उद्धव सरकार ने औरंगाबाद, उस्मानाबाद के नाम बदले - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 29 जून 2022

उद्धव सरकार ने औरंगाबाद, उस्मानाबाद के नाम बदले

uddhav-changed-the-names-of-aurangabad-osmanabad
मुंबई, 29 जून, महाराष्ट्र में जारी राजनीतिक उथल पुथल के बीच उद्धव ठाकरे नीत मंत्रिमंडल ने राज्य के मराठवाड़ा क्षेत्र के दो शहरों - औरंगाबाद और उस्मानाबाद - का नाम क्रमशः संभाजी नगर और धाराशिव करने को बुधवार को मंजूरी दे दी। राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की बैठक में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) व कांग्रेस के अधिकांश और शिवसेना के कुछ मंत्री शामिल हुए। बैठक में शिवसेना के केवल उन मंत्रियों ने भाग लिया जो श्री ठाकरे के साथ हैं। मंत्रिमंडल की बैठक के बाद बोलते हुए श्री ठाकरे ने अपनी ही पार्टी के विधायकों द्वारा धोखा दिए जाने पर निराशा व्यक्त की। उन्होंने कहा, “मुझे मेरी ही पार्टी के विधायकों ने धोखा दिया है।” उन्होंने सहयोगी दलों, राकांपा और कांग्रेस को पिछले ढाई वर्षों के दौरान उनके सहयोग के लिए धन्यवाद दिया। गौरतलब है कि शिवसेना के संस्थापक स्व़ बाल ठाकरे ने कई साल पहले औरंगाबाद और उस्मानाबाद का नाम बदलने की मांग की थी। उल्लेखनीय है कि राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे नीत महा विकास आघाड़ी (एमवीए) की सरकार को गुरुवार को विधानसभा में शक्ति परक्षण कराने और बहुमत साबित करने का निर्देश दिया है। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता देवेंद्र फडनवीस के नेतृत्व में पार्टी के एक प्रतिनिधिमंडल ने मंगलवार की रात राज्यपाल से मुलाकात की और बहुमत प्रदान करने के लिए एमवीए को तत्काल निर्देश देने की मांग की। इसके तुरंत बाद राजभवन द्वारा मंगलवार देर रात विधानसभा सचिव को इस आशय का तीन पन्नों का पत्र जारी किया गया।

कोई टिप्पणी नहीं: