मधुबनी : मई माह में मधुबनी को मिली दूसरी बड़ी सौगात। - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 26 मई 2022

मधुबनी : मई माह में मधुबनी को मिली दूसरी बड़ी सौगात।

  • अभियंत्रण महाविद्यालय मधुबनी एवं उसके नवनिर्मित भवनों का माननीय मुख्यमंत्री ने किया उद्घाटन, जिले में  चहुँओर खुशी की लहर।
  • मधुबनी में उच्च शिक्षा को लेकर एक नए शैक्षणिक वातावरण होगा होगा निर्माण, संस्थान के आसपास के क्षेत्र होंगे विकसित, प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रोजगार को भी मिलेगा बढ़ावा।

madhubani-engineering-college-inaugraion
मधुबनी : मई माह में मधुबनी को मिली दूसरी बड़ी सौगात। विगत 5 मई 2022 को मधुबनी चित्र कला संस्थान एवम मिथिला ललित  संग्रहालय के उद्घाटन के उपरांत आज अभियंत्रण महाविद्यालय मधुबनी एवं उसके नवनिर्मित भवनों का माननीय मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने वर्चुअल माध्यम से उद्घाटन किया। इसको लेकर जिले में  चहुँओर खुशी की लहर व्याप्त है। मधुबनी में उच्च शिक्षा को लेकर एक नए शैक्षणिक वातावरण का निर्माण होगा। जिला मुख्यालय से लगभग 10 किलोमीटर दूर पंडौल प्रखंड में अवस्थित मधुबनी अभियंत्रण महाविद्यालय की स्थापना एवं संस्थान के भवनों का निर्माण कार्य का उद्घाटन माननीय मुख्यमंत्री द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम किया गया । गौरतलब हो कि विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, मंत्रालय, बिहार सरकार द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम के दौरान कुल 17 योजनाओं का उद्घाटन माननीय मुख्यमंत्री द्वारा किया गया , जिसमे  मधुबनी अभियंत्रण महाविद्यालय प्रमुख है।7.5 एकड़ के भू भाग में फैले इस महाविद्यालय में एडमिनिस्ट्रेटिव बिल्डिंग, एकेडमिक बिल्डिंग, 300 छात्रों एवं 200 छात्राओं के लिए अलग अलग छात्रावास, कर्मियों के लिए आवास, गेस्ट हाउस, फैकल्टी रेसिडेंस के साथ साथ सभी आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित वर्कशॉप बिल्डिंग का भी निर्माण कार्य किया गया है। इस कार्य से स्थानीय छात्र छात्राओं को अभियंत्रण की शिक्षा प्राप्त करने में काफी सहूलियत मिलेगी।। संस्थान के आसपास के क्षेत्र विकसित होंगे वही प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रोजगार को भी बढ़ावा मिलेगा। पंडौल बाजार भी विकसित होगा। इसके निर्माण में 73.13 करोड की लागत आई है।सरकार के संकल्प बिहार के हर जिले में इंजीनियरिंग कॉलेज की स्थापना के तहत इसका निर्माण किया गया है,इससे जिले में उच्च शिक्षा को लेकर एक नए शैक्षणिक वातावरण का निर्माण होगा ।  सरकार की यह कोशिश है कि इस संस्था में गुणवतापूर्ण शिक्षा के साथ साथ प्लेसमेंट की भी सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। कार्यक्रम के दौरान माननीय मुख्यमंत्री  द्वारा इस नव निर्मित भवन के देखरेख और अध्यापन कार्य हेतु फैकल्टी की बहाली पर भी जोर दिया गया। उन्होंने कहा कि सरकार भवनों के गुणवत्तापूर्ण निर्माण के साथ-साथ उसके रखरखाव एवं साफ-सफाई को लेकर भी गंभीर है । उक्त अवसर पर आयोजित उद्घाटन कार्यक्रम में जिला समाहरणालय स्थित एन आई सी वीडियो कांफ्रेंसिंग कक्ष में जिलाधिकारी,  अरविन्द कुमार वर्मा के साथ माननीय सदस्य, बिहार विधान परिषद , घनश्याम ठाकुर, माननीय सदस्य, बिहार विधान सभा, समीर कुमार महासेठ,कार्यपालक अभियंता भवन निर्माण विभाग अनिल कुमार आदि उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं: