मधुबनी : शिक्षा विभाग की समीक्षात्मक बैठक हुई आयोजित। - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 21 जून 2022

मधुबनी : शिक्षा विभाग की समीक्षात्मक बैठक हुई आयोजित।

  • पदाधिकारी प्रत्येक सप्ताह कम से कम दो दिन अपने क्षेत्राधीन विभिन्न विद्यालयों का करेगे निरीक्षण। किसी भी विद्यालय में मध्याह्न भोजन का संचालन बंद नहीं रहे इसे हर हाल में करे सुनिश्चित।
  • जिलाधिकारी अरविन्द कुमार वर्मा की अध्यक्षता में  समाहरणालय स्थित सभाकक्ष में शिक्षा विभाग की समीक्षात्मक बैठक का आयोजन किया गया। 

madhubani-dm-meeting
मधुबनी : जिलाधिकारी ने शिक्षा विभाग समीक्षा के क्रम में जिले में संचालित विभिन्न योजनाओं की व्यापक समीक्षा की। उन्होंने बैठक में उपस्थित सभी अधिकारियों को निर्देश दिया कि सभी पदाधिकारी प्रत्येक सप्ताह कम से कम दो दिन अपने क्षेत्राधीन विभिन्न विद्यालयों का अनुश्रवण अवश्य करें। इस प्रकार विद्यालयों की स्थिति में परिवर्तन आएगा। उन्होंने कहा कि जिला स्तर से पदाधिकारियों द्वारा प्रत्येक सप्ताह विभिन्न पंचायतों का निरीक्षण किया जाता है। इस निरीक्षण के दौरान विद्यालयों का भी निरीक्षण किया जाता है और निरीक्षण प्रतिवेदन में कुछ कमियां भी गिनाई जाती हैं। जिला स्तर पर डी पी ओ मध्यान भोजन योजना की अगुवाई में एक कोषांग का गठन किया गया है जो उन कमियों को दूर करना सुनिश्चित करेगी।  उन्होंने स्पष्ट किया कि हर हाल में निरीक्षण प्रतिवेदन का ससमय अनुपालन सुनिश्चित किया जाए। जिलाधिकारी ने कहा कि जिले के किसी भी विद्यालय में मध्यान भोजन का संचालन बंद नहीं रहे। इसके अतिरिक्त पेय जल एवं बालक/ बालिका शौचालय की उपलब्धता भी सुनिश्चित की जाए। विद्यालय में अनुश्रवण के दौरान शिक्षकों की उपस्थिति एवं उनकी अध्यापन दक्षता की भी जांच की जाए। उन्होंने इसके लिए निपुण भारत योजना के तहत सभी शिक्षकों के शिक्षण कौशल प्रशिक्षण को आरंभ करवाने के निर्देश भी दिए हैं। बैठक के दौरान उन्होंने शिक्षा विभाग में सेवान्त लाभ और अनुकंपा के  लंबित मामलों पर भी गहरी चिंता जताई। उन्होंने स्पष्ट किया कि अगली बैठक से पूर्व सभी लंबित मामलों को पूर्ण कराया जाए। उन्होंने बाढ़ आश्रय स्थल के रूप में चिन्हित विद्यालयों की मरम्मती, पेय जल आपूर्ति एवं शौचालय की व्यवस्था सुनिश्चित किए जाने के निर्देश भी दिए हैं। उन्होंने कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालयों की स्थिति और समावेशी शिक्षा के तहत जिले में दिव्यांग बच्चों के विद्यालय में नामांकन एवं ठहराव की भी समीक्षा की।  बैठक के दौरान जिलाधिकारी ने शिक्षा विभाग से संबंधित एमजेसी/ सीडब्ल्यूजेसी/ एलपीए के लंबित मामलों के त्वरित निष्पादन के भी आदेश दिए हैं। उक्त बैठक में उप विकास आयुक्त, विशाल राज, विशेष कार्य पदाधिकारी जिला गोपनीय शाखा, सुरेंद्र राय, जिला कार्यक्रम पदाधिकारी स्थापना सह जिला कार्यक्रम पदाधिकारी सर्वशिक्षा, मो. नजीबुल्लाह, जिला कार्यक्रम पदाधिकारी मध्यान भोजन, शोभाकांत, जिला कार्यक्रम पदाधिकारी योजना लेखा सह माध्यमिक शिक्षा, नवीन कुमार ठाकुर, एडीपीसी, सतीश कुमार, एपीओ, हुलास राम, गुणवत्ता समन्वयक, अर्जुन कुमार सहित जिले के सभी प्रखंडों के प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं: