मोतिहारी : खेलो चंपारण की मुहिम चलाकर" चंपारण खेल क्रांति" लाने का प्रयास - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 13 अप्रैल 2022

मोतिहारी : खेलो चंपारण की मुहिम चलाकर" चंपारण खेल क्रांति" लाने का प्रयास

khelo-champaran
मोतिहारी.  पूर्वी चम्पारण के जिलाधिकारी, श्री शीर्षत कपिल अशोक की अध्यक्षता में नगर भवन, मोतिहारी में खेलो इंडिया/ खेलो चंपारण के तहत" चंपारण खेल क्रांति"अंतर्गत जिले भर के सभी पंचायतों के गांवों में खेल मैदान का विकास के लिए उन्मुखीकरण एवं  ऊर्जावर्धन कार्यक्रम का आयोजन किया गया. चंपारण खेल क्रांति का मुख्य उद्देश्य जिले भर के हर गांव में खेल मैदान को विकसित करना है.मूल रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में खेल संरचना एवं अवसंरचना का विकास एवं खेलकूद प्रतियोगिताओं के माध्यम से युवा खेल प्रतिभाओं को प्रोत्साहित किया जाएगा.खेलो इंडिया योजना के" प्रतिभा खोज और विकास" घटक के तहत जमीनी स्तर पर प्रतिभा खोज का आयोजन किया जाता है. प्रत्येक गांव में खेल मैदान "चंपारण खेल क्रांति "का मुख्य उद्देश्य है प्रत्येक पंचायत यथासंभव प्रत्येक गांव में एक आदर्श खेल के मैदान का विकास हो.पंचायती राज विभाग, मनरेगा, शिक्षा विभाग , खेल विभाग ,राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग के सहयोग से खेल मैदान को जिले के हर क्षेत्र में विकसित किया जाएगा. जिलाधिकारी महोदय अपने संबोधन में कहा कि कोरोना काल में बहुत से लोग एवं बच्चे शारीरिक एवं मानसिक रूप से प्रभावित हुए हैं.खेल ही एक ऐसा माध्यम है जो आदमी के शारीरिक एवं मानसिक रूप को विकसित कर सके.उन्होंने सभी शारीरिक शिक्षक को संबोधित करते हुए कहा कि अपने अपने क्षेत्र अंतर्गत एक आदर्श खेल मैदान के रूप में विकसित करें. मनरेगा के माध्यम से मैदान का  समतलीकरण ,बाउंड्री निर्माण, पौधारोपण का कार्य किया जा रहा है.सभी बीआरपी एवं पीटी शिक्षक आपस में समन्वय स्थापित कर खेल मैदान को विकसित करेंगे.उन्होंने कहा कि खेल का मुख्य उद्देश्य मेडल जीतना एवं बहुत आगे ओलंपिक का स्तर पर भेजना नहीं है, बल्कि छोटे-छोटे खेल खेलने से हमारे समाज की बनावट सुदृढ़ होती है ,आपस में भाईचारा और प्रेम भी बढ़ता है , आपस में वैमनस्यता खत्म होती है ,बच्चों का शारीरिक एवं बौद्धिक क्षमता का विकास होता है. उन्होंने संबंधित पदाधिकारी को निर्देश देते हुए कहा कि अपने पंचायतों में माननीय मुखियागण के साथ बैठक कर खेल गतिविधियां प्रारंभ करें. 31 मई के पूर्व पंचायत के सभी गांव में दो खेल मैदान को विकसित करने का लक्ष्य रखा गया है.उन्होंने कहा कि स्वेच्छा से कार्य कर बच्चों के हित में एवं मनोरंजन के लिए खेल को बढ़ावा दें. इस अवसर पर उप विकास आयुक्त, जिला परिवहन पदाधिकारी, जिला शिक्षा पदाधिकारी, जिला कृषि पदाधिकारी, जिला पंचायती राज पदाधिकारी ,सभी अनुमंडल पदाधिकारी ,सभी भूमि उप समाहर्ता,  प्रखंड विकास पदाधिकारी ,सभी कार्यक्रम पदाधिकारी मनरेगा ,कार्यपालक पदाधिकारी नगर निगम, नगर निकाय ,जिला खेल पदाधिकारी, सभी शारीरिक शिक्षक एवं वरीय उप समाहर्ता उपस्थित थे.

कोई टिप्पणी नहीं: