मधुबनी : चौकीदार को पैसा देते है इसके बाद तस्करी करते है : शराब तस्कर - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 31 मई 2022

मधुबनी : चौकीदार को पैसा देते है इसके बाद तस्करी करते है : शराब तस्कर

  • कैमरा के सामने तस्कर ने बेखौफ वीडियो बनाकर सोशल मिडिया पर किया वायरल. 



मधुबनी (अजयधारी सिंह)
बिहार में शराब बंदी को प्रभावी बनाने के लिये पुलिस और प्रशासन ने अपनी पुरी ताकत झोंक दी है. इसके बाबजूद भी शराब बंदी कानून की सरेआम धज्जियाँ उड़ाई जा रही है. ऐसा ही एक मामला हरलाखी थाना क्षेत्र का है जहाँ कैमरा के सामने तस्कर ने बेखौफ वीडियो बनाकर सोशल मिडिया पर वायरल किया. साथ ही तस्करों द्वारा "चौकीदार को पैसा देते है इसके बाद तस्करी करते है" की बात कैमरा पर रिकॉर्ड की. शराबबंदी कानून के खुलेआम उल्लंघन का ताजा मामला हरलाखी थाना क्षेत्र के कलना गाँव से आया है. लेकिन यहाँ तो मामला कुछ हटकर ही है. शराब की तस्करी करने के लिए एक युवक होम डिलेवरी के लिए बाइक पर शराब लेकर जा रहा था. जिसका वीडियो सोशल मिडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. इतना ही नही शराब तस्कर यह भी बता रहा है, हर गाँव में शराब मिलती है और इसकी जानकारी सभी को है. वीडियो में दिख रहा है कि शराब तस्कर के पास इस बात की जानकारी भी है की कोई मेरा वीडियो बना रहा है. लेकिन युवक बेखौफ होकर कह रहा है, हम किसी से ङरने वाले नही है. वही दूसरी ओर एक शराब तस्कर ने कहा चौकीदार को पैसा देते है इसके बाद शराब की तस्करी करते है, इतना ही नही बेखौफ होकर चौकीदार को कह रहा है, पैसा देते है, इसके बाद शराब की तस्करी करते है, जिसका वीडियो शोसल मिडिया पर तेजी से वायरल हो रहा. वीडियो में दिखा चौकीदार का नाम रामलखन पासवान  बतया गया है. जो हरलाखी थाना में चौकीदार के पद पर कार्यरत है. वहीं एक युवक ने शराब पीकर चौराहे पर हाई वोल्टेज ड्रामा किया. जिसका वीडियो भी सोशल मिडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. बिहार में पूर्ण शराबबंदी को अमल में लाने को लेकर सरकार सख्ती बरत रही है. इसके लिए कड़े कानून बनाए गए हैं. पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को लगातार निर्देश दिए जा रहे हैं. बावजूद इसके पुलिस और प्रशासन इस पर पूरी तरह से लगाम नहीं लगा पा रहे है.

कोई टिप्पणी नहीं: