बिहार : RJD के साथ सदन से गायब हुए JDU के सभी विधायक - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 29 जून 2022

बिहार : RJD के साथ सदन से गायब हुए JDU के सभी विधायक

jdu-mla-disappeared-from-house
पटना : बिहार विधानमंडल मानसून सत्र काफी हंगामेदार बनता जा रहा है। विपक्षी दलों द्वारा अग्निपथ योजना को लेकर विरोध किया जा रहा है। विपक्षी दलों के विधायक बेल में आकर हंगामा मचा रहे हैं, जिससे सदन की कार्यवाही स्थगित करनी पड़ जा रही है। इसी बीच भोजन आकाश से पूर्व 2:00 बजे तक के लिए स्थगित सदन को शुरू किया गया तो सदन शांतिपूर्ण ढंग से चल रहा है,लेकिन इस दौरान सबसे बड़ी बात यह है कि विधानसभा के अंदर कोई भी जदयू नेता नजर नहीं आ रहे हैं। दरअसल, विधानसभा में इस वक्त उत्कृष्ट विधायक को लेकर चर्चा चल रही है। भाजपा के विधायक संजय सरावगी की तरफ से दिए गए प्रस्ताव इसको लेकर चर्चा हो रही है। लेकिन, इसी बीच सदन में बेहद अजीबोगरीब स्थिति यह देखने को मिल रही है कि बिहार में सत्तारूढ़ दल जदयू के एक भी विधायक सदन के अंदर मौजूद नहीं है। हालांकि, जब भोजन अवकाश के बाद सदन शुरू हुआ तो जदयू कोटे से आने वाले तीन मंत्री सदन में मौजूद थे,लेकिन अब वो भी सदन से बाहर निकल गए हैं।सदन में इस वक्त केवल भारतीय जनता पार्टी के ही मंत्री और विधायक मौजूद हैं, क्योंकि विपक्ष ने पहले से ही कार्यवाही का बहिष्कार किया हुआ है। इधर, जदयू के विधायकों की मौजूदगी न होने को लेकर जो जानकारी निकल कर आ रही है उसके अनुसार जदयू के विधायकों को विधानसभा स्थित वाचनालय में बुलाया गया है। इसी कारण भोजन अवकाश के बाद शुरू हुए सदन में मौजूद जदयू के तीन मंत्री सुनील कुमार, शीला मंडल और मदन सहनी भी कार्यवाही से बाहर निकल आए हैं। इसके बाद इसको लेकर कोरम का संकट उत्पन्न हो गया। फिर सदन के सदस्य  राजकुमार सिंह ने विधायकों की अनुपस्थिति और कोरम पूरा नहीं होने का मामला उठाया। तभी स्पीकर विजय सिन्हा ने कहा कि एक सदस्य ने कोरम पूरा नहीं होने का सवाल उठाया है। कोरम तो पूरा है कि लेकिन सदन से विपक्ष के विधायक समेत अन्य सदस्य अनुपस्थित हैं। जबकि इस महत्वपूर्ण विषय पर सभी को उपस्थित रहना चाहिए था। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। यह काफी दुखद बात है। इसके बाद उन्होंने परिचर्चा को स्थगित कर दिया। परिचर्चा स्थगित होने के बाद सदन में दूसरा विधाई कार्य नहीं बचा था। लिहाजा सदन की कार्यवाही बुधवार 11 बजे तक स्थगित कर दी गई।

कोई टिप्पणी नहीं: