मधुबनी : मंहगाई व बेरोजगारी के खिलाफ माले निकाला प्रतिवाद मार्च - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 30 मई 2022

मधुबनी : मंहगाई व बेरोजगारी के खिलाफ माले निकाला प्रतिवाद मार्च

cpi-ml-proes-madhubani
मधुबनी : जिला मुख्यालय में सीपीआई, सीपीएम एवं भाकपा-माले के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने मंहगाई व बेरोजगारी के खिलाफ निकाला प्रतिवाद मार्च एवं जिला समाहरणालय के समक्ष किया प्रदर्शन वामदलों द्वारा महँगाई , बेकारी ,गिरते कानून व्यवस्था एवं साम्प्रदायिक उन्माद के खिलाफ  राष्ट्रव्यापी आन्दोलन के तहत मधुबनी रेलवे स्टेशन चौक से प्रतिरोध मार्च निकाला गया । प्रतिरोध मार्च का नेतृत्व सीपीआई जिला मंत्री मिथिलेश झा , सीपीएम जिला मंत्री मनोज यादव , भाकपा-माले जिला सचिव ध्रुवनारायण कर्ण , बिहार महिला समाज के महासचिव राजश्री किरण किये । प्रतिरोध मार्च मधुबनी के विभिन्न मार्गों से होते हुए समाहरणालय के मुख्य द्वार पर पहुँच कर प्रदर्शन करते हुए सभा मे तब्दील हुआ जिसकी अध्यक्षता  माले जिला सचिव ध्रुवनारायण कर्ण किये । सभा को सीपीआई राज्य परिषद सदस्य मनोज मिश्रा , लक्ष्मण चौधरी , मोतीलाल शर्मा , सत्यनारायण राय ,मनतोर देवी , महेश यादव , बालगोविंद यादव सीपीएम के रामजी यादव ,बाबुलाल महतो , गणपति झा ,उर्मिला देवी ,शशिभूषण प्रसाद ,कैलाश पासवान , भाकपा ( माले )के श्याम पंडित ,विशम्भर कामत ,योगेंद्र यादव , मनीष मिश्रा,सज्जन सदाय ,कामेश्वर राम ,रामप्रसाद पासवान, सिंहेश्वर पासवान , बिरेंद्र पासवान,अरबिंद पासवान सहित सैकड़ो बामपंथी कार्यकर्ता इस आंदोलन में भाग लिए । मधुबनी समाहरणालय पर सभा को सबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा बेतहाशा हो रही मंहगाई में वृद्धि एवं बेरोजगारी से आम लोग त्रस्त है । आमलोगों कर समस्याओं का निदान करने में केंद्र एवं राज्य सरकार विफल है । पूंजीपतियों को एवं मुनाफ़ाखोर को फायदा पहुंचाने के मुद्दा को आगे बढ़ाने की नीति बनाने में ये सरकार व्यस्त है । प्रसाशनिक तंत्र बेलगाम है ।  बेरोजगारी एवं भ्रस्टाचार एक दूसरे का पर्याय बन चुका है । राज्य में कानून व्यवस्था नाम का कोई चीज नही है । मधुबनी में भी पुलिस -सामंत-भूमाफिया-अपराधी गठजोड़ के कारण अवैध शराब का धंधा सहित निर्दोष दलित गरीबों को झूठे मुकदमों में फंसाया जा रहा है। हत्या ,अपहरण ,ब्लात्कारको रोकने एवम गुनाहगारों को जेल में बंदकर सजा दिलाने में पुलिस प्रशासन असफल है । वामदलों का राष्ट्र एवं राज्यव्यापी प्रतिरोध ,धरना प्रदर्शन सरकार का पोल खोलने एवं आमलोगों के हक की लड़ाई को आगे बढ़ाने के लिए किया जा रहा है और आगे भी जारी रहेगा।

कोई टिप्पणी नहीं: