झाबुआ (मध्य प्रदेश) की खबर 27 मई - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 27 मई 2022

झाबुआ (मध्य प्रदेश) की खबर 27 मई

टायर फटने से तूफान पलटी  आधा दर्जन हुवे घायल


jhabua news
पारा। समीपस्थ ग्राम झुमका में तेज गति से आरही तूफान वाहन टायर फटने से पलटी खा गया । जिसमे बैठे आधा दर्जन लोग घायल हो गये। शुक्रवार दोपहर करीब साढ़े बारह बजे के लगभग ग्राम झुमका में ग्राम पिथनपुर की तरफ से आ रहा वाहन तूफान एमपी 42 बी बी 1687 का टायर अचानक फट गया  । जिससे तूफान में बैठी आधा दर्जन सवारी घायल हो गई।  घायलो को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पारा पर लाया गया जहाँ पर उनका प्राथमिक उपचार किया गया।  बताया जाता है कि तूफान ने सवार सभी लोग विवाह की खरीदारी करने के लिये पारा आरहे थे। कि तभी अचानक तूफान का अगला टायर फट गया जिससे तूफान असंतुलित होकर पलटी खा गई।

ये हुवे घायल - रिछू पिता भुवन सिह करम सिंह पिता जुवान सीह रजन पिता भट्टू ग्राम गुराडिया जिला धार कंमति पति रिजन ग्राम गुराड़िया रुखा पति सुरेश  ओर  सुरेश भूरिया दलोदा मंदसौर रमीला पति धर्मेंश ग्राम ढेकल  चोट आई जिनका उपचार सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पारा पर किया गया।


मोदी सरकार के 8 साल पूरे, कल्याणकारी 8 योजनाओं से घर-घर में पीएम मोदी लोकप्रिय - सांसद गुमानसिंह डामोर

  • कल्याणकारी योजनाओं से सरकार की लोकप्रियता बढ़ी ।

jhabua news
झाबुआ । प्रधानमंत्री के रूप  में श्री नरेन्द्र मोदीजी के कार्यकाल के आठवर्ष पूरे होने पर रतलाम,झाबुआ,आलीराजपुर के सांसद गुमानसिंह डामोर ने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा है कि  वर्ष 2014 में जब श्री नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बने तो उनके सामने कई चुनौतियां थीं. लेकिन पिछले आठ साल के दौरान सरकार ने कई कल्याणकारी योजनाओं की शुरुआत की, जिससे सरकार की लोकप्रियता काफी बढ़ गई, आज कई सफल योजनाओं की चर्चा घर-घर में होती हैं। सांसद गुमानसिंह डामोर ने कहा कि सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास एवं सबका प्रयास की भावना के साथ श्री मोदी ने देश को विश्व के मानचित्र पर शीर्षस्थ स्थान पर स्थापित किया है । श्री डामोर ने कहा कि केंद्र में मोदी सरकार के आठ साल पूरे हो गए हैं.। मोदी सरकार की आठवी सालगिरह 30 मई को है। बीजेपी साल-2014 के मुकाबले 2019 में और बड़ी जीत के साथ सत्ता में लौटी। इस बड़ी जीत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में शुरू की गईं तमाम कल्याणकारी योजनाओं ने अहम भूमिका निभाईं। हालांकि साल 2014 में जब नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बने तो उनके सामने कई चुनौतियां थीं। सरकार के इस आठ साल के सफर में कुछ योजनाएं बेहद लोकप्रिय रही हैं.। श्री डामोर के अनुसार जनधन योजना के तहत देश के हर परिवार को बैंकिंग सिस्टम से जोड़ने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 15 अगस्त 2014 को जनधन योजना की शुरुआत की थी.। सरकार इस योजना को जमीनी स्तर पर लागू करने में पूरी तरह से सफल रही है। अभी तक जनधन योजना के तहत देश में 45 करोड़ से अधिक बैंक खाते खोले जा चुके हैं। पुरुषों के मुकाबले महिलाओं के नाम पर ज्यादा जनधन खाते खुले हैं। कोरोना संकट के दौरान महिलाओं के इन्हीं बैंक खातों में सहायत राशि पहुंचाई गईं. इसके अलावा लोगों को हर तरह की सब्सिडी का लाभ इसी अकाउंट के जरिये मिल रहा है। उन्होने आगे कहा कि उज्ज्वला योजना बहुत ही उल्लेखनीय योजना है और सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि है । केंद्र सरकार उज्ज्वला योजना के तहत गरीबी रेखा से नीचे जीवनयापन करने वाले परिवारों के लिए घरेलू रसोई गैस यानी एलपीजी कनेक्शन मुफ्त में मुहैया कराती है । इस योजना की शुरुआत 1 मई 2016 को की गई थी। अभी तक 9 करोड़ से अधिक कनेक्शन बांटे गए. उज्जवला योजना के अंतर्गत केंद्र सरकार सभी बीपीएल तथा एपीएल राशन कार्ड धारक परिवार की महिलाओ को 1600 रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान कर रही है। उन्होने आगे कहा कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना लोकसभा चुनाव-2019 से ठीक पहले प्रधानमंत्री श्री मोदी शुरुआत की थी। प्रधानमंत्री मोदी की इस योजना की तारीफ देश के हर गांवों में होती है। इस योजना के तहत सरकार किसानों के बैंक खातों में हर साल 6000 रुपये जमा करती है। यह राशि 2000 रुपये की तीन बराबर किस्तों में किसानों के खातों में डाली जाती है। आयुष्मान भारत योजना का जिक्र करते हुए सांसद डामोर ने कहा कि आयुष्मान भारत योजना केंद्र सरकार का फ्लैगशिप कार्यक्रम है.। इस योजना के तहत गरीबी रेखा से नीचे  आने वाले परिवारों को 5 लाख रुपये तक का नकदी रहित (कैशलेस) स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध कराया जा रहा है । सांसद के अनुसार देश में 10 करोड़ परिवारों के 50 करोड़ सदस्यों को इस योजना का लाभ मिलेगा । प्रधानमंत्री श्री मोदी ने के अनुसार 1300 गंभीर बीमारियों का इलाज सरकारी ही नहीं निजी अस्पताल में होगा। सांसद के अनुसार प्रधानमंत्री स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत ग्रामीण और शहरी इलाकों में स्वच्छता को बढ़ावा देने के लिए शौचालयों का निशुल्क निर्माण किया जा रहा है.। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2 अक्टूबर 2014 को स्वच्छ भारत मिशन के तहत देशभर में एक स्वच्छ भारत राष्ट्रीय आंदोलन की शुरुआत की थी। गांवों-गांवों में इस योजना का लाभ लोगों को मिल रहा है। इस योजना की शुरुआत पर श्री मोदी ने कहा था कि गांधीजी ने देश को गुलामी से मुक्त कराया, लेकिन स्वच्छ भारत का उनका सपना पूरा नहीं हुआ।  श्री डामोर ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना का जिक्र करते हुए कहा है 26 मार्च 2020 को इस योजना का ऐलान हुआ था। सरकार का मकसद है कि देश में कोई भी भूखा न रहे। सरकार का दावा है कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना का लाभ करीब 80 करोड़ लोगों को मिल रहा है। प्रत्येक नागरिक को इस योजना के माध्यम से 5 किलो से अधिक अनाज दिया जाता है. राशन कार्ड धारकों को इसका लाभ मिल रहा है। केंद्र सरकार द्वारा प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना को सितंबर-2022 तक बढ़ाने का ऐलान किया है। सांसद गुमानसिंह डामोर ने कहा कि जल जीवन मिशन मोदी सरकार का लक्ष्य है कि 2024 तक घर-घर स्वच्छ पानी उपलब्ध कराना है ।. पहले इस योजना के अंतर्गत प्रत्येक घर तक स्वच्छ पानी उपलब्ध करवाने का लक्ष्य 2030 निर्धारित किया गया था। हर घर नल योजना को जल जीवन मिशन के नाम से भी जाना जाता है। इस योजना का लक्ष्य 55 लीटर प्रति व्यक्ति प्रतिदिन की दर से पीने योग्य जल उपलब्ध करवाना है। केंद्र सरकार द्वारा वर्ष 2022-23 में देश भर में 3.8 करोड़ परिवारों तक स्वच्छ पानी पहुंचाने का उद्देश्य हर घर नल योजना के अंतर्गत निर्धारित किया है। पिछले 2 वर्षों में इस योजना के माध्यम से 5.5 करोड़ घरों तक नल का जल पहुंचाया गया है। इस योजना को 2019 में आरंभ किया गया था । श्री डामोर के अनुसार प्रधानमंत्री आवास योजना इस योजना के अंतर्गत लोगों को घर बनाने में मदद की जाती है। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत शहरी और ग्रामीण लोगों को घर दिए जाते हैं, जिनके पास कच्चे मकान हैं। इसमें लोगों को अनुदान दिया जाता है। इस योजना के तहत सरकार ने वर्ष 2022 अंत तक ग्रामीण इलाकों में 2 करोड़ मकान बनाने का लक्ष्य रखा है, इस योजना की शुरुआत 2015 में हुई थी। सांसद डामोर के अनुसार लोकसभा क्षेत्र रतलाम, झाबुआ एवं आलीराजपुर में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के आठ वर्षीय कार्यकाल में गरीबो को पूरा लाभ मिला है, प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने भी प्रधानमंत्री की इन आठ योजनाओं को पूरी मुश्तेदी से बिना किसी भेदभाव के लागू की है । श्री डामोर ने संसदीय क्षेत्र की जनता  की ओर से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का धन्यवाद ज्ञापित कर आभार व्यक्त किया है ।


ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के नेतृत्व में आगामी चुनाव को लेकर बैठक का हुआ आयोजन 


jhabua news
मेघनगर । मध्यप्रदेश में आगामी पंचायत एवं नगर परिषद के चुनाव को लेकर झाबुआ जिले के मेघनगर ने विधायक कार्यालय पर ब्लॉक कांग्रेस कमेटी मेघनगर द्वारा एक बैठक का आयोजन किया गया बैठक में थांदला विधायक वीर सिंह भूरिया ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि पिछले कहीं समय से चुनाव मध्यप्रदेश में नहीं हो पा रहे जिसके चलते जनता परेशान हो रही है अब कोर्ट के आदेश के बाद चुनाव की सरगर्मियां तेज हो चुकी है जिसको लेकर शुक्रवार के रोज एक बैठक का आयोजन हुआ है मध्य प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ के अनुसार अब हर कार्यकर्ताओं को हर मतदाता तक पहुंच कर कांग्रेस समर्थित उम्मीदवारों को भारी बहु मतों से विजय बनाना है साथी जनपद स्तर व जिला पंचायतों में भी कांग्रेस समर्थित उम्मीदवारों को विजय बनाकर जनता के हित में कार्य करना है एवं हर पंचायत में अपने कांग्रेसमें द्वारों को बात करके किसी एक का ही चयन कर उसे जिताना है । ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष यामीन शेख में कांग्रेश कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस शासनकाल में जो योजनाएं कांग्रेस की सरकार में आमजन गरीब वर्ग व किसानों के लिए लागू की थी उसको भाजपा सरकार ने धीरे-धीरे बंद कर गरीबों को परेशान किया गया है अब हमें गांव की सरकार में कांग्रेस पार्टी समर्पित उम्मीदवार को को पुण भारी बहु मतों से विजय बनाकर आमजन का सेवा करनी है । इस अवसर पर कांतिलाल भंडारी, राय सिंह गहलोत, अरुण भाई, भूर सिंह भूरिया, चौन सिंह डामोर अनूप भंडारी, कालू सिंह नलवाया ने भी सभा को संबोधित किया। सभा में महिला कांग्रेस कार्यकर्ता शाहिदा भाबर, लीला चारेल, सुमित्रा सहित अनेकों महिला कार्यकर्ता भी उपस्थित थे । इस अवसर पर नवल सिंह  नायक, उदय सिंह हाडा, भारत सिंह सांखला, युसुफ नन्हें खाँ, अमित लालवानी, मेहबूब सुलेमान, रोशन बारिया व पंच, सरपंच, तडवी सहीत अनेकों कांग्रेसी कार्यकर्ता उपस्थित थे कार्यक्रम का संचालन ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष यामीन शेख ने किया ।


अन्नदान उत्सव योजना अंतर्गत मटकी लेकर निकली आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, गली मोहल्लों में रैली निकालकर बच्चों के लिए खाद्यान्न सामग्री व खिलौने जुटाएं


थांदला। मुख्यमंत्री अन्नदान उत्सव योजना के अन्तर्गत थांदला आंगनवाड़ी की कार्यकर्ताओं ने प्रभारी परियोजना अधिकारी वी एस सस्तिया के निर्देशन में खाद्यान्न एवं खिलौने एकत्रीकरण रैली का आयोजन किया। क्रमशः दो दिन तक चले इस अभियान रैली में समस्त परियोजना सुपरवाइजर, आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं एवं किशोरियों द्वारा मटकी लेकर नगर के वार्ड क्रमांक 1, 2, 3, 4, 10, 11, 12, 13, 14, 15 आदि प्रमुख वार्डों से खाद्यान्न एवं बच्चों के लिए खिलौनें जुटाए। नगर के गणमान्य नागरिकों व सामाजिक कार्यकर्ताओं ने भी बढ़ चढ़कर सहभागिता करते हुए बच्चों के लिए अन्नदान किया व खिलोनें भी भेँट किये। वार्ड क्रमांक 2 के पार्षद एवं नेता प्रतिपक्ष लक्ष्मण राठौड़, भाजपा महिला मोर्चा मण्डल अध्यक्ष आरती सिसोदिया, जसवंत डामोर, भारतीय प्रेस आयोग प्रभारी पवन नाहर, पार्षद रीना विकास रावत, दीपिका धमानिया, नीरज सौलंकी, अमित सालगिया, पप्पू मैड़ा, अशोक पोरवाल, सीमा राठौड़, देवेंद्र अरोड़ा आदि ने बच्चों के लिए स्वेच्छा से गेँहू, चावल, दालें, चॉकलेट, बिस्किट, आदि खाद्यान्न सामग्री एवं खिलौनें भेंट किये। इस अवसर पर परियोजना अधिकारी ने सभी दानदाताओं को धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा डोर टू डोर सम्पर्क करते हुए आंगनवाड़ी केंद्रों पर बच्चों की उपस्थिति बढ़ाई जायेगी वही कम वजन के कुपोषित बच्चों के लिये पोषण आहार की व्यवस्था आसानी से उपलब्ध रहेगीद्य समाजसेवी पवन नाहर ने नगर के अन्य समाजसेवी संगठनों व गणमान्य नागरिकों से आंगनवाडी केंद्रों को गोद लेने की बात कही ताकि जन सहयोग से बच्चों का सर्वांगीण विकास हो सके।


नाहर सोशल मिडिया फाउंडेशन के मध्यप्रदेश प्रभारी नियुक्त


झाबुआ । पत्रकारों व जनता की समस्याओं के निदान को लेकर बनाये गए राष्ट्रव्यापी संगठन सोशल मीडिया फाउंडेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष किशोर भाई भंडारी पुणे एवं राष्ट्रीय सचिव प्रवीण खारीवाल ने राष्ट्रीय प्रभारी प्रदीप जैन की  अनुसंशा पर मध्यप्रदेश अध्यक्ष हेमंत जैन की सहमति से अंचल के सक्रिय जाबांज युवा पत्रकार पवन नाहर को मध्यप्रदेश का प्रभारी नियुक्त करते हुए मध्यप्रदेश में संगठन को विस्तार करने की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी है। नाहर को सोशल मिडिया फाउंडेशन मध्यप्रदेश का प्रदेश प्रभारी नियुक्त होने पर संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष किशोरभाई भंडार सहित समस्त पदाधिकारियों ने हर्ष व्याप्त किया है वही अंचल के पत्रकारों व मित्रों ने बधाई दी है। नाहर ने मध्यप्रदेश प्रभारी बनाये जाने पर सभी शुभचिंतकों के प्रति आभार व्यक्त करते हुए फाउंडेशन के जल्द विस्तारीकरण करते हुए पत्रकारों के हित के लिए सदैव ततपर रहते हुए आम जनता की समस्याओं को शासन प्रशासन के समक्ष रखते हुए उन्हें उचित न्याय दिलाने की बात कही है।


जिला स्तरीय स्टेंडिंग कमेटी की बैठक


झाबुआ। पंचायत आम निर्वाचन 2022 के परिप्रेक्ष्य में मध्यप्रदेश राज्य आयोग भोपाल के निर्देशानुसार कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री सोमेश मिश्रा के द्वारा दिनंाक 28 मई 2022 को स्टेंडिंग कमेटी की बैठक आयोजित की गई है। यह बैठक सायं 4 बजे कलेक्टर कार्यालय सभा कक्ष में आयोजित होगी जिसमें पुलिस अधीक्षक झाबुआ, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, रिटंर्निग आफिसर, सहायक रिटर्निंग आफिसर, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व  समस्त मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय एवं राज्य स्तरीय दल के जिलाध्यक्ष को आमंत्रित किया गया है।


जिले के बेरोगार युवाओं को निजी क्षेत्र की कम्पिनियों में रोजगार प्राप्ति के अवसर मुहैया कराने के लिये जिला स्तरीय रोजागार मेले का आयोजन दिनंाक 30 मई,2022 को किया गया


झाबुआ,। जिले के बेरोगार युवाओं को निजी क्षेत्र की कम्पिनियों में रोजगार प्राप्ति के अवसर मुहैया कराने के लिये कलेक्टर श्री सोमेश मिश्रा के मार्गदर्शन में दिनांक 30.05.2022 को प्रातः 11ः00 बजे से अपरान्हे 03ः00 बजे तक आजीविका भवन, झाबुआ में जॉब फेयर आयोजित किया जा रहा है। जिले के शिक्षित बेरोजगार आवेदक जिनकी उम्र 18-35 वर्ष तथा शैक्षणिक योग्यकता -5वीं से 12वीं,आईटीआई,(सिविल/कोपा)उत्तीर्ण हैं वे इस जॉब फेयर के माध्यकम से रोजगार प्राप्तस करने हेतु साक्षात्काटर में सम्मिलित हो सकते हैं। उक्त  रोजगार मेले के मध्योम से लगभग 200 से अधिक उपलब्धर पदों पर भर्ती के लिये चयन हेतु 2 से 3 निजी क्षेत्र की कम्पसनियों की उपस्थिति सम्भा वित है। विभिन्न कम्पनियों द्वारा चयनित अभ्य्ार्थियों को अनुमानित 7000/-से 12000/-मासिक वेतन $ अन्य सुविधाओं पर कार्य करने हेतु भर्ती किया जावेगा। जॉब फेयर में उपस्थित निजी क्षेत्र की कम्पयनियों के भर्ती अधिकारियों से अन्य जानकारी के लिये साक्षात्कार के समय विस्तृरत चर्चा कर सकते हैं।नोट-रोजगार कार्यालय का जीवित पंजीयन अनिवार्य है।


‘‘आओ चलें प्राकृतिक खेती की ओर - जिला मुख्यालय पर प्राकृतिक खेती परामर्ष केन्द्र की स्थापना ’’

  • ‘‘ जीवांमृत, बीजांमृत, घनजीवांमृत, नीमास्त्र, ब्रम्हास्त्र निर्माण की जानकारी प्राकृतिक खेती परामर्ष केन्द्र के माध्यम से कृषकों को दी जावेगी ’’
  • ‘‘ प्राकृतिक खेती की जानकारी आमजन के लिये सुलभ - जिला मुख्यालय पर परामर्ष केन्द्र स्थापित ’’

झाबुआ,। प्रकृतिजन्य कृषिगत संसाधनों के बेहतर समन्वय और युक्तीयुक्त दोहन से न केवल खेती किसानी में लागत को कम किया जा सकता है, बल्कि गुणवत्तायुक्त खाद्यान्न उत्पादन के साथ-साथ बेहतर आय भी श्रृजित की जा सकती है। प्रकृति के निकट रहने वाले झाबुआ जिले के किसानों को प्राकृतिक खेती के सैद्धांतिक और व्यावहारिक पक्ष की बेहतर समझ विकसित करते हुऐ जमीन पर उतारने की भरपूर संभावनाऐं है। प्राकृतिक खेती अपनाने से न केवल खेती किसानी की लागत नियंत्रित होकर गुणवत्तायुक्त पोष्टीक आहार का उत्पादन किया जा सकता है बल्कि पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण की दिषा में एक ठोस पहल भी की जा सकती है। हवा तथा जल स्त्रोतों की गुणवत्ता में कमी के साथ-साथ पर्यावरण प्रदूषण का एक महत्वपूर्ण आयाम मिट्टी में घातक रसायनों का जमा होकर मृदा प्रदूषण भी है। मृदा के रासायनिक और भौतिक स्वास्थ्य संर्वधन के माध्यम से पर्यावरण प्रदूषण रोकने की दिषा में एक सार्थक प्रयास किये जा सकते है। प्राकृतिक खेती के बहुआयामी फायदांे के मद्देनजर जिले के किसानों को प्रचलित खेती पद्धति के स्थान पर प्राकृतिक खेती की ओर रूझान विकसीत करने का समय आ गया है। झाबुआ जिले के कलेक्टर श्री सोमेष मिश्रा द्वारा जिले में प्राकृतिक खेती के संदेष को दूरस्थ अंचलों तक पहुंचाने के निर्देष दिये गये है। प्राकृतिक खेती के सैंद्धातिंक और व्यवहारिक ज्ञान को किसानों और आमजन के लिये सुलभ कराने के उद्देष्य से जिला मुख्यालय पर परामर्ष केन्द्र की स्थापना के लिये प्रदत्त निर्देषों के अनुक्रम में कृषि परिसर झाबुआ स्थित मिट्टी परीक्षण प्रयोगषाला के पास परामर्ष केन्द्र व्यावहारिक स्वरूप ले चुका है। जिले में प्राकृतिक खेती पद्धति को सुनियोजित ढंग से अपनाने और बढावा देने के लिये जिला मुख्यालय कृषि परिसर में प्राकृतिक खेती परामर्ष केन्द्र स्थापित किया गया है। इस केन्द्र पर प्राकृतिक खेती के आधारभूत अवयवों - गोबर, गौ-मूत्र, गुड़, बेसन, चूना, सजीव मिट्टी के साथ-साथ नीम, करंज, धतुरा, सीताफल, पपीता, अरण्डी, अमरूद इत्यादि पत्तीयों के संयोजन से जीवांमृत, बीजांमृत, घनजीवांमृत, नीमास्त्र, ब्रम्हास्त्र का सजीव ढंग से निर्माण करने के लिये प्रादर्ष यूनिट तैयार की गई है। प्राकृतिक खेती अपनाने के लिये किसान को महंगे आदानो की आवष्यकता नही रहती है। मात्र एक से दो देषी गाय गोबर और गौं मूत्र के साथ खेतों की मेढ़ो पर उगने वाली वनस्पति के युक्तियुक्त संयोजन से प्राकृतिक खेती को अमलीजामा पहनाया जा सकता है। इसके अतिरिक्त लगने वाले आदान एक आम व्यक्ति के घरों में उपलब्ध होने वाली सामग्री से सुलभ हो जाते है। प्राकृतिक खेती के माध्यम से खेती किसानी में उत्पन्न होने वाले जैव अवषिष्टों का बेहतर पुर्नचक्रीकरण भी किया जा सकता है। कलेक्टर श्री सोमेष मिश्रा द्वारा जिले के किसानो से प्राकृतिक खेती की ओर अपना रूझान बढाने के साथ-साथ कार्यरूप में परिणीत करने का आव्हान किया। प्राकृतिक खेती करने के इच्छुक कृषक जिला मुख्यालय पर स्थापित प्राकृतिक खेती के परामर्ष केन्द्र का अवलोकन कर जीवांमृत, बीजांमृत, घनजीवांमृत, नीमास्त्र, ब्रम्हास्त्र इत्यादि के संबध में जानकारी प्राप्त कर सकते है। परामर्ष केन्द्र के प्रभारी श्री एस.एस.रावत सहायक संचालक कृषि को नियुक्त किया गया है। परामर्ष केन्द्र पर श्री रावत के साथ-साथ सहायक संचालक श्री एस.एस.मोर्य तथा श्री एम.एस.धार्वे के अतिरिक्त अपने क्षेत्र के अनुविभागीय कृषि अधिकारी, वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी और मैदानी स्तर के कृषिगत विभागीय अमले से भी सम्पर्क कर सकते है।  


रोजगार दिवस कार्यक्रम अब 30 मई 2022 को होगा


झाबुआ,। मध्य प्रदेश शासन के निर्देशानुसार कलेक्टर श्री सोमेश मिश्रा के मार्गदर्शन में दिनंाक 30 मई 2022 को जिला स्तरीय रोजगार दिवस कार्यक्रम का आयोजन आजिविका भवन झाबुआ में दोपहर 1.00 बजे से किया जा रहा है। कार्यक्रम में विभिन्न स्वरोजगार योजनाओं में बैंकों द्वारा स्वीकृति पत्र एवं वितरण के डेमो चेक का माननीय अतिथियों के कर कमलों से वितरण किया जावेगा।


कलेक्टर के निर्देश पर खनिज विभाग एवं राजस्व विभाग की टीम द्वारा रेत माफियाओं के विरूद्ध सख्त कार्यवाही

  

झाबुआ,। कलेक्टर श्री सोमेश मिश्रा के निर्देश पर खनिज विभाग एवं राजस्व विभाग की टीम द्वारा विभिन्न स्थानों पर रेत माफियाओं द्वारा किए गए अवैध रेत भण्डारण पर कार्यवाही करते हुए माफियाओं की ऐसी अवैध रेत को पकडा गया जिस पर किसी भी व्यक्ति ने उस रेत पर स्वयं का दावा नहीं किया है और ऐसी रेत को माननीय मुख्यमंत्री जी की मंशानुरूप अत्यन्त गरीब व्यक्तियों को उनके ग्रामीण क्षेत्र के प्रधानमंत्री आवासांे के निर्माण हेतु प्रदाय किया गया जिससे बरसात के पूर्व उन्हें सुरक्षित पक्का आवास दिया जा सके।


अब मैनुअल चालान व्यवस्था बंद, ऑन-लाइन चालान की नई सुविधा शुरू होगी


झाबुआ,। वित्त विभाग द्वारा एक जून 2022 से मैनुअल चालान को पूर्णता बंद कर दिया जाएगा। अब चालान जमा करने की ओटीसी सुविधा दी जाएगी। इस संबंध में विस्तृत दिशा-निर्देश एवं मार्गदर्शिका जारी कर दी गई है। दरअसल साइबर ट्रेजरी के माध्यम से ऑनलाइन चालान जमा किए जाने के दौरान ऑनलाइन पेमेंट में आने वाली समस्याओं को दूर करने के लिए मध्यप्रदेश शासन वित्त विभाग द्वारा ओवर दी काउंटर- ओटीसी की सुविधा विकसित की है। वित्त विभाग के संचालनालय कोष एवं लेखा मध्यप्रदेश के वेबपोर्टलwww.mptreasury.gov.in पर चालान ऑनलाइन भरने के बाद जमाकर्ता चालान का पिं्रट निकालकर बैंक में नगद या चैक के माध्यम से जमा कर सकेगा। साथ ही जमाकर्ता द्वारा भरे गए चालान की संपूर्ण जानकारी बैंक को भी ट्रांसफर की जाएगी। बैंक काउंटर पर केवल ऑनलाइन चालान द्वारा जनरेट यू आर एन क्रमांक की प्रविष्टि करने पर राशि जमा की जाएगी। ओटीसी की प्रक्रिया द्वारा कर एवं शुल्क जमाकर्ता राज्य के सभी विभागों के चालान ऑनलाइन जमा किए जा सकते हैं। सभी चालान जमाकर्ता इस संबंध में जानकारी संबंधित कोषालय एवं बैंक से प्राप्त कर सकते हैं। ओटीसी प्रक्रिया के संबंध में विस्तृत चर्चा के लिए कोषालय झाबुआ में संबंधित बैंको के अधिकारियों के साथ बैठक की गई। इस संबंध में किसी भी प्रकार की समस्या के लिए कोषालय अधिकारी झाबुआ से भी संपर्क किया जा सकता है।


मतपत्र मुद्रण कार्य के लिए सूचना


झाबुआ,। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी (स्था.निर्वा.) जिला झाबुआ के निर्देशानुसार मध्यप्रदेश राज्य निर्वाचन आयोग भोपाल के पत्र क्रमांक एफ-81-24/2018/सात/189 दिनंाक 24 मई 2022 के परिपालन में जिला झाबुआ में वर्ष 2022 में होने वाले पंचायत चुनावों के लिए जिला पंचातय/जनपद पंचायत सदस्यों के मतपत्रों के मुद्रण हेतु मुहरबंद निविदाए। आमंत्रित की गई है। निविदा फार्म जिसका मूल्य रूपये 100/- एक सौ हैं कलेक्टर कार्यालय जिला निर्वाचन अधिकारी (स्थानीय निर्वाचन) झाबुआ से प्राप्त किया जा सकता है। निर्धारित फार्म में भरी निविदाएं दिनांक 30 मई 2022 को अपरान्ह 3 बजे तक प्राप्त की जाएगी और उसी दिन अपरान्ह 4 बजे उपस्थित निविदाकारों या उनके प्राधिकृत प्रतिनिधियों के समक्ष खोली जाएगी। मुद्रण के लिए चुनाव चिन्ह तथा चुनाव चिन्हों के सांचे/सी.डी. कलेक्टर कार्यालय (स्थानीय निर्वाचन) झाबुआ द्वारा उपलब्ध कराए जावेगे। निविदा से संबंधित विस्तृत जानकारी कलेक्टर कार्यालय (स्थानीय निर्वाचन) झाबुआ से कार्यालयीन समय पर संपर्क कर प्राप्त की जा सकती है।


म.प्र. राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा चुनाव एप बनाया गया इस एप में मतदाता अपना नाम, मतदान केन्द्र, क्रमांक, उम्मिदवार की जानकारी तथा चुनाव परिणाम देख सकता है


झाबुआ। म.प्र. राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा चुनाव एप बनाया गया है। जिसमें मतदाता अपना नाम, मतदान केन्द्र, क्रमांक, उम्मिद्वार की जानकारी तथा चुनाव परिणाम देख सकता है। जिला सूचना विज्ञान अधिकारी श्री कपिल कुमावत ने अवगत कराया कि ब्ीनदंअ एप गुगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। जिस पर शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र की चुनाव से संबंधित जानकारी हिन्दी एवं अंग्रेजी भाषा में पृथक-पृथक उपलब्ध है।


वर्तमान मे राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा नगरीय निकाय एवं त्रि-स्तरीय पंचायत आम निर्वाचन-2022 की प्रक्रिया प्रारंभ की जाने से जिले के समस्त अधिकारियों/कर्मचारियों के समस्त प्रकार के अवकाश पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगाया गया


झाबुआ,। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी (स्था.निर्वा.) जिला झाबुआ के निर्देशानुसार वर्तमान मे राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा नगरीय निकाय एवं त्रि-स्तरीय पंचायत आम निर्वाचन-2022 की प्रक्रिया प्रारंभ की जाने से अत्याधिक मैन पावन (मतदान कर्मियों) की आवश्यकता होगी। अतः आयोग के निर्देशानुसार दोनों निकायों के निर्वाचन साथ संपन्न कराये जाने, निर्वाचन दायित्वों के निर्वहन हेतु अधिकारियों एवं कर्मचारियों की नितांत आवश्यकता होने से जिले के समस्त अधिकारियों/कर्मचारियों के समस्त प्रकार के अवकाश पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंधित किया जाता है। जिले के समस्त अधिकारियों/कर्मचारियों के पूर्व में स्वीकृत अवकाश तत्काल प्रभाव से निरस्त किये जाते है। जिले में शनिवार/रविवार सहित अन्य सार्वजनिक अवकाश दिवसों में भी कार्यालय खुले रहेंगे तथा समस्त अधिकारी/कर्मचारी कार्यालय में उपस्थित होकर कार्य संपादित करेंगे। श्री सिद्धार्थ जैन, मुख्य कार्यपालन अधिकारी, जिला पंचायत झाबुआ एवं नोडल अधिकारी कार्मिक प्रबंधन को अत्यावश्यक कार्य होने की दशा में अधिकारियों/कर्मचारियों  के अवकाश स्वीकृत करने के लिए अधिकृत किया जाता है। यह आदेश तत्काल प्रभावशील होगा।


नगरीय निकायों एवं त्रि-स्तरीय पंचायतों के आम निर्वाचन 2022 के लिये मतदाता जागरूकता अभियान की गतिविधियों के संचालन एवं पर्यवेक्षण हेतु नोडल अधिकारी/सहायक नोडल अधिकारी की नियुक्ति


झाबुआ,। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी (स्था.निर्वा.) जिला झाबुआ के आदेशानुसार म.प्र.राज्य निर्वाचन आयोग के ज्ञापन क्रमंाक-एफ-84-12/2020/छः (सेंस) 62 भोपाल, दिनांक 13 मई 2022 के अनुपालन में नगरीय निकायों एवं त्रि-स्तरीय पंचायतों के आम निर्वाचन 2022 के लिये मतदाता जागरूकता अभियान की गतिविधियों के संचालन एवं पर्यवेक्षण हेतु निम्नानुसार नोडल अधिकारी/सहायक नोडल अधिाकरी की नियुक्ति की गई है। मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत झाबुआ नोडल अधिकारी कार्यक्षेत्र त्रि-स्तरीय पंचायतों के लिये  मो.नं. 9625085203, अपर कलेक्टर झाबुआ नोडल अधिकारी कार्यक्षेत्र नगरीय निकाय के लिये मो.नं. 9893649231 नियुक्त किया गया है। सहायक नोडल अधिकारी मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत झाबुआ कार्यक्षेत्र जनपद पंचायत क्षेत्र झाबुआ के लिये मो. नं. 9424545299, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत रामा कार्यक्षेत्र जनपद पंचायत क्षेत्र रामा के लिए मो. नं. 9425908785, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत रानापुर कार्यक्षेत्र जनपद पंचायत क्षेत्र रानापुर के लिए मो.नं. 9589245188, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत मेघनगर कार्यक्षेत्र जनपद पंचायत क्षेत्र मेघनगर के लिये मो.नं. 9424071210, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत थांदला कार्यक्षेत्र जनपद पंचायत क्षेत्र थांदला के लिए मो.नं. 9893838644, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत पेटलावद कार्यक्षेत्र जनपद पंचायत क्षेत्र पेटलावद के लये मो.नं. 7049026358, अनुविभागीय अधिकारी एवं मुख्य नगरपालिका अधिकारी नगर निकाय झाबुआ, मेघनगर,रानापुर, थांदला, पेटलावद कार्यक्षेत्र नगरीय निकाय क्षेत्र के लिये मो.नं. 9407416909, 9981978115, 9993196919, 9179902346, 9926736834 को नियुक्त किया गया है।


ओंकारेश्वर में आचार्य शंकर की 108 फीट की बहुधातु प्रतिमा, शंकर संग्रहालय एवं आचार्य शंकर अंतर्राष्ट्रीय अद्वैत वेदांत संस्थान की स्थापना के लिये भूमि आवंटित

  • हरियाली अमावस्या से मांधाता पर्वत पर सघन वृक्षारोपण शुरू होगा

झाबुआ। आचार्य शंकर सांस्कृतिक एकता न्यास एवं मध्यप्रदेश शासन के संस्कृति विभाग द्वारा खंडवा जिले के ओंकारेश्वर में आचार्य शंकर की 108 फीट की बहुधातु प्रतिमा, शंकर संग्रहालय एवं आचार्य शंकर अंतर्राष्ट्रीय अद्वैत वेदांत संस्थान की स्थापना की जा रही है। आचार्य शंकर प्रतिमा तथा शंकर संग्रहालय हेतु मांधाता पर्वत पर लगभग 11.50 हेक्टेयर भूमि एवं आचार्य शंकर अंतर्राष्ट्रीय अद्वैत वेदांत संस्थान हेतु गोदड़पुरा पर्वत पर लगभग 22.10 हैक्टेयर भूमि संस्कृति विभाग को आवंटित है।


व्यवस्थित पुनर्वास किया जायेगा

आचार्य शंकर सांस्कृतिक एकता न्यास के प्रभारी अधिकारी डॉ. शैलेन्द्र मिश्रा ने बताया कि आचार्य शंकर संग्रहालय के लिये मांधाता पर्वत पर आवंटित परिसर में अस्थाई रूप से निवासरत लगभग 30 परिवारों को नगर परिषद ओंकारेश्वर द्वारा ओंकारेश्वर नगर में पुर्नवास के लिये आवास निर्माण हेतु भूमि चिन्हांकित की गई है। इस भूमि पर आवास निर्माण किये जाने हेतु प्रत्येक परिवार के बैंक खाते में 2.50 लाख रूपये की राशि संस्कृति विभाग द्वारा नगर परिषद के माध्यम से प्रदान की जायेगी।


36 हेक्टेयर भूमि पर सघन वृक्षारोपण होगा

आचार्य शंकर संग्रहालय परिसर में स्थित 06 मंदिरों - शिव मंदिर, सांई मंदिर, शनि मंदिर, राम मंदिर, नर्मदा मंदिर तथा निखिल आश्रम में स्थापित मूर्तियों की प्राणप्रतिष्ठा विधि-विधान के साथ विद्वान आचार्य के माध्यम से राजराजेश्वरी मंदिर में की जायेगी। इन मंदिरों के पुजारियों के लिये परिसर के बाहर अन्यत्र स्थान पर अस्थाई कुटिया उपलब्ध कराई जायेगी। आगामी 28 जून 2022 हरियाली अमावस्या से मांधाता पर्वत पर सघन वृक्षारोपण प्रारंभ किया जा रहा है। इस वृक्षारोपण में नीम, पीपल, वटवृक्ष, गुलमोहर, बेलपत्र, पलाश, करंज तथा कचनार आदि पौधे लगाये जायेंगे। लगाये जाने वाले पौधों की उंचाई 08 से 10 फीट की होगी ताकि वर्षाऋतु में ये पौधे जड़ पकड़ सकेंगे। डेढ वर्ष तक इन पौधों का प्रबंधन, पोषण व रखरखाव भी किया जायेगा। मुख्यमंत्री जी के द्वारा पूर्व में घोषणा कि गई थी कि मांधाता पर्वत पर 25 हेक्टेयर भूमि में पौधा रोपण किया जायेगा। इस घोषणा के परिपालन में अब 25 हैक्टेयर के स्थान पर लगभग 36 हेक्टेयर भूमि में केवल सघन वृक्षारोपण किया जा रहा है। जिससे मांधाता पर्वत का परिवेश पूर्ण रूप से प्राकृतिक एवं आध्यात्मिक रहेगा। पौधारोपण में ऐसे पौधों का उपयोग किया जायेगा जो मांधाता पर्वत को वर्ष भर हराभरा रखेंगे।


नहीं होगी ब्लासिं्टग

मांधाता पर्वत पर शंकर संग्रहालय के निर्माण हेतु अभी तक न तो कोई ब्लासिं्टग की गई है और न ही की जायेगी। मांधाता पर्वत पर होटल, स्वीमिंग पूल एवं मॉल जैसी किसी भी प्रकार की व्यावसायिक गतिविधियां नहीं की जाना है, इससे स्पष्ट है कि यहां भौतिक सुविधाओं का विस्तार नहीं किया जायेगा। मांधाता पर्वत पर शंकर संग्रहालय के निर्माण के दौरान यदि कोई मूर्तियाँ प्राप्त होती हैं तो उन मूर्तियों को शंकर संग्रहालय में यथोचित स्थान दिया जायेगा। यदि प्राप्त होने वाली मूर्तियाँ प्राचीन ऐतिहासिक महत्व की होंगी तो उन्हें पुरातत्व विभाग को संरक्षण हेतु सौंपा जायेगा।


किसी भी प्राचीन आश्रम का नहीं हो रहा है विस्थापन

किसी भी प्राचीन आश्रम एवं जनजातीय समाज का विस्थापन नहीं किया जा रहा है। प्राचीन पैदल परिक्रमा पथ यथावत रहेगा। इस परिक्रमा पथ में किसी प्रकार का कोई परिवर्तन नहीं किया जायेगा अपितु इस प्राचीन परिक्रमा मार्ग का सौंदर्यीकरण किया जायेगा। माँ नर्मदा का अविरल प्रवाह वर्ष भर यथावत रहेगा। परिक्रमा पथ को छायादार बनाते हुये मार्ग में परिक्रमावासियों के बैठने के लिये बेंच एवं पीने के पानी की व्यवस्था भी की जायेगी। जल परिक्रमा पथ भी निरंतर रहेगा। किसी भी प्रकार से दोनों मार्ग बाधित नहीं होंगे। परिक्रमा मार्ग में संचालित दुकानें, संग्रहालय परिसर से बाहर होने के कारण इन्हें मांधाता पर्वत से हटाने की कोई योजना नहीं है। शंकर संग्रहालय, आचार्य शंकर की प्रतिमा एवं आचार्य शंकर अंतर्राष्ट्रीय वेदांत संस्थान की स्थापना हेतु ओंकारेश्वर नगर में से किसी भी निवासी अथवा दुकानदारों को नहीं हटाया जायेगा क्योंकि यह परियोजना ओंकारेश्वर नगर से पृथक स्थान पर प्रस्तावित है। निर्माण में होगा देशज सामग्री का उपयोग मांधाता पर्वत पर आचार्य शंकर की प्रतिमा, शंकर संग्रहालय एवं आचार्य शंकर अंतर्राष्ट्रीय अद्वैत वेदांत संस्थान की स्थापना में भारतीय वास्तु एवं स्थापत्य को ध्यान में रखते हुये देशज सामग्री पत्थर, काष्ठ, मिट्टी, ईंट आदि का अधिकतम उपयोग करते हुये पर्यावरण अनुकूल निर्मितियाँ की जायेंगी। मांधाता पर्वत को प्रदूषण मुक्त रखने हेतु केवल सीएनजी एवं इलेक्ट्रानिक वाहनों को ही प्रवेश की अनुमति दी जायेगी। प्रकल्प में विभिन्न स्थानों पर 03 सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट भी बनाये जायेंगे। सौर एवं अन्य वैकल्पिक उर्जा तथा जैविक सामग्रियों का उपयोग करते हुये यह परियोजना शून्य अपशिष्ट आधारित होगी। इस परियोजना से रोजगार सृजन के नये अवसर भी उपलब्ध होंगे।

कोई टिप्पणी नहीं: