नेपाल में गोलगप्पे हुए बैन, बिहार में भी खतरे की घंटी - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 29 जून 2022

नेपाल में गोलगप्पे हुए बैन, बिहार में भी खतरे की घंटी

golgappa-banned
नयी दिल्ली : पड़ोसी देश नेपाल की राजधानी काठमांडू में गोलगप्पे की बिक्री पर रोक लगा दी गई है। वहां इसे खाने और बेचने पर बैन लगाते हुए नेपाल ने अपने नागरिकों के लिए चेतावनी जारी की है कि फिलहाल वे इससे दूर ही रहें। यही नहीं, भारत और बिहार समेत उसके सीमावर्ती राज्यों को भी सतर्क किया गया है। गोलगप्पे पर बैन और उसको लेकर बरती जा रही सतर्कता के पीछे नेपाल में बड़े पैमाने पर हैजा बीमारी के प्रसार को मूल कारण माना जा रहा है। जानकारी के अनुसार काठमांडू में दो—तीन दिनों से अचानक हैजा के मरीजों की संख्या काफी बढ़ने लगी। धीरे—धीरे देश के बाकी हिस्सों से भी बड़ी संख्या में हैजा के मरीज सामने आने लगे। फिलहाल जानकारी मिली है कि रोजाना करीब 100 से ज्यादा मरीज सामने आ रहे हैं। इसी के बाद वहां सरकार ने गोलगप्पे को पूरी तरह से बैन कर दिया। काठमांडू में गोलगप्पा खाने से फैल रही बीमारी भारत और खासकर सीमावर्ती बिहार राज्य के लिए भी एक खतरे की घंटी है। चूंकि बिहार समेत समूचे भारत में लोग बड़े चाव से चौक—चौराहों पर गोलगप्पा खाते हैं। इसके अलावा अभी यहां मॉनसून सक्रिय हुआ ही है। बरसात में गोलगप्पे के पानी से हैजा होने की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए यहां भी इस बीमारी के फैलने का खतरा संभव है।

कोई टिप्पणी नहीं: