सुमन बेरी ने नीति आयोग के उपाध्यक्ष का पदभार संभाला - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 2 मई 2022

सुमन बेरी ने नीति आयोग के उपाध्यक्ष का पदभार संभाला

suman-berry-nii-ayog-vice-chairman
नयी दिल्ली 01 मई, प्रसिद्ध अर्थशास्त्री सुमन बेरी ने रविवार को नीति आयोग के उपाध्यक्ष का पदभार संभाला लिया। नीति आयोग ने आज यहां बताया कि श्री बेरी की नियुक्ति एक मई, 2022 से प्रभावी है। वह एक अनुभवी नीतिगत अर्थशास्त्री एवं अनुसंधान प्रशासक हैं। श्री बेरी ने सरकार के एक महत्वपूर्ण थिंक टैंक के प्रमुख के रूप में डॉ. राजीव कुमार से पदभार ग्रहण किया। उन्होंने कहा, "श्री राजीव कुमार ने मुझे एक सशक्त संगठन सौंपा है, जिसमें बहुत सारी नई, युवा प्रतिभाएं शामिल हैं और सरकार के अंदर और बाहर सभी पक्षों के साथ मजबूती से जुड़ी है।" उन्होंने कहा, “मैं इस बड़ी वैश्विक अनिश्चितता के दौर में इसका प्रभार सौंपे जाने पर बहुत सम्मानित महसूस कर रहा हूं। गहन विश्लेषण और व्यापक बहस के आधार पर भविष्य के मार्ग के बारे में एक दृष्टिकोण विकसित करना और राज्यों के साथ काम करना, नीति आयोग की चुनौती है। भारत की आर्थिक और सामाजिक पसंद पूरी दुनिया के लिए महत्वपूर्ण है।" श्री बेरी ने पहले नेशनल काउंसिल ऑफ एप्लाइड इकनॉमिक रिसर्च (एनसीएईआर) के महानिदेशक (मुख्य कार्यकारी) और रॉयल डच शेल के ग्लोबल चीफ इकनॉमिस्ट के रूप में कार्य किया है। वह प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद, सांख्यिकीय आयोग और मौद्रिक नीति पर भारतीय रिजर्व बैंक की तकनीकी सलाहकार समिति के सदस्य भी रहे हैं। वह वाशिंगटन में विश्व बैंक से जुड़े थे और लैटिन अमेरिका पर केंद्रित मैक्रो-इकनॉमी, वित्तीय बाजार और सार्वजनिक ऋण प्रबंधन उनके क्षेत्रों में शामिल थे। हाल में वह सेंटर फॉर पॉलिसी रिसर्च, नयी दिल्ली में सीनियर विजिटिंग फेलो, ब्रूगल, ब्रुसेल्स में नॉन-रेजीडेंट फेलो, और वुडरो विल्सन सेंटर, वाशिंगटन में ग्लोबल फेलो के रूप में संबद्ध रहे हैं। उन्होंने शक्ति सस्टेनेबल एनर्जी फाउंडेशन, नई दिल्ली के बोर्ड में भी काम किया है।

कोई टिप्पणी नहीं: