बिहार : इस साल 15 अप्रैल को गुड फ्राइडे है - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 2 अप्रैल 2022

बिहार : इस साल 15 अप्रैल को गुड फ्राइडे है

15-april-good-friday
पटना. इस साल 15 अप्रैल को गुड फ्राइडे है.इन दिनों ईसाई समाज 40 दिनों का उपवास रखते हैं.ईसाई धर्म में आस्था रखने वालों के लिए भी गुड फ्राइडे का दिन बहुत अहम है.बाइबल के अनुसार, इसी दिन ईसाई धर्म के प्रभु ईसा मसीह के खिलाफ षड्यंत्र रच कर उन्हें सूली पर लटकाया गया था. इस वर्ष गुड फ्राइडे 15 अप्रैल को मनाया जाएगा.दरअसल, गुड फ्राइडे के साथ ईसाई धर्म के लोगों के लिए पाम संडे और ईस्टर डे भी महत्वपूर्ण माना जाता है। इस साल पाम संडे 10 अप्रैल को है.वहीं गुड फ्राइडे 15 अप्रैल को है और ईस्टर संडे 17 अप्रैल को है.बाइबल, यूहन्ना 18 और 19 में इन तीन दिनों में जो घटना घटी थी उसका उल्लेख किया गया है. बाइबल के अनुसार, पाम संडे पर ईसाई धर्म के प्रभु ईसा मसीह यरूशलेम पहुंचे थे जहां लोगों ने उनका स्वागत खजूर की डालियों को बिछाकर किया था, इस घटना के वजह से इस दिन को पाम संडे का नाम दिया गया है. जब वह  यरूशलेम यानी इजरायल की राजधानी  यरूशलेम  पहुंचे थे तब उन्हें सूली पर लटकाया गया था. जिस दिन उनकी मृत्यु हुई थी उस दिन को गुड फ्राइडे के नाम से जाना जाता है. आप यह जानकर हैरान रह जाएंगे की, ठीक 3 दिन बाद यानी रविवार के दिन मेरी मेग्दलीन नाम की एक महिला ने ईसा मसीह को उनके कब्र के पास देखा था. यह चमत्कारी घटना जिस दिन हुई थी उसे ईस्टर संडे कहा गया.

आज भी इजराइल की राजधानी जेरूसलम में वह जगह मौजूद है जहां ईसा मसीह को सूली पर चढ़ाया गया था. यह जगह गोलगोथा के नाम से पूरे विश्व में मशहूर है. जिस जगह गोलगोथा मौजूद है वह हिल ऑफ द केलवेरी के नाम से जाना जाता है. इसी जगह पर चर्च ऑफ फ्लेजिलेशन स्थित है जहां सार्वजनिक रूप से ईसाई धर्म के प्रभु ईसा मसीह की निंदा की गई थी. मान्यताओं के अनुसार, चर्च ऑफ फ्लेजिलेशन के मार्ग को दर्द या पीड़ा का मार्ग कहा जाता है. इस स्थान पर नौ और ऐतिहासिक स्थल स्थित है. पटना महाधर्मप्रांत के प्रेरितों की रानी कैथेडल में मिस्सा पूजा में शामिल होने वाले भक्तगण प्रभु येसु ख्रीस्त की दुःखभरी यात्रा को एक झांकी के रूप में दर्शाकर प्रार्थना करते हैं.हरेक वर्ष की भाँति इस वर्ष भी गुड फ्राइडे को प्रभु येसु ख्रीस्त की दुःखमयी घटना को एक झांकी के रूप में प्रस्तुत करने का निर्णय लिया था.दिनांक 15 अप्रैल ( गुड़ फ्राइडे) के पुण्य बेला में सुबह सात बजे से लोयला हाई स्कूल, कुर्जी से प्रारम्भ होकर कुर्जी के मुख्य सड़क से होते हुए प्रभु ईसा की दुःखमयी यात्रा को एक झांकी के रूप में दर्शाते हुए, प्रार्थना और भक्ति गीतों के साथ कुर्जी चर्च में जाकर एक विशेष प्रार्थना के साथ संपन्न होगी. यह बताया गया कि यह कलीसिया का काम है जो लोकधर्मियो द्वारा आयोजित किया जा रहा है. निवेदक विक्टर फ्रांसिस का नम्र निवेदन है कि इस धार्मिक कार्य में आप अपने स्तर से सहयोग करें ताकि इसे हम एक साथ मिलकर और भी भक्तिमय और दूसरों के लिए प्रेरणादायक बना सकें.आज दिनांक 2 अप्रैल को और कल दिनांक 3 अप्रैल को संध्या 4 बजे से इसके रिहर्सल में उपस्थित होकर अपना योगदान देने की कृपा करें.आशा करता हूं कि आप अपनी भागदौड़ की जिंदगी में से कुछ समय इस पुण्य कार्य के लिए अवश्य निकलने की कोशिश करेंगे.

कोई टिप्पणी नहीं: