मधुबनी : सरिसब-पाही में मनाया गया मिथिला आम महोत्सव - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 8 जून 2022

मधुबनी : सरिसब-पाही में मनाया गया मिथिला आम महोत्सव

mango-festival-madhubani
मधुबनी : जिले के पंडौल प्रखण्ड के सरिसब-पाही निवासी एवं दिल्ली में कार्यरत पत्रकार मदन झा की पहल पर पहली बार सरिसब-पाही के डॉ० सर गंगानाथ झा वाचनालय परिसर में मिथिला आम महोत्सव का आयोजन किया गया। इस महोत्सव में कटक एवं नई दिल्ली में वरिष्ठ कृषि वैज्ञानिक के रूप में काम कर चुके उदयधारी सिंह, कम्युनिटी रेडियो (फुलपरास) के संचालक राज झा, यदुनाथ सार्वजनिक पुस्तकालय के संचालक उदय नाथ मिश्र, अयाची नगर युवा संगठन के संस्थापक विक्की मण्डल, मिथिला के पुरातत्व पर काम कर रहे अमल झा, मुरारि झा सहित कई कृषि वैज्ञानिक एवं स्थानीय प्रकृतिप्रेमी उपस्थित थे। एक सौ से ज्यादा किस्मों के आमों की प्रदर्शनी लोगों को लुभा रही थी। बीते कई दिनों से इस महोत्सव की तैयारी की जा रही थी। मदन झा ने बताया कि इस प्रकार के आयोजनों से लोगों को अपने क्षेत्र के विभिन्न किस्मों के आमों के बारे में जानकारी मिलेगी और लोग पौधा संरक्षण भी करेंगे और कई किस्मों के आमों के प्रति उत्सुक होकर उनकी बागवानी की ओर प्रवृत्त होंगे। साथ ही दूसरे क्षेत्रों के लोगों की नज़र भी मिथिला के आमों के प्रति आकृष्ट होगी। इस कार्यक्रम में कृषि वैज्ञानिकों ने आमों के वृक्षों की सही देखभाल, आमों को सही विधि से तोड़ने की विधि आदि के बारे में विस्तार से चर्चा की। बता दें की मिथिला मे 173 प्रजाति के आम का इतिहास रहा है, जिसमें से आज 139 तरह के आम का प्रदर्शन आज मिथिला आम महोत्सव, सरिसब पाही में किया गया। इस प्रदर्शनी में भाग लेने बाले सभी आम प्रेमीयों का आयोजकों ने दिल से आभार जताया। बहुत ही कम समय में इस कार्यक्रम का रूप रेखा बना और आम उत्पादक (प्रेमी) ने प्रसिद्ध प्रजाति उपलब्द कराने का प्रयास किया। सी॰एस॰आई॰आर॰ के कुछ कृषि वैज्ञानिक सरिसब पधार कर ज्ञानवर्धन किया। यह प्रदर्शीनी कल शाम तक चलेगा।

कोई टिप्पणी नहीं: