मधुबनी : दो साल में नहीं बन सका एक किमी नाला, डीएम का अल्टीमेटम - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 13 अप्रैल 2022

मधुबनी : दो साल में नहीं बन सका एक किमी नाला, डीएम का अल्टीमेटम

madhubani-drenez-pending
मधुबनी : नगर में कोतवाली चौक से थाना मोड़ तक नाला चालू करना प्रशासन के लिए चुनौती बना हुआ है। स्टार्म ड्रेनेज प्रोजेक्ट के तहत शहर में बन रहे केनाल और नाला निर्माण कई वर्षों से अटका पड़ा है। कोतवाली चौक से थाना मोड़ तक नाला चालू करना प्रशासन के लिए चुनौती बना हुआ है। स्टार्म ड्रेनेज प्रोजेक्ट के तहत शहर में बन रहे केनाल और नाला निर्माण के तहत ही इस नाला का निर्माण हो रहा है। महज एक किमी के इस नाला के निर्माण में एजेंसी ने दो साल से अधिक का समय लगा दिया है। इसके बाद भी यह अधूरा ही है। डीएम अमित कुमार ने एक बार फिर से इसे पूरा करने का अल्टीमेटम दिया है। उन्होंने 30 अप्रैल तक इसे हर हाल में पूरा करने का आदेश दिया है। अब देखना है कि इस अल्टीमेटम को कितनी गंभीरता से एजेंसी लेती है, और काम पूरा करती है। क्योंकि इससे पहले भी दो बार दिये गये अल्टीमेटम का असर एजेंसी पर नहीं हुआ है, और काम की गति अपने हिसाब से ही चलता रहा है। इस नाला का निर्माण तत्कालीन डीएम एस.के. अशोक के समय में ही डीएम आवास के सामने से शुरू हआ। गति इतनी धीमी रहने से इतना वक्त गुजर गया। जिला प्रभारी मंत्री लेशी सिंह के साथ ही लगातार जिला प्रशासन के द्वारा चेतावनी दी जाती रही। इस नाला निर्माण के दौरान लाखों रुपये की सरकारी व गैर सरकारी संचरना की क्षति हुई है। इस क्षेत्र में चल रहे कारोबार को काफी नुकसान और सड़क को जर्जर बना देने के बाद दर्जनों लोगों के जख्मी होने का दर्द झेलने के बाद भी इसकी हालत बदतर ही है। नाला निर्माण नहीं बनने से शहर फिर डूबने की आशंका फिर से बनी है। इस नाला के निर्माण के लिए विभिन्न स्थानों पर जगह छोड़ा गया है, जहां से ढक्कन को हटाकर उसे साफ किया जा सके। लेकिन जिस तरह से नाल बना है, और ढ़क्कन दिया गया है, उसकी सफाई मैनूयल संभव नहीं। ऐसे में उसके लिए मॉर्डन मशीन की जरूरत होगी। लेकिन आज तक इस दिशा में कोई पहल नहीं हुआ है, और इधर आधे अधूरा बना नाला कचरा और मिट्टी से पट चुका है। थाना मोड़ पर इस नाला से पानी कि निकासी के लिए पंप हाउस का निर्माण किया जा रहा है। फिलहाल संचालित योजना के कार्यो को पूरा करने का आदेश डीएम अमित कुमार ने दिया है। उन्होंने समीक्षा के दौरान मॉनिटरिंग एजेंसी बूडको के कार्यपालक अभियंता पंचू पासवान को भी लगातार इसका प्रतिवेदन समर्पित करने को कहा है। उन्होंने उन्हें नगर निगम में भी बैठने का आदेश दिया गया है।

कोई टिप्पणी नहीं: