वरुण गाँधी ने BPSC छात्रों को न्याय दिलाने के लिए नीतीश को लिखा पत्र - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 8 जून 2022

वरुण गाँधी ने BPSC छात्रों को न्याय दिलाने के लिए नीतीश को लिखा पत्र

varun-gandhi-write-letter-to-nitish
पटना : 08 मई को बीपीएससी (BPSC) द्वारा आयोजित प्रारंभिक परीक्षा के पेपर लीक होने की वजह से रद्द कर दी गई थी। लगभग छः लाख अभियार्थियों का परिश्रम और मूल्यवान समय व्यर्थ हो गया। इसी को लेकर बीजेपी के नेता और उत्तर प्रदेश के पीलीभीत से सांसद वरुण गांधी लगातार सरकार पर हमलावर दिखते हैं। इस बार उन्होंने बीपीएससी पेपर लीक को लेकर अपनी आवाज बुलंद की है। उन्होंने अभ्यर्थियों के भविष्य को अंधकार में बताते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से पेपर लीक मामले की जांच कराने की मांग की है। बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को लेटर भी लिखा है, जिसमें उन्होंने अनुरोध किया है कि कई अभ्यर्थी विभिन्न माध्यम से मुझसे संपर्क कर रहे हैं। और कई अभ्यर्थियों से तो मैंने भी बात की है उनकी व्यथा को मैं इस पात्र के माध्यम से आप तक पहुँचाने का माध्यम बन रहा हूँ। लाखो युवा प्रदेश के दूर-दराज से अलग अलग केंद्रों पर पहुंचते हैं और सड़कों पर रात बीताकर परीक्षा देते हैं। लेकिन पेपर लीक होने और परीक्षा रद्द होने के कारण से उनका मनोबल टूट जाट है। अभ्यर्थी अब अपने भविष्य को लेकर काफी चिंतित हैं। उनकी समस्या का जल्द से जल्द समाधान किया जाए। साथ ही BPSC के चेयरमैन को बर्खास्त कर आयोग के साख को बचाएं। वरुण गांधी अपने ट्विटर हैंडल से लेटर को पोस्ट करते हुए लिखा है कि, ‘बीपीएससी में हुई धांधली से 6 लाख अभ्यर्थियों का भविष्य अंधेरे में है। निष्पक्ष जांच, मुख्य साजिशकर्ता की गिरफ्तारी, परीक्षा की तारीख पर संशय एवं BPSC चेयरमैन की बर्खास्तगी जैसे कई मुद्दे हैं, जिनपर तत्काल कार्रवाई न्याय के साथ विकास की अवधारणा को मजबूती देगी।

कोई टिप्पणी नहीं: