बिहार : जगदानंद सिंह के छोटे बेटे जदयू में शामिल - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 12 अप्रैल 2022

बिहार : जगदानंद सिंह के छोटे बेटे जदयू में शामिल

jagdanand-son-join-jdu
पटना : बिहार में प्रमुख विपक्षी दल राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह के छोटे बेटे इंजीनियर अजीत सिंह लालू यादव के राजद की जगह नीतीश कुमार की जदयू में शामिल हो गए हैं। उन्होंने कहा कि वे नीतीश कुमार से अधिक प्रभावित हैं, और इसी प्रभाव का असर है कि वह आज जनता दल यूनाइटेड में शामिल हो गये हैं। अजीत सिंह को पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह और बिहार प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा ने जदयू में शामिल कराया। वहीं, जदयू में शामिल होने पर अजीत सिंह का कहना है कि वो बचपन से ही सीएम नीतीश कुमार के कामकाज को देख रहे हैं और उनसे काफी प्रभावित हैं। इसलिए बिना शर्त जेडीयू में शामिल हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुझे राजद से ज्यादा जदयू में सीखने का मौका मिलेगा। साथ ही यह भी कहा कि सही मायने में जेडीयू ही समाजवादियों की पार्टी है। उन्होंने यह भी कहा कि इससे उनके और परिवार के बीच या पिता से उनके रिश्ते खराब नहीं होंगे, बल्कि ये हमारी निजी सोच है। जानकारी हो कि, इससे पहले जगदानंद सिंह के बड़े बेटे सुधाकर भी बगावत कर चुके हैं। हालांकि अभी वो राजद के रामगढ़ से विधायक हैं। लेकीन, जगदानंद सिंह के बड़े बेटे सुधाकर सिंह 2010 में बगावत कर चुके हैं।जबकि उस समय जब उनके नाम पर राजद के तरफ से टिकट देने पर सहमति भी बन गई थी। लेकिन, उनके नाम पर उनके ही पिता जगदानंद सिंह तैयार नहीं हुए। इसके बाद सुधाकर सिंह को भाजपा ने अपना उम्मीदवार बना लिया लेकिन चुनाव में जगदानंद सिंह ने अपने बेटे के खिलाफ जमकर प्रचार किए और सुधाकर चुनाव भी हार गए। गौरतलब है कि, जगदानंद सिंह के चार बेटे हैं। दिवाकर सिंह, डॉक्टर पुनीत कुमार सिंह, सुधाकर सिंह जो रामगढ़ से विधायक हैं और इंजीनियर अजित कुमार सिंह। अजीत सिंह तब चर्चा में आए थे, जब उन्होंने अंर्तजातीय विवाह किया था।

कोई टिप्पणी नहीं: