भारतीय चाहे जहां रहे, भारतीयता साथ रहती है : मोदी - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 2 मई 2022

भारतीय चाहे जहां रहे, भारतीयता साथ रहती है : मोदी

indian-carry-nationalism-modi
नयी दिल्ली, 01 मई, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कहा कि भारतीय चाहे दुनिया के किसी हिस्से में कितनी ही पीढ़ियों तक रहें, वे अपने अंदर भारतीयता, देश के लिए वफादारी और लोकतांत्रिक मान्यताएं साथ लेकर चलते हैं। प्रधानमंत्री मोदी कनाडा के मरखम, ओंटारियो में स्थित सनातन मंदिर सांस्कृतिक केंद्र में सरदार पटेल की प्रतिमा के अनावरण के मौके पर वर्चुअल संबोधन कर रहे थे। श्री मोदी ने कहा, "एक भारतीय दुनिया में कहीं भी रहे, कितनी ही पीढ़ियों तक रहे, उसकी भारतीयता और भारत के प्रति उसकी निष्ठा लेश मात्र भी कम नहीं होती। वह भारतीय जिस देश में रहता है, पूरी ईमानदारी के साथ उस देश की सेवा करता है। जो लोकतांत्रिक मूल्य, जो कर्तव्यों का एहसास उसके पुरखे भारत से ले गए होते हैं, वे उसके दिल के कोने में हमेशा जीवंत रहते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि भारत सिर्फ एक देश नहीं बल्कि एक विचार है।" प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत एक शीर्ष चिंतन है जो वसुधैव कुटुंबकम की बात करता है। उन्होंने कहा कि भारत दूसरों के नुकसान की कीमत पर अपने उत्थान के सपने नहीं देखता। भारत अपने साथ सम्पूर्ण मानवता के और पूरी दुनिया के कल्याण की कामना करता है। श्री मोदी ने कहा, "सनातन मंदिर में सरदार पटेल की यह प्रतिमा न सिर्फ हमारे सांस्कृतिक मूल्यों को मजबूत करेगी, बल्कि दोनों देशों के बीच सुगम रिश्तों का एक प्रतीक भी बनेगी।" सनातन मंदिर सांस्कृतिक केंद्र (एसएमसीसी) कनाडा का एक मंदिर और सांस्कृतिक केंद्र है जो कनाडा में ग्रेटर टोरंटो क्षेत्र के हिन्दू समुदाय को समर्पित है। प्रधानमंत्री ने कहा कि कनाडा की अपनी यात्रा के दौरान उन्होंने सनातन मंदिर सांस्कृतिक केंद्र के सकारात्मक प्रभाव को महसूस किया है। उन्होंने विशेष रूप से अपनी 2015 की यात्रा के दौरान भारतीय मूल के लोगों के स्नेह और प्यार का जिक्र किया। 

कोई टिप्पणी नहीं: