जानकी नवमी पर फिल्म ‘बबितिया’ के लिए सम्मानित किये गये निर्देशक सुनील - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 11 मई 2022

जानकी नवमी पर फिल्म ‘बबितिया’ के लिए सम्मानित किये गये निर्देशक सुनील

  • -    यह सम्मान मात्र ‘बबितिया’ का सम्मान नहीं, बल्कि मिथिला की समस्त बेटियों का सम्मान है : मृदुला मिश्र
  • -    इस तरह की फिल्म के निर्माण से समाज में एक सकरात्मक संदेश जाता है : शारदा सिन्हा

babiia-dieco-sunil-honoed
मधुबनी : जानकी नवमी पर मैथिली फीचर फिल्म ‘बबितिया’ के लिए मधुबनी निवासी निर्माता और निर्देशक सुनील कुमार झा को पटना के विद्यापति भवन में सम्मानित किया गया। उनको यह सम्मान सुप्रसिद्ध लोक गायिका शारदा सिन्हा, चाणक्या नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी की कुलपति श्रीमती मृदुला सिन्हा और मैथिली महिला संघ की महिलाओं के द्वारा प्रदान किया गया। इस अवसर पर ‘बबितिया’ फिल्म के कलाकार और सहयोगी उपस्थित थे।

 

प्रत्येक मिथिवासी को यह फिल्म देखनी चाहिए : शारदा सिन्हा

मैथिली महिला संघ, पटना की ओर से ‘बबितिया’ सिनेमा के निर्माता और निर्देशक सुनील कुमार झा को यह सम्मान नारी सशक्तीकरण को बढ़ावा देने के लिए दिया गया। इस फिल्म के संबंध में बात करते हुए पद्म भूषण श्रीमती शारदा सिन्हा ने कहा कि इस तरह की फिल्म के निर्माण से समाज में एक सकारात्मक संदेश जाता है। इस फिलम को प्रत्येक मिथिलावासी को देखना चाहिए कि कैसे एक साधारण परिवार की लड़की अपनी हिम्मत के बल पर अपने लक्ष्य को प्राप्त करती है। उन्होंने इस फिल्म के निर्माण के लिए संपूर्ण टीम को बधाई और शुभकामनाएं दी।

 

सीता की तरह है ‘बबितिया’ का संघर्ष : मृदुला मिश्र

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पूर्व न्यायमूर्ति और चाणक्या नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी की कुलपति श्रीमती मृदुला मिश्र ने कहा कि वस्तुत: यह सम्मान मात्र ‘बबितिया’ का सम्मान नहीं है, बल्कि यह सम्मान मिथिला की समस्त बेटियों का सम्मान है जो अपने जीवन स्तर में सुधार लाने के लिए संघर्षरत हैं। जिस तरह जानकी का जीवन धैर्य और साहस का परिचायक है, उसी तरह बबितिया का जीवन संघर्ष है। यह फिल्म मिथिला की सभी बेटियों के लिए एक प्रेरणा स्रोत है।

 

एक साधारण लड़की की संघर्ष गाथा है ‘बबितिया’ : सचिव

इस संबंध मे मैथिली महिला संघ की सचिव श्रीमती कल्पना झा ने कहा कि यह फिल्म नारी सशक्तीकरण को बढ़ावा देती है। फिल्म ‘बबितिया’ एक सामान्य परिवार की लड़की की संघर्ष कथा है जो अपने बल बूते अपने लक्ष्य को हासिल करती है। इसलिए जानकी नवमी के अवसर पर फिल्म के निर्देशक सुनील कुमार झा आ और उनकी टीम को इस सम्मान के लिए चुना गया।

 

जल्द शुरू की जाएगी फिचर फिल्म ‘झिलमिलिया’ की शूटिंग

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए निर्माता निर्देशक सुनील कुमार झा ने कहा कि स्त्री सशक्तीकरण को बढ़ावा देने का हमारा प्रयास आगे भी जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि जल्द ही जानकी फिल्मस प्रोडक्शन लिमिटेड द्वारा अगली फिल्म ‘झिलमिलिया’ की शूटिंग शुरू की जाएगी। यह फिल्म स्त्री सशक्तिकरण को बढ़ावा देगी ही, साथ ही हाइवे बनने के बाद एक बदले हुए गांव की व्यथा-कथा भी कहेगी।

कोई टिप्पणी नहीं: