस्था एवं श्रद्धापूर्वक मनाया गया। यहां आसपास रहने वाली समस्त महिलाओं ने वर्षों पुराने पीपल के वृक्ष की विधि-विधान से पूजन कर सूत का धागा बांधकर परिक्रमा लगाई। बाद समूह में राजा नल एवं रानी दम्यंती की कथा भी सुनी। महिलाआंे ने इस दिन व्रत रखकर घर पर दाल-बाफले एवं विशेष व्यंजनों का लुत्फ उठाया। जानकारी देते हुए श्री नवदुर्गा महिला मंडल समिति की अध्यक्ष श्रीमती अनिता जाखड़ एवं सतोष सक्सेना ने बताया कि दशा माता का पर्व घरांे की दशा सुधारने के लिए एवं परिवार की सुख-समृद्धि के लिए मनाया जाता है। इस दिन महिलाएं सुबह जल्दी उठकर नए वस्त्र धारणकर एवं सज-संवरकर, पूजन की थालियां सजाकर समीपस्थ पीपल के वृक्षों पर पहुंचकर विधि-विधान से पूजन-आरती आदि करती है। केशव विद्या पीठ स्थित पीपल का वृक्ष वर्षों पुराना होकर महिलाओं द्वारा पिछले एक दशक से यहां दशा माता पर पूजा-अर्चना की जा रहीं है।


इनकी रहीं सहभागिता

यहां श्रीमती सुनिता भट्ट ने पूजन विधि सपंन्न करवाई। वहीं संपूर्ण पूजन कार्यक्रम श्रीमती राधादेवी सोलंकी के मार्गदर्शन में संपन्न हुआ। जिसमें प्रतिभा पंवार, निर्मला सिसौदिया, सुनिता बुंदेला, प्रीती चावड़ा, कल्पना नाथावत, अर्चना सिसौदिया, कल्पना बंुदेला, रंजिता रावत, विनीता शर्मा आदि ने कंकु, चावल, दूध, दही, पंचामृत से पीपल की पूजन कर बाद सूत का धागा बांधते हुए 10 परिक्रमा पूर्ण की। सभी को कथा श्रीमती सुनिता भट्ट ने सुनाई। यहां अलसुबह से लेकर दोपहर तक महिलाओं की पूजन के लिए भीड़ लगी रहीं। परपंरा है कि इस दिन घरांे की सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाता है, इसलिए महिलाएं बाजार से नया झाड़ू खरीदकर पूरे घर की सफाई करने के साथ भोजन में विशेष रूप से पुरण पूली बनाकर ग्रहण की गई।


ग्राम मोहनपुरा में भी मनाया गया पर्व

इसी प्रकार शहर के समीपस्थ ग्राम मोहनपुरा के तड़वी फलिया में शासकीय प्राथमिक स्कूल के समीप भी दशा माता का पर्व मनाते हुए ग्रामीण महिलाओं ने यहां दशकों पुराने पीपल के वृक्ष की पूजा-अर्चना की। विधि-विधान से पूजन पं. प्रदीप भट्ट ने संपन्न करवाई। दिनभर महिलाओं की वृक्ष पर पूजन के लिए भीड़ देखने को मिली। उक्त कार्यक्रम की व्यवस्था में ग्राम पंचायत के तड़वी नरसिंहभाई का विशेष सहयोग रहा।


झाबुआ के श्री मेढ़ क्षत्रिय स्वर्णकार मंदिर में स्वर्णकार महिला मंडल द्वारा दशा माता पर बोए गए ज्वारे, बालू रेत से बने शिव-पार्वतीजी की स्थापना की, दस दिनों तक की जाएगी पूजन


झाबुआ। शहर के राधाकृष्ण मार्ग स्थित श्री मेढ़ क्षत्रिय स्वर्णकार मंदिर में स्वर्णकार महिला मंडल द्वारा 27 मार्च, रविवार को दोपहर दशा माता पर्व पर मंदिर में बालू रेत से बने शिव-पार्वतीजी की स्थापना कर ज्वारे बोए गए। बोए गए इन ज्वारों की 9 दिनों तक सत्त पूजन की जाएगी। अंतिम दिन ज्वारों का विसर्जन किया जाएगा। जानकारी देते हुए स्वर्णकार महिला मंडल की वरिष्ठ श्रीमती कुंता सोनी एवं विमला सोनी ने बताया कि सोनी समाज की महिलाओं द्वारा प्रतिवर्ष दशा माता पर्व से लेकर गणगौर तक मंदिर में विभिन्न आयोजन किए जाते है। जिसमें प्रथम दिन आज मंदिर में बालू रेत से बने शिव-पार्वतीजी की स्थापना कर ज्वारे बोए गए। यह ज्वारे काली मिट्टी, गेहू और सूखे गौबर से तैयार किए जाते है। महिलाओं द्वारा मंदिर में ही पात्रों मंे ज्वारे तैयार कर इनकी स्थापना की गई। यह कार्य प्रतिवर्ष किया जाता है।


तालाब में किया जाएगा विसर्जन

अंतिम दिन गणगौर पर्व पर जुलूस के रूप में बड़े तालाब पहुंचकर इनका विसर्जन किया जाएगा। दस दिनों तक प्रतिदिन पूजन-पाठ के साथ विभिन्न कार्यक्रमों का दौर चलेगा। इस अवसर पर समाज की महिलाओं में प्रदेश उपाध्यक्ष श्रीमती चंचला सोनी, जिला सचिव राजकुमार सोनी, पिंकी, मोनिका, पमिता, दीपा, रूक्मणी सोनी, नीता सोनी आदि उपस्थित थी।


ब्रम्हकुमारीज संस्थापक राजयोगिनी डॉ. दादी जानकी का द्वितीय स्मृति दिवस वैश्विक आध्यात्मिक जागृति दिवस के रूप में मनाया


झाबुआ। पूर्व मुख्य प्रशासिका ब्रम्हकुमारीज राजतोगिनी डॉ. दादी जानकी का द्वितीय स्मृति दिवस वैश्विक आध्यात्मिक जागृति दिवस के रूप में स्थानीय ब्राम्हकुमरीज ॐ शांति केंद्र झाबुआ में मनाया गया। इस अवसर पर आयोजित आध्यात्मिक शिविर को सम्बोधित करते हुए ब्रम्हकुमारी दीदी ने डॉ दादी जानकी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए उनके सेवाओं और सकल विश्व में शांति का संदेश देते हुए राजयोग की स्थापना में आने वाली बाधाओं को पार करने की प्रासंगिकता का वर्णन  सुनाया। दशा माता की प्रासिंगता बताते हुए उन्होने कहा विश्व के 140 देशों में मनुष्य आत्माओं की दशा को बदलने में दादी जानकी ने सच्ची दशामाता ने अपने पूरे 104 वर्ष की आयु समर्पित की। ब्राम्हकुमारी ज्योति दीदी ने भी दादी के महा प्रयाण एवं उस समय विश्व में व्याप्त कोरोना की लहर का जिक्र करते हुए एकांत सुख के लिए राजयोग व मेडिटेशन की अनिवार्यता पर जोर दिया। इस अवसर पर वरिष्ठ सदस्य यशवन्त भण्डारी,  महेश भाई, एम एल फुलफगारे, पवन नाहर, राजू धानक, डॉ. गर्ग, एम एल परमार, मनोज उपाध्याय, श्रीमंत अरोड़ा आदि ने भी दादी के जीवन से प्रेरणा लेकर अपना जीवन रूपांतरित करने की बात कही। इस अवसर पर उपस्थित सभी आध्यात्मिक बंधुओं बहिनों ने दादी जानकीजी के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित करते हुए ध्यान योग का अभ्यास किया।


गृह दशा बदलने परिवार में सुख शांति समृद्धि लाने महिलाओं ने की पीपल की पूजा, दशा माता व्रत रखकर महिलाओं ने मांगा विश्व कल्याण का वरदान


jhabua news
थांदला। चौत्र मास के कृष्ण पक्ष की दशमी तिथि 27 मार्च रविवार को प्रातः काल से ही स्थानीय महात्मा गांधी मार्ग, गणेश मंदिर, चार भुजानाथ मंदिर, तेजाजी मन्दिर, संजय कॉलोनी, विवेकानन्द कॉलोनी आदि विविध स्थानों पर अपार महिलाओं ने श्रद्धा से दशा माता का व्रत रखकर पीपल की पूजा करते हुए ग्रह शांति व सुख समृद्वि का वरदान मांगा। इस दिन महिलाएं पूजा और व्रत करके गले में पूजा का धागा पहनती हैं। जानकर बताते है कि रविवार को पीपल पूजा निषेध होती है जिसके चलते महिलाओं में भी पीपल की पूजा को लेकर आशंका थी लेकिन पंडित मनोज उपाध्याय ने आशंका का समाधान करते हुए कहा कि पर्व व त्योहारों के लिए तिथि को विशेष मान्यता दी जाती है, इस दिन वार की प्रधानता नहीं रहती है, इसलिए रविवार को दशमी तिथि का अच्छा योग है, इस दिन पूरे दिन दशा माता का पूजन शुभफल दायक होगा वही पूजन में किसी भी प्रकार से वार का दोष नहीं लगेगा। उल्लेखनीय है कि दशामाता व्रत के दिन भगवान विष्णु के स्वरूप पीपल के वृक्ष की ही पूजा की जाती है जिससे गृह की विपरीत परिस्थितियों में बदलाव आता है व श्रद्धालुओं के घर परिवार में सुख शांति समृद्धि में वृद्धि होती है।


कादर शेख जिलाध्यक्ष नियुक्त - जिलें के सभी पत्रकारों जनप्रतिनिधियों ने दी बधाई


jhabua news
थांदला। पत्रकारों की सुरक्षा को लेकर प्रतिबद्ध देश के सर्वाधिक 22 राज्यों में व मध्यप्रदेश के 40 जिलों में फैले अखिल भारतीय पत्रकार सुरक्षा समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष जिग्नेश कलावाड़िया व राष्ट्रीय संरक्षक शंकर पाण्डे मध्यप्रदेश अध्यक्ष नरेंद्र देव नरेला व मध्यप्रदेश प्रभारी राजेश पिपलोदिया की अनुसंशा पर झाबुआ जिलें के वरिष्ठ पत्रकार राज एक्सप्रेस थांदला विधानसभा के मुख्य संवाददाता कादर शेख को राष्ट्रीय सचिव सरोज जोशी ने झाबुआ जिला अध्यक्ष नियुक्त किया है। उनकी नियुक्ति पर थांदला झाबुआ जिलें के वरिष्ठ पत्रकार एम एल परमार, मनोज उपाध्याय,  समकित तलेरा, पवन नाहर, हरीश यादव, अलीअसगर बोहरा, दशरथ कट्ठा, रहीम शेरानी, नीलिमा डाबी, शहादत खान, विवेक व्यास, नोशाद रंगरेज आदि पत्रकारों समाजसेवी संस्थाओं व जनप्रतिनिधियों ने बधाई देते हुए प्रसन्नता जाहिर कर राष्ट्रीय व प्रदेश इकाई के वरिष्ठ पत्रकारों का धन्यवाद ज्ञापित किया है।

कोई टिप्पणी नहीं: