बिहार : डॉक्टर पूजा लापरवाही की शिकार हो गयी? - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

मंगलवार, 14 जून 2022

बिहार : डॉक्टर पूजा लापरवाही की शिकार हो गयी?

doctor-died-in-patna-aiims
खगौल.इसे क्या कहेंगे! जहां पर डॉक्टर पूजा कुमारी ने एक साल की ट्रेनिंग ले चुकी है वहीं पर डॉक्टर पूजा लापरवाही की शिकार हो गयी.14 सितंबर 2021 को पटना एम्स में उसकी डिलीवरी ऑपरेशन के जरिए हुई थी.एम्स के संबंधित विभाग की एचओडी और डीन डॉ हिमानी और उनकी टीम ने डॉक्टर पूजा नामक महिला मरीज की डिलीवरी कराई थी. ऑपरेशन के 15 दिन बाद ही टांका पक गया तो एम्स दिखाने के लिए पूजा दोबारा आई थी. इस पर डॉ हिमानी ने फटकार लगाते हुए कहा था कि लापरवाही की वजह से टांका पक गया.    फिलहाल डॉक्टर पूजा मसौढ़ी में मेडिकल ऑफिसर है.डॉक्टर पूजा कुमारी को पटना एम्स में ऑपरेशन के नौ महीने बाद जब पेट में दर्द उठा तो अल्ट्रा साउन्ड कराया गया. पता चला कि जहां पर डिलीवरी कराई थी वहां पर लापरवाही से ऑपरेशन के क्रम में एक महिला मरीज के पेट में ही रूई (कॉटन) छोड़ दिया गया. खास बात ये है कि पीड़िता भी मेडिकल लाइन से है और एम्स के गैस्ट्रो विभाग में इंटर्नशिप कर चुकी है. एम्स के संबंधित विभाग की एचओडी और डीन डॉ हिमानी और उनकी टीम ने महिला मरीज की डिलीवरी कराई थी. ऑपरेशन के 15 दिन बाद ही टांका पक गया तो एम्स दिखाने के लिए पूजा दोबारा आई थी. इस पर डॉ हिमानी ने फटकार लगाते हुए कहा था कि लापरवाही की वजह से टांका पक गया.जहां जांच में पेट के अंदर रूई होने की बात सामने आई.जब परेशानी हुई तो टांका टूटने लगा और जब टांका टूटा तो उसे एम्स में फिर से दिखाया और फिर से टांका बांधकर एक पाइप लगा दिया गया.डॉक्टर पूजा के मुताबिक टांका टूट गया और फिर जब अल्ट्रासाउंड किया गया तो प्रॉब्लम नजर आई. पीड़िता डॉक्टर पूजा ने बताया कि एम्स की यह पांचवीं लापरवाही सामने आई है. पीड़ित महिला डॉ. पूजा कुमारी के मुताबिक, जब वह इसकी शिकायत करने एम्स गई तो वहां उसके साथ मारपीट की गई.इस मामले में पटना एम्स की तरफ से कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है. एम्स की डॉ. हिमाली ने कहा कि महिला यहां आकर हंगामा और गाली गलौज कर रही थी. साथी गार्ड को भी पीट रही थी. इसको लेकर फुलवारीशरीफ थाने में शिकायत दर्ज कराई गई है. पेट में रुई छोड़ने की बात पर कहा कि ऑपरेशन के वक्त मरीज की हालत गंभीर थी. किसी तरह उसकी जान बचाई गई.गायनो विभाग की एचओडी समेत अन्य डॉक्टरों के खिलाफ फुलवारीशरीफ उसने थाने में शिकायत की है. एम्स पटना के डॉक्टरों की लापरवाही का शिकार हुई डा. पूजा कुमारी की सर्जरी रविवार को राजधानी के निजी अस्पताल में हुई. डाक्टरों की टीम ने तीन घंटे सर्जरी कर पेट से 12 इंच लंबा गाज का टुकड़ा निकाला. सर्जरी के दौरान डाक्टर गाज के टुकड़े से ही खून पोछते हैं. देर शाम तक पीड़िता बेहोश थी और उसका नौ माह का मासूम बच्चा हास्पिटल के कमरे में बिलख रहा था. पीड़िता की बहन ने बेहोश मां और बच्चे के बिलखने का वीडियो इंटरनेट मीडिया से साझा किया. नौ माह से पेट में पड़े इस गाज के टुकड़े से हुए संक्रमण के कारण यूरीनरी ट्रैक्ट में संक्रमण के साथ बच्चेदानी में सुराख हो गया है. इससे पीड़िता दूसरी बार मातृत्व सुख से वंचित हो सकती है. एम्स प्रबंधन में अभी कोई वरीय अधिकारी नहीं है, सोमवार को इस बाबत जांच कर दोषी पर कार्रवाई की जा सकती है. 

कोई टिप्पणी नहीं: