गरीब को गणेश मानकर काम कर रही है सरकार : गहलोत - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 28 मई 2022

गरीब को गणेश मानकर काम कर रही है सरकार : गहलोत

serving-for-poor-gahlot
जयपुर, 28 अगस्त, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को कहा कि उनकी सरकार ने जनकल्याण के कार्यों में कोई कमी नहीं छोड़ी है और यह गरीब को गणेश मानकर काम कर रही है। इसके साथ ही उन्होंने उम्मीद जताई कि राज्य में आगामी विधानसभा चुनाव में फिर कांग्रेस पार्टी ही जीत दर्ज करेगी। गहलोत रेण (नागौर) स्थित श्री दरियाव धाम में ब्रह्मलीन आचार्य श्री हरिनारायण महाराज के देवल का उद्घाटन तथा पर्यटन विभाग द्वारा करवाये गये विभिन्न विकास कार्यों का लोकार्पण करने के बाद उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने राजस्थान सरकार की विभिन्न जन कल्याण योजनाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि राज्य सरकार ने कल्याणकारी कामों में कोई कमी नहीं छोड़ रखी है और वह गरीबों को गणेश मानकर काम कर रही है। उन्होंने उम्मीद जताई कि राज्य में आगामी विधानसभा चुनाव में फिर कांग्रेस की सरकार बनेगी। गहलोत ने कहा, ‘‘इस बार हमने इतने काम इस रूप में किए हैं कि जनता का मूड बदल रहा है...इस बार लगता है कि जनता हमारी सरकार रिपीट करेगी। पहले हमारी सरकार रिपीट नहीं हो पाई, एक बार कांग्रेस तो एक बार भाजपा की सरकार आ रही थी।’’ गहलोत ने कहा कि सरकार बदलने पर हमारे काम रुक जाते हैं। इसके साथ ही गहलोत ने धर्म के नाम पर ध्रुवीकरण को लेकर चिंता जताई। उन्होंने कहा, ‘‘देश में हिंदू-मुसलमान को लेकर जो ध्रुवीकरण हो रहा है दीर्घकाल के लिए यह अच्छी बात नहीं है। झगड़े, दंगे व खून-खराबा होना देश के लिए अच्छा नहीं है।’’ मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘हम सबको गर्व है कि हम हिंदू हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम दूसरे धर्म को नीचा दिखाएं, झगड़ें करे, दंगे फसाद करवा दें।’’ उन्होंने कहा, ‘‘दंगों में निर्दोष लोग मरते हैं। दंगा भड़काने वाले तो बचकर भाग जाते हैं। ऐसे दंगाइयों को पहचानकर उनका सामाजिक बहिष्कार करना चाहिए तभी हम आपस में प्रेम भाव से रह पाएंगे।’’

कोई टिप्पणी नहीं: