गया : 09 सितंबर से 25 सितंबर तक तक चलेगा विश्व प्रसिद्ध पितृपक्ष मेला - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

रविवार, 12 जून 2022

गया : 09 सितंबर से 25 सितंबर तक तक चलेगा विश्व प्रसिद्ध पितृपक्ष मेला

gaya-prapakha-mela
गया. आगामी 09 सितंबर से प्रारंभ होकर 25 सितंबर तक चलने वाले विश्व प्रसिद्ध पितृपक्ष मेला के सफल आयोजन एवं मेला अवधि में समुचित व्यवस्था बहाल रहने के उद्देश्य से जिला पदाधिकारी गया डॉ० त्यागराजन एस०एम० द्वारा आज विष्णुपद, देवघाट, श्मशान घाट, रबर डैम, ब्रह्मसरोवर, वैतरणी तालाब, अक्षयवट, खटका चक बाईपास नैली इत्यादि स्थानों का घूम घूम कर निरीक्षण किया गया. विष्णुपद निरीक्षण के दौरान पंडा समाज के व्यक्तियों द्वारा जिला पदाधिकारी से अनुरोध किया गया कि संवाद सदन कार्यालय के ठीक विपरीत दिशा में पूर्व के बने पार्क, जो वर्तमान में नही है, उस दीवार को हटवाने का अनुरोध किया, ताकि मेन सड़क और अधिक चौड़ा बनाया जा सके, जिससे वाहनों की आवागमन सुगमता से हो सके.जिला पदाधिकारी ने नगर आयुक्त अभिलाषा शर्मा को संबंधित पार्क के दीवार को हटवाने को कहा.विष्णुपद मंदिर होते हुए श्मशान घाट जाने वाले शेड लगा हुआ वाला रास्ते में जगह जगह पर पंखा एवं पानी के फवाड़ा वाला पंखा लगवाने को कहा ताकि यात्रियों को गर्मी से राहत दिया जा सके. जिला पदाधिकारी ने नगर आयुक्त को निर्देश दिया कि मेला क्षेत्र में जितने भी पब्लिक टॉयलेट, स्नानागार, चेंजिंग रूम इत्यादि हैं सभी को अतिशीघ्र फंक्शनल करवाना सुनिश्चित कराएं. श्मशान घाट के समीप तुलसी बगान के विपरीत दिशा में विष्णुपद पार्क नामक स्थान को साफ सफाई करवाने का निर्देश नगर आयुक्त को दिया गया ताकि पितृपक्ष मेला में भीड़ बढ़ने पर वहां के तीर्थयात्री अपना कर्मकांड कर सकें. श्मशान घाट निरीक्षण के दौरान यत्र तत्र स्थानों पर बिखरे पड़े लकड़ियों के अंबार को देखकर जिला पदाधिकारी ने अनुमंडल पदाधिकारी सदर, पुलिस उपाधीक्षक नगर तथा नगर आयुक्त को निर्देश दिया कि आवंटित स्थान के अलावा यत्र तत्र लकड़ी न फैलावे, यह सुनिश्चित करावे. निरीक्षण के दौरान जिला पदाधिकारी ने नगर आयुक्त को निर्देश दिया कि श्मशान घाट होते हुए देवघाट एवं गायत्री घाट के साथ साथ  गजाधर घाट के प्रमुख स्थानों पर टूटे-फूटे टाइल्स मार्बल, नालियों के ढक्कन तथा घाटो की सीढ़ियों को अतिशीघ्र मरम्मत करवाये। उन्होंने कहा कि विष्णुपद से देवघाट जाने वाले विभिन्न मार्गों को अभियान के रूप में सर्वे करें तथा सभी संकरी गलियों/रास्तो में टूटे-फूटे नालियों के ढक्कन साफ सफाई इत्यादि मुकम्मल व्यवस्था करवाएं. जिला पदाधिकारी ने पंडा समाज के एवं उस क्षेत्र के व्यक्तियों से अपील किया है कि अपने पशुओं को घर में ही बांधकर रखें.देवघाट या फल्गु नदी में अपने पशुओं को ना छोड़े. प्रायः यह शिकायत मिलता है कि आवारा पशुओं के द्वारा तीर्थ यात्रियों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. अतः आप सभी अपने पशुओं को अपने घर पर ही रखें। साथ ही उन्होंने नगर आयुक्त गया नगर निगम को निर्देश दिया है कि आवारा पशुओं को पकड़ने के लिए एक अलग से देवघाट एवं विष्णुपद क्षेत्र में ड्राइव चलाकर आवारा पशुओं को पकड़कर किसी अन्यत्र स्थान पर भेजें. इसके उपरांत उन्होंने रबड़ डैम निर्माण हेतु किए जा रहे कार्यों की अद्यतन स्थिति से अवगत हुए साथ ही उन्होंने कहा कि पितृपक्ष मेला के पहले हर हाल में रबड़ डैम का कार्य पूर्ण करें.विष्णुपद से देवघाट आने वाले विभिन्न संकरी गलियों को देखकर जिला पदाधिकारी ने अनुमंडल पदाधिकारी तथा अंचलाधिकारी सागर को मापी करा कर अतिक्रमण हटाने का निर्देश दिए.इसके उपरांत उन्होंने ग्राम सत तालाब का निरीक्षण किया ग्राम सब चलाओ के समीप अवस्थित विभिन्न प्रतीक्षालय को मरम्मत तथा रंगाई पुताई करवाने का निर्देश दिए. ब्रह्मसत तालाब से ब्रह्मसरोवर जोड़ने वाली गली काफी संक्रीण/अतिक्रमित रहने पर जिला पदाधिकारी ने अंचलाधिकारी सदर को 2 दिनों के अंदर माफी करा कर अतिक्रमण वाद चलवाने का निर्देश दिए. अंत में जिला पदाधिकारी ने कार्यपालक अभियंता बुडको को निर्देश दिया कि मेला क्षेत्र में जहां-जहां पाइपलाइन अभी भी लीकेज है उसे अति शीघ्र मरम्मत करवाना सुनिश्चित कराएं साथ ही उन्होंने कार्यपालक अभियंता आरसीडी को निर्देश दिया कि मेला क्षेत्र के सड़कों को प्राथमिकता देते हुए सड़क मरम्मत करवाना सुनिश्चित कराएं। उन्होंने नगर आयुक्त को निर्देश दिया कि पूरे मेला क्षेत्र में साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देते हुए नियमित रूप से सफाई करवाएं.

कोई टिप्पणी नहीं: