नेपाल में गोलगप्पे हुए बैन, बिहार में भी खतरे की घंटी - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 29 जून 2022

नेपाल में गोलगप्पे हुए बैन, बिहार में भी खतरे की घंटी

golgappa-banned
नयी दिल्ली : पड़ोसी देश नेपाल की राजधानी काठमांडू में गोलगप्पे की बिक्री पर रोक लगा दी गई है। वहां इसे खाने और बेचने पर बैन लगाते हुए नेपाल ने अपने नागरिकों के लिए चेतावनी जारी की है कि फिलहाल वे इससे दूर ही रहें। यही नहीं, भारत और बिहार समेत उसके सीमावर्ती राज्यों को भी सतर्क किया गया है। गोलगप्पे पर बैन और उसको लेकर बरती जा रही सतर्कता के पीछे नेपाल में बड़े पैमाने पर हैजा बीमारी के प्रसार को मूल कारण माना जा रहा है। जानकारी के अनुसार काठमांडू में दो—तीन दिनों से अचानक हैजा के मरीजों की संख्या काफी बढ़ने लगी। धीरे—धीरे देश के बाकी हिस्सों से भी बड़ी संख्या में हैजा के मरीज सामने आने लगे। फिलहाल जानकारी मिली है कि रोजाना करीब 100 से ज्यादा मरीज सामने आ रहे हैं। इसी के बाद वहां सरकार ने गोलगप्पे को पूरी तरह से बैन कर दिया। काठमांडू में गोलगप्पा खाने से फैल रही बीमारी भारत और खासकर सीमावर्ती बिहार राज्य के लिए भी एक खतरे की घंटी है। चूंकि बिहार समेत समूचे भारत में लोग बड़े चाव से चौक—चौराहों पर गोलगप्पा खाते हैं। इसके अलावा अभी यहां मॉनसून सक्रिय हुआ ही है। बरसात में गोलगप्पे के पानी से हैजा होने की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए यहां भी इस बीमारी के फैलने का खतरा संभव है।

कोई टिप्पणी नहीं: