करौली में हुआ वो एक प्रकार से प्रयोग था : गहलोत - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 2 मई 2022

करौली में हुआ वो एक प्रकार से प्रयोग था : गहलोत

karoli-was-prayog-gahlo
जयपुर 01 मई, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर देश को धर्म एवं जाति के नाम पर बांटने का प्रयास करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि जो करौली में हुआ वो एक प्रकार से प्रयोग था। श्री गहलोत ने आज मीडिया से यह बात कही। उन्होंने कहा कि करौली में जो घटना हुई, हमने तो रोक दिया राजस्थान भर में और रामनवमी पर सब धर्मों ने मिलकर जुलूस निकले परंतु करौली में उनका जिस रूप में प्रयोग हुआ वही प्रयोग रामनवमी पर सात राज्यों में हुआ है, दंगे भड़के, फिर बुलडोजर आ गए चलाने के लिए। मुख्यमंत्री ने कहा "जब प्रधानमंत्रीजी ने मीटिंग की दिल्ली में तो मैंने सुना है डॉ किरोड़ी मीणा के बारे में कहा गया बाकि एमपी कुछ नहीं कर रहे हैं,जो किरोड़ी मीणा करते है वो तुम सब करो,मतलब धमाल-पट्टी करो, धमाल-पट्टी होगी,हिंसा होगी,अशांति रहेगी तो काम रुकता है सरकार का,डिस्टर्ब होता है,विकास रुकता है।" उन्होंने कहा कि आरएसएस और भाजपा ने तय कर रखा है कि हमें इस देश को किस प्रकार बांटना है हिंदू-मुस्लिम के, धर्मों के बीच में, जाति के बीच में, ये उनके एजेंडा का पार्ट है और ये अभी तो शुरुआत है, आने वाले समय में और बड़े अटैक करेंगे, मुख्यमंत्री पर करेंगे, सरकार पर करेंगे, इनकी योजना बनाई है। उन्होंने कहा अलवर जिले के राजगढ़ में भाजपा का खुदका नगरपालिका का बोर्ड, वहां 35 में से 34 पार्षद इनके वो प्रस्ताव पास करते हैं और मंदिर गिरा देते हैं और अभी तक उस इश्यू को ये जिंदा बनाए हुए है क्यूंकि ध्रुवीकरण करना है, कांग्रेस को बदनाम करना है, जनता को सच्चाई का साथ देना चाहिए तब जाकर इनको सबक मिलेगा । श्री गहलोत ने बिजली संकट का जिक्र करते हुए कहा कि बिजली संकट 16 राज्यों में एक साथ आया है, हर राज्य अपनी-अपनी कोशिश कर रहे होंगे कि इसको मिनिमम करें, पब्लिक को तकलीफ कम से कम हो, हम लोग भी लगे हुए हैं, हमारा प्रयास है कि बिजली संकट के इस समय में लोगों को कम से कम परेशानी हो, जनता का भी सहयोग मांगा है कि आप भी बिजली की बचत करें।

कोई टिप्पणी नहीं: