ज्ञानवापी में कल्पना से ज्यादा दिखे साक्ष्य, 40 फीसदी सर्वे हुआ पूरा - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 14 मई 2022

ज्ञानवापी में कल्पना से ज्यादा दिखे साक्ष्य, 40 फीसदी सर्वे हुआ पूरा

जी हां, करीब चार घंटे तक तहखानों में हुई वीडियोग्राफी के बाद वादी पक्ष का दावा है कि सर्वे में कल्पना से ज्यादा साक्ष्य दिखे है। सर्वे में कोई बाधा न आएं इसके लिए चप्पे-चप्पे पर मौजूद रहे जवान। मैदागिन से गोदौलिया व लहुराबीर से गोदौलिया तक सड़कों पर कर्फ्यू जैसा नजारा दिखा। सिर्फ अंतिम क्रियाकर्म के लिए शवों के साथ वालों को ही जाने की रही छूट। मीडिया को ज्ञानवापी परिसर से रखा गया दूर। डीजीपी और मुख्य सचिव ने पूरे मामले की मॉनिटरिंग की 

gyanwapi-servey
ज्ञानवापी परिसर में श्रृंगार गौरी सहित अन्य विग्रहों की वस्तुस्थिति जानने के लिए शनिवार को पहले दिन सुबह 8 बजे से एडवोकेट कमिश्‍नर की कार्यवाही शुरू हो गई, जो दोपहर 12 बजे खत्म हो गई। एडवोकेट कमिश्नर की मौजूदगी में सर्वेक्षण के दौरान पूरी टीम ने एक-एक चीज का बारीकी से निरीक्षण किया। हिंदू पक्ष ने कहा कि 50 फीसदी सर्वे पूरा हो चुका है और कल्पना से ज्यादा साक्ष्य दिखे। उम्मीद के मुताबिक सर्वे को सही बताया। उधर, सर्वे में कोई बाधा न आएं इसके लिए जिला प्रशासन ने सुबह से ही कड़ी चौकसी रखी। आलम यह था पूरे इलाके में कर्फ्यू जैसा माहौल रहा। इस दौरान सड़के बीरान पड़ी थी। सिर्फ अंतिम क्रियाकर्म के लिए शवों के साथ वालों को ही जाने की छूट थी। मंदिर से 100 मीटर पहले बैरिकेटिंग लगाकर मीडिया को भी जाने से रोक दिया गया। जबकि आम जनमानस को ज्ञानवापी परिषद से लगभग एक किमी पहले ही बैरिकेडिंग करके रोक दिया गया। पास-पड़ोस के लोग घरों में कैद रहे। वहीं बाबा दरबार भी पूरी तरह में छावनी में तब्दील रहा। सुरक्षा व्‍यवस्‍था को लेकर डीजीपी और मुख्य सचिव भी लगातार कमिश्‍नर की कार्यवाही का जायजा लेते रहे। अब शेष कार्यवाही 15 मई रविवार को पूरी की जाएगी। सूत्रों के अनुसार चार कमरों की जांच शनिवार को की गई है, जबकि उम्‍मीद है कि शेष सर्वे का कार्य रविवार को पूरा कर लिया जाएगा।  सुबह आठ से नौ बजे के बीच एडवोकेट कमिश्नर समेत वादी-प्रतिवादी पक्ष के कुल 52 सदस्‍यों ने मस्जिद परिसर में प्रवेश किया। सुरक्षा कारणों से टीम के सभी लोगों का मस्जिद में प्रवेश से पहले ही मोबाइल बाहर ही सुरक्षा टीम द्वारा जमा करा लिया गया। इस दौरान सुरक्षा दस्‍तों के साथ सदस्‍यों की बहस भी हुई। हालांकि, शेष लोगों के समझाने बुझाने के बाद लोगों ने अपनी मोबाइल जमा भी कर दी। इसके बाद दोनों पक्षों की सहमति से एक- एक क्षेत्र का सर्वे शुरू किया गया। तहखाने के ताले खोलकर अधिवक्ता आयुक्त अजय कुमार मिश्र ने सर्वे शुरू किया। दो कमरों के ताले तो आसानी से खुल गए लेकिन तीसरे कमरे का ताला नहीं खुलने के कारण ताले को तोड़ना पड़ा। तहखाना में एक जहरीला सांप भी मिलने की अपुष्‍ट सूचना मिली, जिसे पकड़ने के लिए वन विभाग और सपेरों से भी संपर्क करने की भी जानकारी सामने आई। दोपहर तक परिसर में टीम ने संबंधित क्षेत्रों में चक्रमण कर जायजा लिया और संबंधित की वीडियोग्राफी भी की। पश्चिमी द्वार के बेसमेंट का सर्वे शनिवार को दोपहर 12 बजे तक पूरा कर लिया गया। अब शेष क्षेत्रों और बेसमेंट का रविवार को फिर से सर्वे किया जाएगा। जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि अदालत के फैसले के अनुरूप ही कार्यवाही की गई है, शेष कार्यवाही कल पूरी की जाएगी। अदालत के निर्देशानुसार पूरी कार्यवाही की प्रक्रिया को गोपनीय रखा जा रहा है। 


चप्पे-चप्पे पर तैनात रहे जवान 

ज्ञानवापी सर्वे को लेकर वाराणसी कमिश्नरेट में अलर्ट जारी रहा। सोशल मीडिया पर निगरानी रखी जा रही है। मंदिर के आसपास की सभी दुकानें बंद रहीं। मैदागिन और गोदौलिया की ओर से ज्ञानवापी जाने वाले रास्ते को आम लोगों के लिए बंद कर दिया गया था। बाबा के भक्तों को गेट नंबर एक से मंदिर में प्रवेश मिला। काशी विश्वनाथ धाम क्षेत्र छावनी में तब्दील रहा। किसी भी तरह का पैदल मूवमेंट या गाड़ियों का मूवमेंट इस सड़क पर न हो इसकी पुख्‍ता व्‍यवस्‍था की गई। इसके अलावा गलियों पर भी भारी पीएसी की तैनाती रही। पुलिस फोर्स के साथ चप्पे- चप्पे पर लोकल पुलिस और पीएसी के साथ पैरामिलिट्री फोर्सेस की तैनाती की गई है। 


चार घंटे कार्रवाई 

कोर्ट की गठित टीम ने परिसर में बने तहखानों और उसके अलग- अलग हिस्‍सों को सुबह नौ बजे के बाद काफी करीब से निहारा। सभी की कई एंगल से वीडियोग्राफी करवाई गई। टीम ने एक एक कर तहखाने के अलग अलग हिस्‍सों को जांचा है। सूत्रों के अनुसार टीम ने पहले ग्राउंड फ्लोर पर ग्रिल और बैरिकेडिंग के आसपास साक्ष्‍यों का संकलन किया है। वहीं अदालत के आदेश पर परिसर की वीडियोग्राफी के लिए विशेष कैमरा और विशेष रोशनी की व्यवस्था की गई है। दूसरी ओर वर्षों से बंद तहखाने में बिजली की व्यवस्था नहीं होने और काफी अंधेरा व सीजन होने की वजह से टीम बैटरी वाली बड़ी टार्च लेकर पहुंची। घरों और छतों पर रूफ टॉप सुरक्षा बलों की तैनाती सुबह सात बजे ही कर दी गई। वहीं काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन और पूजन के लिए आस्‍थावानों को गेट नंबर-1 से प्रवेश कराया गया, जबकि ज्ञानवापी के पास मौजूद गेट नंबर चार को पूरी तरह से बाहरी लोगों के लिए बंद कर दिया गया। 


17 मई को अदालत में पेश होगी रिपोर्ट

अदालत ने इस मामले में सुनवाई करते हुए नए सिरे से सर्वे का आदेश दिया है। 17 मई को अदालत में इस मामले की रिपोर्ट प्रस्तुत की जानी है। शनिवार से शुरू होने वाली सर्वे की कार्रवाई 16 मई तक हर दिन सुबह आठ बजे से दोपहर 12 बजे तक जारी रहेगी। इससे पहले छह मई को सर्वे की कार्रवाई शुरू हुई थी, जो हंगामे के कारण सात मई को रुक गई। सात मई को ही अंजुमन इंतजामिया मसाजिद कमेटी ने अदालत में प्रार्थना पत्र देकर अधिवक्ता आयुक्त (कोर्ट कमिश्नर) को बदलने की मांग कर दी थी। अदालत ने गुरुवार को यह मांग खारिज कर दी। 


एक मस्जिद को खोया है दूसरी  को नहीं खोएंगे- ओवैसी

आईएमआई प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने ज्ञानवापी सर्वे को लेकर बीजेपी सरकार पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि, बाबरी मस्जिद पर कोर्ट का फैसला आ गया और अब ज्ञानवापी का मसला शुरू हो गया. हुकूमत को ये बात बता रहा हूं कि हमने एक बाबरी मस्जिद को खोया है दूसरी मस्जिद को हरगिज नहीं खोएंगे.


टीम में डाक्टर भी 

मस्जिद के अंदर जिन तहखानों को खोला गया है, वहां जहरीले जीवों के होने की आशंका है. ऐसे में सर्वे टीम के साथ डॉक्टर और जहरीले जीवों से निपटने वाले विशेषज्ञ की टीम भी शामिल है. तीसरे तहखाने की सफाई की जा चुकी है. 


जस्टिस चंद्रचूड़ की बेंच करेगी सुनवाई

सुप्रीम कोर्ट में न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली बेंच वाराणसी में काशी विश्वनाथ मंदिर से सटे ज्ञानवापी मस्जिद परिसर के सर्वेक्षण पर रोक लगाने की मांग वाली याचिका पर सुनवाई करेगी. जस्टिस चंद्रचूड़ के समक्ष मामले को सूचीबद्ध करने के लिए रजिस्ट्री को निर्देश देने का आदेश शुक्रवार रात को सुप्रीम कोर्ट की वेबसाइट पर अपलोड किया गया, जहां भारत के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना ने निर्देश दिया कि मामले को न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ के समक्ष सूचीबद्ध किया जाए.


सोशल मीडिया पर निगरानी रखने के निर्देश

ज्ञानवापी सर्वे को लेकर कमिश्नरेट की और से लगातार अलर्ट जारी किया जा रहा है. काशी और वरुणा जोन के डीसीपी को निर्देशित किया गया है कि मंदिर परिक्षेत्र के आस-पास सुरक्षा बढ़ाई जाए. इसके अलावा मिश्रित आबादी में गश्त और निगरानी बढ़ाने के भी निर्देश दिए हैं. इसके साथ ही सोशल मीडिया पर निगरानी रखने के लिए कहा गया है.


सर्वे के बाद बोले हिंदू पक्ष के बिसेन

ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे के बादबाहर निकले विश्व वैदिक सनातन संघ के प्रमुख जितेंद्र सिंह बिसेन ने कहा है कि वहां कल्पना से बहुत कुछ ज्यादा है। उनका कहना है कि मस्जिद के तहखाने के चार कमरों और पश्चिमी दीवार के सर्वे हुआ. सर्वे के दौरान क्या मिला, इस सवाल पर जितेंद्र सिंह बिसेन ने कहा कि मेरी नहीं, हम सबकी कल्पना से भी अधिक बहुत कुछ है. उन्होंने कहा कि कल के सर्वे के लिए भी बहुत कुछ है. सर्वे की रिपोर्ट भी सबके सामने आएगी। उन्होंने कहा कि न्यायालय के निर्देश के मुताबिक सर्वे हो रहे है. दोनों ही पक्षों ने अपनी-अपनी बातें रखीं. सर्वे में कोई व्यवधान नहीं आया। 


सर्वे रिपोर्ट गोपनीय रखने का है निर्देश

ज्ञानवापी मस्जिद में सर्वे के दौरान मौजूद रहे वकीलों ने ये भी कहा कि कल भी सर्वे होगा. इसके बाद का जो अपडेट होगा, उसकी जानकारी कल सर्वे के बाद ही मिल पाएगी. दीवारों पर कोई चिह्न, प्रतीक चिह्न मिला? तहखामें क्या मिला? इस सवाल का जवाब देने से वादी पक्ष के जितेंद्र सिंह बिसेन के साथ ही वकील तक, हर कोई बचता रहा. जितेंद्र सिंह बिसेन से लेकर वकीलों तक, सभ्भी ने ये कहा कि कोर्ट का मामला है. इसमें क्या मिला, इस संबंध में कोई जानकारी नहीं देनी है. कोर्ट ने सर्वे की रिपोर्ट को अत्यंत गोपनीय रखने का निर्देश दिया है. लेकिन जितेंद्र सिंह बिसेन के इस दावे के बाद कि कल्पना से ज्यादा है, ये माना जा रहा है कि हिंदू पक्ष ने कोर्ट में जो दावा किया था, उसके पक्ष सर्वे के दौरान कुछ मिला होगा.


15 मई को भी ज्ञानवापी मस्जिदमें सर्वे

कोर्ट की ओर से नियुक्त एडवोकेट कमिश्नर कल यानी 15 मई को भी ज्ञानवापी मस्जिद में सर्वे करेंगे. जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने भी वीडियो बयान कर इसकी पुष्टि कर दी है. उन्होंने कहा है कि 15 मई को भी सुबह 8 बजे से सर्वे किया जाएगा. कहा जा रहा है कि मस्जिद के तहखानों का सर्वे हो गया है. ऐसे मेंअब 15 मई को मस्जिद के ऊपर स्थित कमरों और अन्य जगह का सर्वे होगा. पश्चिमी दीवार और मस्जिद की अन्य दीवारों का सर्वे भी एडवोकेट कमिश्नर अजय कुमार मिश्राकर सकते हैं


दो नहीं, चार तहखाने 

सूत्रों ने बताया कि ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में पहले दो तहखानों की बात कही जा रही थी. हालांकि वहां सर्वे टीम को चार तहखाने मिले, जिसकी वीडियोग्राफी की गई है. इसके अलावा यहां सुरंगनुमा पांचवां तहखाना भी मिला, जिसका सर्वे करने के लिए टीम कल (रविवार को) अंदर जाएगी. इसके साथ ही उन्होंने बताया कि यहां मंदिर के शिखर की जगह मस्जिद का गुंबद रखे जाने के संकेत मिले हैं. वहीं तहखानों के अंदर त्रिशूल, स्वास्तिक, प्राचीन शिलाएं, खंडित मूर्तियां, और दिए रखने की जगह मिली है. इसके अलावा दीवारों पर नाग और स्वान की कलाकृति भी मिली है.


शांतिपूर्ण तरीके से चला सर्वे 

वाराणसी के पुलिस आयुक्त ए सतीश गणेश ने बताया, ‘सर्वे का काम शांतिपूर्ण तरीके से चला. किसी भी पक्ष ने कोई अवरोध उत्पन्न नहीं किया. सब कुछ सामान्य है. हम (पुलिस आयुक्त और जिला मजिस्ट्रेट) सर्वे कार्य की बारीकी से निगरानी कर रहे हैं.’ उन्होंने कहा, ‘आज का सर्वेक्षण पूरा हो गया है. कल (रविवार) यह एक बार फिर शुरू किया जाएगा.’




--सुरेश गांधी--

कोई टिप्पणी नहीं: