मधुबनी : एसडीएम बन गए शिक्षक, पेश की अनूठी मिसाल - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 24 अप्रैल 2022

मधुबनी : एसडीएम बन गए शिक्षक, पेश की अनूठी मिसाल

madhubani-sdm-become-eacher
मधुबनी : तस्वीर में ये जो शिक्षक आपको सरकारी विद्यालयों में पढ़ाते नजर आ रहे हैं, वो दरअसल कोई शिक्षक नहीं बल्कि मधुबनी के सदर एसडीओ अश्वनी कुमार हैं। आज जब अचानक क्षेत्र भ्रमण पर वो निकले, तो स्कूल पहुंचकर छात्रों के बीच क्लास रूम में जाकर गणित पढ़ाने लगे। छात्रों को भी काफी अच्छा लगा। कुछ देर तक ऐसा लगा की एक शिक्षक मग्न होकर छात्रों को पढ़ा रहा हैं। छात्र भी मग्न होकर पढ़ रहे थे। वाकई इस तरह के दृश्य काफी कम देखने को मिलता हैं। एसडीओ मधुबनी ने एक नजीर पेश किया हैं। यह काफी उत्कृष्ट और अविश्वसनीय क्षण रहा इस वर्ग में पढ़े रहे छात्र/छात्रों को हमेशा अपनी पूरी जिदंगी में ये दृश्य याद रहेगा की एक दिन हम लोग क्लास में बैठकर पढ़ रहे थे, तब अचानक एसडीओ सर आए और हमलोगों को गणित पढ़ाने लगे। यह वाक्या उन सभी शिक्षको के लिए एक प्रेरणा देगी, जो शिक्षक के रूप में समाज के बीच अपनी सेवा दे रहे हैं। वे शिक्षक जो स्कूल में पढ़ाते हैं, उन्हें अपनी पूरी दृढशक्ति से अपना कर्तव्य का निर्वाहन करना चाहिए और बच्चो को अच्छी गुणवत्ता की शिक्षा प्रदान की जानी चाहिए। इस तरह की वाक्या के बाद उम्मीद हैं, यह दृश्य उन सभी शिक्षको और छात्रों के लिए प्रेरणादायक होगी। स्कूल स्कूल होता हैं, चाहे वह प्राइवेट स्कूल हो या सरकारी स्कूल सभी एक समान हैं और उसमे पढ़ने वाले सभी बच्चे भी एक समान हैं। यदि समाज में सरकारी स्कूलों के प्रति सभी शिक्षक ऐसी ही पूरी ईमानदारी से अपने कर्तव्य का निर्वाहन करें, तो पूरे देश के भीतर और नीति आयोग की रिपोर्ट में भी बिहार की शैक्षणिक गुणवत्ता का डंका बजेगा और हम सभी को अपने राज्य, गांव, जिला और प्रदेश पर गर्व होगा।

कोई टिप्पणी नहीं: