बिहार : सतनारायण महतो की मौत से पानापुर में कोहराम - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 13 अप्रैल 2022

बिहार : सतनारायण महतो की मौत से पानापुर में कोहराम

deah-in-panapur-bihar
दानापुर. हर दिन की तरह मंगलवार की रात में पानापुर में नाव लगाकर सो गये.उस नाव पर कुल 11 लोग सो रहे थे.बुधवार की अहले सुबह अचानक नाव में पानी भर आया और 1 व्यक्ति को छोड़कर 10 लोगों ने किसी तरह से तैरकर अपनी जान बचा ली.नाव में पानी भरकर डूबने वाले सतनारायण महतो है.इस मौत से पानापुर में कोहराम मच गया है. प्राप्त जानकारी के अनुसार यह हादसा राजधानी पटना के दानापुर दियारा स्थित पानापुर का है.एक व्यक्ति की गंगा में डूबने से मौत हो गई.घटना की सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंची एसडीआरएफ की टीम शव को तलाशने में जुट गई. बताया जा रहा है कि जरुआ चिश्ती निवासी 48 वर्ष सतनारायण महतो पानापुर में नाव लगाकर उसमें सो रहे थे.बुधवार की अहले सुबह अचानक नाव में पानी भर आया और वो नाव समेत डूब गए. नाव पर कुल 11 लोग सो रहे थे. इस हादसे में 10 लोगों ने किसी तरह तैरकर अपनी जान बचाई. जबकि एक व्यक्ति सतनारायण महतो की  डूबने से मौत हो गई. घटना की सूचना मिलते ही मृतक के परिवार मौके पर पहुंचे और इसकी सूचना अकिलपुर थाने को दी. सूचना मिलते ही थाना द्वारा इसकी जानकारी एसडीआरएफ को दी गई. सूचना पाकर मौके पर पहुंची एसडीआरएफ टीम ने शव को तलाशना शुरू कर दिया है. इस संबंध में अकिलपुर थाना प्रभारी ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि शव की तलाश के लिए एसडीआरएफ की टीम को लगाया गया. घटना के बाद पूरे इलाके में अफरा-तफरी मच गई थी. सतनारायण महतो के तीन बेटे थे जिसमें अजय कुमार( 20 वर्ष), विनोद कुमार (17 वर्ष), शिव कुमार (15 वर्ष ) एवं पत्नी आशा देवी (45 वर्ष )का रो रो कर बुरा हाल है.आसपास के लोगों ने बताया कि सतनारायण महतो नाव चला कर अपने और परिवार का गुजारा करता था. सतनारायण महतो  के मौत के बाद परिजनों के बीच किस बात की चिंता सताने लगी है कि अब उनके तीन बच्चे और पत्नी का भरण पोषण कौन करेगा. प्राप्त जानकारी के अनुसार कोरोना काल से ही राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ) अलर्ट मोड में है. आपदा प्रबंधन विभाग ने एसडीआरएफ को अलर्ट मोड में रहने को कहा है.

कोई टिप्पणी नहीं: