बिहार : नीतीश-तेजस्वी की बैठक पर चिराग ने निशाना साधा - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 14 मई 2022

बिहार : नीतीश-तेजस्वी की बैठक पर चिराग ने निशाना साधा

chirag-aack-niish-ejaswi-mee
पटना, 13 मई, लोक जनशक्ति पार्टी के पूर्व अध्यक्ष और जमुई से सांसद चिराग पासवान ने शुक्रवार को दावा किया कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव से हाल में की मुलाकात के दौरान खुद के सत्ता में बने रहने को लेकर बातचीत की होगी। चिराग पासवान जातिगत जनगणना के मुद्दे पर इस सप्ताह की शुरुआत में कुमार की राजग नेता यादव के साथ बैठक के बारे में पत्रकारों के सवालों का जवाब दे रहे थे। वह अपने दिवंगत पिता रामविलास पासवान द्वारा बनाई गई पार्टी में अब अलग-थलग खड़े हैं। कुमार और यादव के बीच हुई बातचीत पर कटाक्ष करते हुए चिराग पासवान ने पूछा कि बिहार में जातिगत जनगणना के लिए बंद कमरे में कौन सी बात हो रही है या कुमार अपनी सहयोगी भाजपा से एक फिर अलग होकर सत्ता में बने रहने के तरीकों पर चर्चा कर रहे हैं? उन्होंने मुख्यमंत्री द्वारा यादव को ‘‘इतना समय’’ देने पर आश्चर्य जताते हुए कहा कि हाल में कुमार राजद द्वारा आयोजित इफ्तार दावत में शामिल होने के लिए पैदल गए थे। कुमार ने यादव की धन शोधन के मामले में कथित संलिप्तता को लेकर राजद से संबंध तोड़ लिया था और भाजपा से हाथ मिला लिया था। जातिगत जनगणना की मांग का पूर्ण समर्थन करते हुए चिराग पासवान ने कहा, “केंद्र पर शासन करने वाली मुख्यमंत्री की सहयोगी पार्टी ने स्पष्ट कर दिया है कि वह जातिगत जनगणना नहीं कराएगी, इसलिए यह विश्वास करना कठिन है कि (यादव के साथ) उनकी बातचीत इस मुद्दे पर हुई थी। कुमार कुर्सी पर बने रहने के लिए समझौता करने की कोशिश कर रहे होंगे।” ह पूछे जाने पर कि क्या उन्हें यादव के पिता लालू प्रसाद के नेतृत्व वाले राजद के साथ कुमार के फिर से जाने की संभावना लगती है, चिराग पासवान ने कहा, ‘‘क्यों नहीं, मुख्यमंत्री की सत्ता की प्यास ने उनके कई राजनीतिक चेहरे को जन्म दिया है। इसकी भी निश्चित रूप से संभावना है।”

कोई टिप्पणी नहीं: