यूक्रेन के मॉल पर मिसाइल हमले में 18 लोगों की मौत - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 29 जून 2022

यूक्रेन के मॉल पर मिसाइल हमले में 18 लोगों की मौत

18-killed-in-missile-attack-on-ukrainian-mall
कीव 28 जून, यूक्रेन के क्रेमेनचुक शहर में एक शॉपिंग सेंटर पर मिसाइल हमले में कम से कम 18 लोगों की मौत हो गई है। बीबीसी ने यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडिमिर ज़ेलेंस्की के हवाले से बताया कि सोमवार को हमले के समय 15:50 बजे मॉल के अंदर करीब एक हजार नागरिकों के होने का अनुमान है। श्री जेलेंस्की ने कहा कि यह हमला यूरोपीय इतिहास में सबसे क्रूर आतंकवादी कृत्य है। उन्होंने कहा कि इस मॉल का रूस के लिए कोई रणनीतिक महत्व नहीं है और इससे उसकी सेना को कोई खतरा नहीं है। इसके जरिए केवल लोग सामान्य जीवन जी रहे थे इसलिए इस पर कब्जे को लेकर नाराज था। उन्होंने कहा कि यह केवल पूरी तरह आतंकवाद का पागलपन है, ऐसे लोग इस तरह की चीजों पर मिसाइल से हमला करते है उन्हें इस जमीन पर कोई जगह नहीं मिलनी चाहिए। जर्मनी में बैठक कर रहे जी 7 समूह के नेताओं ने इस हमले की निंदा करते हुए इसे घृणित घटना करार दिया है। उन्होंने एक संयुक्त बयान में कहा, “निर्दोष नागरिकों पर अंधाधुंध हमले युद्ध अपराध हैं।” समूह के देशों ने हमले की कड़ी निंदा करने के अलावा संयुक्त बयान में यूक्रेन के लिए वित्तीय, मानवीय और साथ ही साथ सैन्य सहायता प्रदान करना जारी रखने का संकल्प लिया है। स्थानीय गवर्नर दिमित्रो लुनिन ने कहा कि यह हमला मानवता के खिलाफ अपराध है। उन्होंने टेलीग्राम पर लिखा, “नागरिक आबादी के खिलाफ आतंक का एक स्पष्ट और निंदनीय कार्य है।” बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार अधिकारियों बताया है कि प्रभावित लोगों की मदद के लिए 14 मनोवैज्ञानिक सहित आपातकालीन सेवाओं के 440 लोग काम कर रहे हैं। फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने रूस के मिसाइल हमले की निंदा करते हुए इसे ‘घृणित’ कृत्य बताया है। यूक्रेन में ब्रिटेन के राजदूत ने इसे ‘एक घातक रूसी कृत्य’ बताया है। जर्मनी में जी-7 की बैठक से बाहर आने के बाद अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा यह ‘नृशंस’ हमला है। जहां अमेरिका और अन्य देशों ने रूसी तेल तथा गैस के मूल्य सीमा तय की थी।

कोई टिप्पणी नहीं: