पक्षी पहचान और मूलभूत पक्षी विज्ञान’ पाठ्यक्रम का चौथा बैच पूरा - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शुक्रवार, 17 जून 2022

पक्षी पहचान और मूलभूत पक्षी विज्ञान’ पाठ्यक्रम का चौथा बैच पूरा

  • जीएसडीपी - पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय (एमआईईएफएंडसीसी) द्वारा एक अखिल भारतीय पहल
  • जीएसडीपी- पर्यावरण योगदान तथा रोजगार हासिल करने के लिए एक अवसर

azadi-ka-amrit-mahotsav
पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय (एमआईईएफएंडसीसी) ने प्रधानमंत्री के स्किल इंडिया मिशन की तर्ज पर भारत के युवाओं को ग्रीन स्किल डेवलपमेंट प्रोग्राम (जीएसडीपी) के तहत लाभकारी रोजगार प्राप्त करने में सक्षम बनाने के लिए पर्यावरण एवं वन क्षेत्र में कौशल विकास के लिए पहल को आगे बढ़ाया है। यह कार्यक्रम राष्ट्रीय स्तर पर निर्धारित योगदान (एनडीसी), सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी), राष्ट्रीय जैवविविधता लक्ष्यों (एनबीटी) तथा अपशिष्ट प्रबंधन नियमावली (2016) की प्राप्ति के लिए तकनीकी ज्ञान और सतत विकास के प्रति प्रतिबद्धता रखने वाले हरित कुशल श्रमिक विकसित करने का प्रयत्न करता है। चालू वित्त वर्ष अर्थात् 2022-23 में डब्ल्यूडब्ल्यूएफ ईएनवीआईएस आरपी ने ‘पक्षी पहचान और मूलभूत पक्षी विज्ञान’ में जीएसडीपी प्रमाणपत्र पाठ्यक्रमों के चार बैचों का आयोजन किया है। इन पाठ्यक्रमों ने देश भर के छात्रों को पक्षी विज्ञान के विभिन्न पहलुओं के बारे में जानकारी हासिल करने का अवसर प्रदान किया। पाठ्यक्रमों में भाग लेने वाले 30 प्रतिशत छात्रों की पहले ही संगत सेक्टरों में नियुक्ति की जा चुकी है। यह पाठ्यक्रम नि:शुल्क है तथा पूरी तरह से पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय द्वारा वित्त पोषित है।

कोई टिप्पणी नहीं: