मधुबनी : मिथिला के लिए एक और ऐतिहासिक दिन। - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 7 मई 2022

मधुबनी : मिथिला के लिए एक और ऐतिहासिक दिन।

darbhanga-saharsa-rail-sars

झंझारपुर (मधुबनी)
से सुपौल होते हुए सहरसा के बीच रेल सेवा की आज शुरुआत हुई है। इससे 88 साल बाद मिथिला के दोनों हिस्से फिर से रेल के जरिये जुड़ गये हैं।1887 में निर्मित कोसी रेल पुल के 1934 के भूकंप में ध्वस्त होने से मधुबनी से सुपौल का संपर्क टूट गया था। इस कारण दरभंगा, मधुबनी के लोगों को समस्तीपुर, बेगूसराय, खगड़िया होकर सुपौल जाना पड़ता था, जिसमें काफी वक्त लगता था।अब रेल मार्ग के जरिए मिथिला की डायरेक्ट कनेक्टिविटी उत्तर-पूर्व के राज्यों के साथ हो जाएगी। इससे मिथिला के विकास को नई गति मिलेगी।दरभंगा 

कोई टिप्पणी नहीं: