देश की सुरक्षा सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता : राजनाथ - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 2 अप्रैल 2022

देश की सुरक्षा सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता : राजनाथ

security-of-the-country-is-the-top-priority-rajnath
हैदराबाद, 02 अप्रैल, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शनिवार को कहा कि देश की सुरक्षा सर्वोच्च प्राथमिकता है और इसकी एकता तथा अखंडता की रक्षा के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं। श्री सिंह ने भारतीय वायु सेना द्वारा हाकिमपेट के वायु सेना स्टेशन में चेतक हेलीकॉप्टर की राष्ट्र सेवा के 60 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में आयोजित एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि सम्मेलन उन लोगों के लिए एक उपयुक्त श्रद्धांजलि है जिन्होंने कड़ी मेहनत और समर्पण के साथ राष्ट्र की सेवा की है। चेतक के अमूल्य योगदान के लिए अपना सम्मान व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा, "जब भी कोई देश सुरक्षा के लिए युद्ध लड़ता है, तो इसमें केवल सशस्त्र बल ही हिस्सा नहीं लेते हैं। पूरा देश उस युद्ध को लड़ता है। एचएएल जैसे संगठनों के वैज्ञानिक, इंजीनियर और तकनीशियन, जो 'चेतक' जैसे हेलीकॉप्टर और अन्य प्लेटफॉर्म विकसित करते हैं, हमारे सैनिकों के समान ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। छोटे व्यवसायों से जुड़े लाखों कर्मचारी भी इन परियोजनाओं के लिए पुर्जों की आपूर्ति करके योगदान करते हैं। यह कॉन्क्लेव उन सभी की कड़ी मेहनत और समर्पण का जश्न मनाता है।" श्री सिंह ने राजपूत राजा महाराणा प्रताप के 'चेतक' नामक घोड़े से चेतक' हेलीकॉप्टर की तुलना करते हुए कहा कि वह न केवल एक मशीन है, बल्कि एक जीवंत और समर्पित इकाई है जो पिछले छह दशकों से लगातार राष्ट्र की सेवा में लग कर दूसरों के लिए मिसाल कायम की है। उन्होंने कहा कि अब तक निर्मित लगभग 700 चेतकों ने पूरे समर्पण के साथ युद्ध और शांति में राष्ट्र की सेवा की है। रक्षा मंत्री ने निर्माण के 60 वर्षों बाद भी एक अग्रणी मंच बने रहने के लिए चेतक की सराहना की।

कोई टिप्पणी नहीं: