बिहार : जहरीली शराब से मौतों का तांडव जारी, सरकार बेखबर : माले - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 28 मई 2022

बिहार : जहरीली शराब से मौतों का तांडव जारी, सरकार बेखबर : माले

  • शराब माफिया पर नियंत्रण लगाए सरकार, जहरीली शराब से किया जा रहा जनसंहार

poiseness-alcohal-deah
पटना 28 मई, भाकपा-माले राज्य सचिव कुणाल ने जहरीली शराब से गया व औरंगाबाद जिले में अब तक हुई दर्जनांे मौत पर गहरी चिंता व्यक्त की है. कहा कि जहरीली शराब ने बिहार में अब तक सैंकड़ों जान ले ली है, लेकिन सरकार बेखबर बनी हुई है. न जाने कितनी मौतों के बाद सरकार की नींद खुलेगी. आज बिहार का बच्चा-बच्चा जानता है कि सरकार शराब माफियाओं पर किसी भी प्रकार की कार्रवाई नहीं कर रही है, बल्कि उन्हें संरक्षण देने का काम किया जा रहा है. इस कारण मौतों का सिलसिला लगातार बढ़ता जा रहा है. यह जहरीली शराब के द्वारा गरीबों का जनसंहार है. हम फिर से सरकार से मांग करते हैं कि राजनेता-प्रशासन-शराब माफिया गठजोड़ पर लगाम लगाए तथा इसकी उच्चस्तरीय जांच कराए. 27 मई को भाकपा-माले के औरंगाबाद जिला सचिव मुनारिक राम के नेतृत्व में भाकपा-माले की एक जांच टीम ने जिले के मदनपुर प्रखंड के 22 गांवों में जहरीली शराब से हुई मौत की जांच की. जाँच टीम ने पानसरे, नोनियादिह, पड़रिया, बेरी, खिररियावां, बैरियावां, अरारुआ, जोगड़ी इत्यादि गांवों में जाकर पीड़ित परिवारों से मुलाकात कर घटना की पूरी जानकारी प्राप्त की. जांच टीम के अनुसार गया के शेरघाटी की तरफ से शराब तस्करों ने गैलन में शराब भरकर उपर्युक्त गांवों में शराब पहुंचाया था. उसी के सेवन से लगभग 100 से ऊपर लोग प्रभावित हुए हैं. अधिकतर लोगों की आंख की रौशनी चली गई है. शराब पीने के तीन-चार घंटे बाद शरीर में बेचैनी होने लगी और रौशनी चली गई. कुछ लोग चुपके से प्राइवेट अस्पताल में गए तो कुछ लोग सरकारी अस्पताल में. चैकाने वाली बात यह है कि मदनपुर थाना से महज 200 गज की दूरी पर मनसरा व नोनियादिह गांव है, जहाँ शराब बिक्री होता है, वहाँ के ग्रामीणों ने कई बार लिखित आवेदन थाना प्रभारी दिया. साल भर पहले औरंगाबाद एसडीओ को दिया था, परन्तु प्रशासन की तरफ से कोई करवाई नहीं किया गया. बहुत से मृतक पोस्टमार्टम भी नहीं कराया गया है.


मृतकों की संख्या व नाम

1. कामेश्वर भुइयाँ 41 वर्ष  2. रामभुज भुइयाँ 52 वर्ष, ग्राम पनसारे

3. सुभाष भुइयाँ 36 वर्ष ग्राम नोनियादिह 4. दिलकेश्वर महतो 55 वर्ष

5. कमलेश राम 42 वर्ष दोनों ग्राम पड़रिया 6.श्यामदेव राम 36 वर्ष

7. रविंद्र सिंह 55 वर्ष 8.राहुल मिश्र 24 वर्ष

9. निजामुद्दीन मियां 35 वर्ष 10. रामनंदन सिंह 48 वर्ष

पांचो ग्राम बेरी

11. विनोद पाल 46 वर्ष 12. बब्लू साव 36 वर्ष

13. सुरेश पासवान 32 वर्ष 14. कामता पासी 38 वर्ष

15. रामदास राम 48 वर्ष  पांचो ग्राम खिररियावां 16. बिरजू भुइयाँ 38 वर्ष

17. सोनवा देवी 40वर्ष ग्राम बैरियावां 18. सुरेश सिंह 39 वर्ष ग्राम अरारुआ

19. रामजी यादव 38 वर्ष ग्राम जोगड़ी


वैसे मरने वालों की संख्या रोज बढ़ रहा है. पार्टी की 6 सदस्यीय टीम में मुनारिक राम, जिला कमिटी सदस्य कैलाश पासवान, गुड़ु चन्द्रवंशी, औरंगाबाद ग्रामीण के लोकल कमिटी सचिव कॉम सुनील यादव, करमु पासवान, अमित मिश्रा शामिल थे.

कोई टिप्पणी नहीं: