सिंधू ने बैडमिंटन एशिया चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीता - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 30 अप्रैल 2022

सिंधू ने बैडमिंटन एशिया चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीता

sindhu-won-bronze-medal
मनीला (फिलीपींस), 30 अप्रैल, ओलंपिक में दो पदक जीतने वाली पीवी सिंधू को शनिवार को यहां जापान की अकाने यामागुची से तीन गेम तक चले मुकाबले में हार मिली जिससे इस भारतीय खिलाड़ी ने बैडमिंटन एशिया चैम्पियनशिप (बीएसी) में अपना अभियान कांस्य पदक से समाप्त किया। सिंधू ने अच्छी शुरूआत की लेकिन वह इस लय को जारी नहीं रख सकी और एक घंटे छह मिनट तक चले सेमीफाइनल में शीर्ष वरीय और दुनिया की दूसरे नंबर की खिलाड़ी यामागुची से 21-13 19-21 16-21 से हार गयीं। यह इस टूर्नामेंट में सिंधू का दूसरा पदक है, उन्होंने 2014 गिमचियोन चरण में भी कांस्य पदक जीता था। हैदराबाद की खिलाड़ी ने पहला गेम 16 मिनट में आसानी से जीत लिया था। दूसरे गेम में चौथी वरीय सिंधू पर अंक के बीच में ज्यादा समय लेने के लिये एक अंक की ‘पेनल्टी’ लगायी गयी जिससे रैफरी के साथ उनकी बहस हो गयी। इस बहस से लय टूट गयी और यामागुची ने मुकाबला बराबरी पर ला दिया। जापान की खिलाड़ी ने लय हासिल कर ली और सिंधू को वापसी का मौका नहीं दिया। निर्णायक गेम में सिंधू शुरू से ही पिछड़ रही थीं। अंत में यामागुची ने पांच मैच प्वाइंट हासिल कर अंक जुटाये। अब सिंधू और यामागुची के बीच जीत का रिकॉर्ड 13-9 हो गया है। सिंधू की हार से भारत की व्यक्तिगत महाद्वीपीय चैम्पियनशिप में चुनौती भी समाप्त हो गयी।

कोई टिप्पणी नहीं: