बिहार : तीन दिवसीय आजादी का अमृत महोत्सव फोटो प्रदर्शनी का शुभारंभ - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 1 जून 2022

बिहार : तीन दिवसीय आजादी का अमृत महोत्सव फोटो प्रदर्शनी का शुभारंभ

amri-mahosav-inaugraion
पटना/गोपालगंज, 01 जून, देश की आजादी के महान स्वतंत्रता सेनानियों एवं गुमनाम नायकों को याद करने और नई पीढ़ी को उनके बारे में बताने के उद्देश्य से सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के रीजनल आउटरीच ब्यूरो, पटना द्वारा आज दिनांक 01 जून, 2022 को गोपालगंज के अंबेडकर भवन में तीन दिवसीय आजादी का अमृत महोत्सव फोटो प्रदर्शनी सह जागरूकता कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया।  फोटो प्रदर्शनी का उद्घाटन गोपालगंज के सांसद डॉ आलोक कुमार सुमन एवं बिहार सरकार के खनन एवं भूतत्व मंत्री जनक राम ने सम्मिलित रूप से किया। मौके पर सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के प्रधान महानिदेशक सत्येंद्र प्रकाश, अपर महानिदेशक एसके मालवीय, गोपालगंज के जिलाधिकारी डॉ नवल किशोर चौधरी, रीजनल आउटरीच ब्यूरो, पटना के कार्यक्रम प्रमुख सह क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी पवन कुमार सिन्हा, क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी जावेद अख्तर अंसारी, सहायक क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी ग्यास अख्तर अंसारी, सर्वजीत सिंह, अमरेंद्र मोहन तथा नवल किशोर झा मौजूद थे। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए गोपालगंज के सांसद डॉ आलोक कुमार सुमन ने कहा कि भारत सरकार की यह एक सराहनीय पहल है, जिसके माध्यम से लोगों को और आने वाली नई पीढ़ियों को भारत के स्वतंत्रता संग्राम एवं उनके नायकों के बारे में तस्वीरों के माध्यम से बताया जा रहा है। उन्होंने कहा कि फोटो प्रदर्शनी में भारतीय स्वतंत्रता संग्राम से जुड़े कई गुमनाम नायकों के बारे में बताया गया है। इन दुर्लभ तस्वीरों को लोगों को अवश्य देखना चाहिए। उन्होंने कहा कि हमें अपने स्वतंत्रता सेनानियों के आदर्शों एवं संदेशों को आत्मसात करने की आवश्यकता है। इसे एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक पहुंचाने की जरूरत है। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए खनन एवं भूतत्व मंत्री जनक राम ने कहा कि आजादी की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर लगाई गई इस फोटो प्रदर्शनी को ना केवल आमजनों को देखने की आवश्यकता है बल्कि उन्हें अपने बच्चों को भी लाकर दिखाने की जरूरत है। हम आज जिनकी वजह से खुले आकाश में, खुली सांस ले रहे हैं, उन महान स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में हमें आने वाली पीढ़ियों को बताने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि बीते 8 वर्षों में केंद्र की सरकार ने गरीबों, पीड़ितों तथा समाज के सभी वर्गों के लिए सवा सौ से भी अधिक योजनाएं शुरू की है। उन योजनाओं की जानकारी एवं लाभ लोगों को लेना चाहिए।

 

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के लोक एवं संचार ब्यूरो, नई दिल्ली के प्रधान महानिदेशक सत्येंद्र प्रकाश ने कहा कि आजादी की 75 वीं वर्षगांठ के अवसर पर इस तरीके के कार्यक्रम पूरे देश भर में आयोजित किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि स्वतंत्रता सेनानी किस तरह का आजाद भारत चाहते थे, उनके प्रयासों और आदर्शों के महत्व को समझने तथा अपने बच्चों को समझाने की आवश्यकता है। लोग खुद भी फोटो प्रदर्शनी देखें और अपने बच्चों को भी लेकर आएं। उन्होंने केंद्र सरकार की विभिन्न योजनाओं पर विस्तार पूर्वक चर्चा की। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सूचना प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार के पटना स्थित प्रेस इनफॉरमेशन ब्यूरो के अपर महानिदेशक एसके मालवीय ने कहा कि यहां आयोजित की गई तीन दिवसीय फोटो प्रदर्शनी तीन खंडों में विभाजित है। पहले खंड में स्वतंत्रता संग्राम की तमाम घटनाओं का सचित्र वर्णन किया गया है। दूसरे खंड में बिहार के स्वतंत्रता सेनानियों एवं गुमनाम नायकों को दर्शाया गया है तथा तीसरे खंड में केंद्र सरकार की योजनाओं, नीतियों एवं कार्यक्रमों के बारे में बताया गया है। उन्होंने कहा कि फोटो प्रदर्शनी में कई ऐसी तस्वीरें लगाई गई हैं, जिन्हें इतिहास के पन्नों में या तो दर्ज नहीं किया गया है या जिनके बारे में लोगों की जानकारी बेहद कम है। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए गोपालगंज के जिलाधिकारी डॉ नवल किशोर चौधरी में कहा कि यह हमारे लिए गौरव का विषय है कि हम अपने स्वतंत्रता सेनानियों को इस प्रकार के फोटो प्रदर्शनी के माध्यम से याद कर रहे हैं और उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि दे रहे हैं। आम जनों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि लोग फोटो प्रदर्शनी को देखें, समझे और अपने बच्चों को भी लाकर दिखाएं। उन्होंने कहा कि इन फोटो प्रदर्शनी में ऐसे कई गुमनाम चेहरों को दर्शाया गया है, जिन्हें शायद किताब के पन्नों में भुला दिया गया गया है।  कार्यक्रम में उपस्थित मुख्य अतिथि एवं विशिष्ट अतिथि द्वारा चित्रांकन प्रतियोगिता के सफल प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया गया। आरओबी, पटना द्वारा 31 मई को डॉ जाकिर हुसैन संस्थान में आयोजित चित्रांकन प्रतियोगिता में प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय पुरस्कार क्रमशः सोनाली, स्वातिका एवं अंजलि को दिया गया। वे सभी बीसीए सेकंड ईयर की छात्राएं हैं। इसके अलावा चित्रांकन प्रतियोगिता में शामिल हुई कोमल, शिफा, रश्मि, दिव्यंका एवं अन्य बच्चों को सांत्वना पुरस्कार भी दिया गया। कार्यक्रम के अंत में सांसद एवं खनन मंत्री ने हरी झंडी दिखाकर डिजिटल जागरूकता रथ को रवाना किया। यह डिजिटल रथ अगले दो दिनों तक जिले में केंद्र सरकार की योजनाओं एवं कार्यक्रमों के बारे में आम जनों को जागरूक करेगी।  कार्यक्रम के दौरान मंत्रालय के वरिष्ठ विभागीय कलाकारों तथा पंजीकृत सांस्कृतिक दल के द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। यह फोटो प्रदर्शनी 3 जून तक रहेगा। इस प्रदर्शनी में सभी के लिए प्रवेश निशुल्क है।

कोई टिप्पणी नहीं: