वेंकैया ने पुलिस बल को मजबूत करने का किया आह्वान - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 9 मई 2022

वेंकैया ने पुलिस बल को मजबूत करने का किया आह्वान

venkaiah-calls-for-strengthening-the-police-force
नयी दिल्ली 08 मई, उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने रविवार को साइबर और आर्थिक अपराधों तथा ऑनलाइन धोखाधड़ी से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए पुलिसकर्मियों के कौशल को उन्नत करने की आवश्यकता पर जोर दिया। श्री नायडू ने भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के पूर्व अधिकारी प्रकाश सिंह द्वारा ‘द स्ट्रगल फॉर पुलिस रिफॉर्म्स इन इंडिया’ शीर्षक से लिखित पुस्तक का यहां विमोचन करने के बाद समारोह को संबोधित करते हुए इस आशय की बात कही। उन्होंने कहा,“पुलिस सुधार एक अत्यंत महत्वपूर्ण और संवेदनशील विषय है। हमें अब इन सुधारों को लागू करने के लिए नए सिरे से जोर देना चाहिए। केंद्र और राज्य को पुलिस सुधारों में ‘टीम इंडिया’ की भावना के साथ काम करना चाहिए।” उपराष्ट्रपति ने उन मुद्दों पर भी प्रकाश डाला जिन्हें युद्ध स्तर पर सुलझाने करने की आवश्यकता है, जिसमें पुलिस विभागों में बड़ी संख्या में रिक्तियों को भरना भी शामिल है। उन्होंने जमीनी स्तर पर पुलिस बल को मजबूत करने का आह्वान किया जो ज्यादातर मामलों में सबसे पहले प्रतिक्रिया देने वाले होते हैं। उन्होंने कहा कि आम आदमी के प्रति पुलिसकर्मियों का व्यवहार विनम्र और मैत्रीपूर्ण होना चाहिए। उन्होंने वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों से इस संबंध में उदाहरण पेश करने का भी आह्वान किया। ‘आपातकाल’ का जिक्र करते हुए श्री नायडू ने कहा,“इस (पुलिस बल) का इस्तेमाल मानवाधिकारों को दबाने और सत्तारूढ़ सरकार के सभी राजनीतिक विरोधियों सहित हजारों लोगों को कैद करने के लिए किया गया था।” उन्होंने याद किया कि इसके बाद, 1977 में एक राष्ट्रीय पुलिस आयोग की स्थापना की गई जिसने पुलिस सुधारों के लिए विस्तृत बहुआयामी प्रस्तावों के साथ रिपोर्ट प्रस्तुत की। उपराष्ट्रपति ने बेहतर पुलिस व्यवस्था के लिए केंद्र द्वारा की गई कई पहलों पर प्रसन्नता व्यक्त की, जिसमें छोटे अपराधों और उल्लंघनों को कम करने के लिए एक परियोजना और कैदियों की पहचान अधिनियम, 1920 में संशोधन करने का कदम शामिल है। उन्होंने कहा कि इस कानून को 100 से अधिक वर्षों पहले पारित किया गया था। समाज में शांति और व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस व्यवस्था के महत्व को रेखांकित करते हुए श्री नायडू ने पुलिस के दिन-प्रतिदिन के कामकाज में प्रौद्योगिकी के अधिक से अधिक उपयोग को उच्च प्राथमिकता देने के लिए सरकार की सराहना भी की। राजनीति, विधायिका और न्यायपालिका सहित सार्वजनिक जीवन के सभी क्षेत्रों में सुधार का आह्वान करते हुए श्री नायडू ने व्यवस्था में लोगों का विश्वास बनाए रखने के लिए राजनेताओं और सिविल सेवकों के खिलाफ आपराधिक मामलों के त्वरित निपटान की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने निर्वाचित जनप्रतिनिधियों के बीच अनैतिक दलबदल को हतोत्साहित करने के लिए दलबदल विरोधी कानून में सुधार का भी आह्वान किया।

कोई टिप्पणी नहीं: