हनुमान चालीसा पढ़ना देशद्रोह तो बेल क्यों : नवनीत राणा - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 9 मई 2022

हनुमान चालीसा पढ़ना देशद्रोह तो बेल क्यों : नवनीत राणा

navnee-rana-aack-uddhav
नयी दिल्ली : महाराष्ट्र सीएम उद्धव ठाकरे के घर के बाहर हनुमान चालीसा पाठ के मामले में जमानत पर रिहा निर्दलीय सांसद आज सोमवार को पीएम मोदी से मिलने नयी दिल्ली पहुंचीं। उधर मुंबई पुलिस की कोर्ट में नवनीत द्वारा जमानत की शर्त्तों के उल्लघन की शिकायत के बाद मुंबई सत्र न्यायालय ने सांसद नवनीत राणा को एक नोटिस जारी कर पूछा है कि उनके खिलाफ गैर-जमानती वारंट क्यों नहीं जारी किया जाना चाहिए? इसपर दिल्ली में नवनीत राणा ने महाराष्ट्र सरकार और मुंबई पुलिस पर बदले की मानसिकता से ग्रसित बताते हुए कहा कि उन्होंने कोर्ट की शर्त्तों का कोई उल्लंघन नहीं किया। उस मुद्दे पर कोई बात नहीं की जिसपर कोर्ट ने बात नहीं करने को कहा है। अमरावती से सांसद नवनीत ने दिल्ली में कहा कि कोर्ट की शर्त्तों के बाहर मेंरे पास जो अधिकार हैं, मैं उनका ही इस्तेमाल कर रही हूं। मुझे जो अधिकार मिले हैं, वो मुझे जनता से सांसद होने के नाते मिले हैं। संविधान से मिले हैंं। अगर कोई व्यक्ति काम नहीं करता है तो उसकी आलोचना करने का मुझे अधिकार है। आज मैं जनता से जरूर कहना चाहूंगी कि हनुमान चालीसा पढ़ना यदि देशद्रोह है तो मुझे बेल ही नहीं मिलनी चाहिए थी। नयी दिल्ली में आज शाम साढ़े पांच बजे सांसद नवनीत राणा लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला से मिलने वाली हैं। वे उन्हें सारे घटनाक्रम और उनके साथ महाराष्ट्र में सरकारी तंत्र द्वारा हुए दुर्व्यवहार की जानकारी देंगी। सांसद नवनीत ने प्रधानमंत्री मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से भी मिलने का समय मांगा है। उनसे वे महाराष्ट्र सरकार की विद्वेषपूर्ण कार्रवाई की शिकायत करेंगी।

कोई टिप्पणी नहीं: