बिहार : आसमान छूती महंगाई से लोगों का जीना हुआ मुहाल : धीरेन्द्र झा - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 10 अप्रैल 2022

बिहार : आसमान छूती महंगाई से लोगों का जीना हुआ मुहाल : धीरेन्द्र झा

  • माले जिला कमिटी की बैठक में लिया गया आंदोलनात्मक निर्णय

cpi-ml-condemn-inflaion
समस्तीपुर, 10 अप्रैल. महंगाई के विरुद्ध गांव-पंचायत स्तर पर जनता को गोलबंद कर आंदोलन चलाने का निर्णय पूसा प्रखण्ड में आहूत भाकपा माले जिला कमिटी की बैठक में लिया गया. बैठक की अध्यक्षता जिला सचिव उमेश कुमार ने किया. पर्यवेक्षक के बतौर पोलिट ब्यूरो सदस्य सह मिथिलांचल प्रभारी धीरेंद्र झा मौजूद थे. अमित कुमार, सुरेंद्र प्रसाद सिंह, उपेंद्र राय, बंदना सिंह, प्रेमानंद सिंह, ललन कुमार, अनील चौधरी, फूल बाबू सिंह, अजय कुमार, मनीषा कुमारी, दिनेश कुमार, सुनील कुमार आदि ने बैठक में अपने-अपने विचार व्यक्त किये. मौके पर माले के पोलिट ब्यूरो सदस्य सह मिथिलांचल प्रभारी धीरेंद्र झा ने बढ़ती महंगाई के जिम्मेवार बिहार के नीतीश सरकार एवं केंद्र के मोदी सरकार को जिम्मेवार करार देते हुए महंगाई पर रोक लगाने की मांग की. उन्होंने कहा कि डीजल, पेट्रोल, रसोई गैस, भवन निर्माण सामग्री, खाद्य पदार्थ आदि की आसमान छूती महंगाई से लोगों के रोजी, रोटी, मकान पर संकट छा गया है. महंगाई से लोगों का जीना मुहाल हो गया है. गरीबों का आय दिनानुदिन घट रहा है लेकिन सरकार की कारपोरेट परस्त नीति के खिलाफ कारपोरेट घराने की आय में दिन दूनी रात चौगुनी वृद्धि हो रही है. इससे भारत भी श्रीलंका की आर्थिक मंदी की राह अपनाएगी. उन्होंने इससे बचने के लिए आम आदमी की क्रय शक्ति बढ़ाने की सरकार से अपील की. अपने अध्यक्षीय संबोधन में जिला सचिव उमेश कुमार ने भारत माला परियोजना, तिरहुत गंडक नहर परियोजना, कोल्ड स्टोरेज संचालक द्वारा किसानों की हमारी के खिलाफ चल रहे आंदोलन को और तीब्र करने का कार्यकर्ताओं से आह्वान किया. बैठक जारी है.

कोई टिप्पणी नहीं: