कश्मीरी पंडितों को घाटी में पुनः बसाना चाहिए : सुब्रमण्यम स्वामी - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 2 अप्रैल 2022

कश्मीरी पंडितों को घाटी में पुनः बसाना चाहिए : सुब्रमण्यम स्वामी

kashmiri-pandit-must-come-back-again-swami
श्रीनगर, 02 अप्रैल, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने शनिवार को कहा कि कश्मीरी पंडितों के घाटी में वापस बसाने के साथ-साथ एक लाख पूर्व सैनिकों को उनके परिवारों के साथ कश्मीर में रहने के लिए कहा जाए। ताकि कश्मीरी पंडितों की रक्षा हो सकें। उन्होंने कहा कि ये भूतपूर्व सैनिक पंडितों की रक्षा के लिए विशेष बलों की तरह होंगे। श्री स्वामी ने श्रीनगर में संवाददाताओं से कहा,“कश्मीरी पंडितों के साथ 1990 के दशक में काफी बुरा हुआ था और उनके लौटने के बाद ऐसी स्थिति नहीं हो। इसलिए हम उन्हें वहां जाने के लिए तभी कह सकते हैं, जब पुनः वैसी स्थिति नहीं हो। मेरा सुझाव है कि एक लाख सैनिक जो सेवानिवृत्त हो चुके हैं और अभी भी बंदूक चलाना जानते हैं, उन्हें अपने परिवार के साथ पांच साल तक कश्मीर में रहने के लिए कहा जाए।' उन्होंने कहा कि पूर्व सैनिकों को वेतन दिया जाएगा। उन्होंने कहा, "उन्होंने (पंडितों) एक नरसंहार देखा है और फिर से वैसी स्थिति से उन्हें नहीं गुजरना पड़े।" उन्होंने कहा, "उनका (सैनिकों) लौटने वाले पंडित परिवारों के साथ सीधा संवाद होगा ताकि बुलाए जाने पर वे तुरंत उन तक पहुंच सकें।" इससे पहले, उन्होंने नवरेह के अवसर पर हरिपर्भात में चक्रेश्वरी देवी मंदिर-अर्चना में पूजा की। श्री स्वामी ने एक अन्य समारोह में कहा कि यह पूर्व प्रधानमंत्री वीपी सिंह और उनके गृह मंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद थे, जो घाटी से कश्मीरी पंडितों के पलायन के लिए जिम्मेदार हैं, न कि तत्कालीन मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला।

कोई टिप्पणी नहीं: