बिहार : संजय जायसवाल के पास नहीं है समझ : गोपाल मंडल - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

रविवार, 26 जून 2022

बिहार : संजय जायसवाल के पास नहीं है समझ : गोपाल मंडल

sanjay-jaiswal-does-not-have-understanding
पटना : अपने बयानों और क्रियाकलापों को लेकर हमेशा चर्चा में रहने वाले जदयू के विधायक गोपाल मंडल ने केंद्र सरकार द्वारा सेना भर्ती को लेकर लाए गए अग्निपथ योजना को लेकर अपनी प्रतिक्रिया दर्ज कराई है। इसके साथ ही उन्होंने इस बात पर साफ नाराजगी जाहिर की है कि जदयू ने अग्निपथ योजना को लेकर दंगा भड़काने का काम किया। इसके इतर उन्होंने भाजपा नेताओं पर हो दंगा भड़काने का आरोप लगाया है। जदयू के चर्चित विधायक ने कहा है कि भाजपा के नेताओं ने अपने क्रियाकलापों से ही हिंदुस्तान के युवाओं को भड़कने दिया। अग्निपथ योजना के बारे में विस्तार से जानकारी नहीं दी गई। राजनाथ सिंह की गलती की वजह से देश में युवाओं के भीतर गुस्सा पनपा। इसके अलावा उन्होंने सबसे बड़ी बात उस वक्त कही जब संजय जयसवाल को लेकर यह कहा कि उनके पास समझ नहीं है। दरअसल, पिछले दिनों लगातार संजय जायसवाल द्वारा जदयू नेता बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर लेकर किए जा रहे हैं हमले पर को लेकर गोपाल मंडल ने कहा कि ने वह नासमझी भरा काम कर रहे हैं, उनके पास अभी भी समझ नहीं आई है।संजय जायसवाल को समझदारी की कमी है, अगर वे जदयू के खिलाफ कुछ बोलते हैं तो उन्हें नहीं बोलना चाहिए। मंडल ने कहा कि संजय जायसवाल को तो कोई जानता तक नहीं था, वे जब बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष बनें तो उन्हें जाना। गठबंधन में रहते हुए संजय जायसवाल को जदयू के खिलाफ नहीं बोलना चाहिए। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि कोई कितनी भी बात कर ले लेकिन 5 साल तक सरकार को कुछ भी नहीं होने वाला है और लोकसभा और विधानसभा का चुनाव साथ मिलकर लड़ेंगे। गोपाल मंडल ने कहा कि भाजपा के पास जदयू के साथ रहने के अलावा कोई विकल्प भी नहीं है। क्योंकि,भाजपा के पास बिहार में मुख्यमंत्री के लायक कोई चेहरा नहीं है, लिहाजा नीतीश कुमार ही मुख्यमंत्री रहेंगे। बहरहाल, अब देखना है कि जदयू के तरफ से दिए गए इस बयान पर भाजपा के तरफ से क्या प्रतिक्रिया आती है क्योंकि पिछले दिनों से जिस तरह भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष हमलावर हैं उसे देखते हुए यह नहीं लगता कि भाजपा अब सुन कर चुप रहने के मूड में है।

कोई टिप्पणी नहीं: