राष्ट्रपति कोविंद ने विजिटर्स पुरस्कार प्रदान किये - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 8 जून 2022

राष्ट्रपति कोविंद ने विजिटर्स पुरस्कार प्रदान किये

visitors-award-by-kovind
नयी दिल्ली 07 जून, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आज यहां विज्ञान और प्राैद्योगिकी तथा अनुसंधान आदि क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगदान देने वाली हस्तियों को विजिटर्स पुरस्कारों से सम्मानित किया। श्री कोविंद ने राष्ट्रपति भवन में मंगलवार को आयोजित दो दिन के ‘विजिटर्स सम्मेलन 2022’ में ये पुरस्कार प्रदान किये। सम्मेलन मेें केन्द्रीय विश्वविद्यालयों केे कुलपति और राष्ट्रीय महत्व के संस्थानों के निदेशक हिस्सा लेते हैं। राष्ट्रपति उच्च शिक्षा के 161 केन्द्रीय संस्थानों में विजिटर हैं । इन संस्थानों में से 53 के प्रतिनिधि भौतिक रूप से तथा शेष के वर्चुअल माध्यम से सम्मेलन में हिस्सा ले रहे हैं। तेजपुर विश्वविद्यालय के भौतिकी विभाग के प्रो़ प्रीतम देव को प्रौद्योगिकी विकास के लिए विजिटर्स पुरस्कार दिया गया। उन्हें यह पुरस्कार खाद्य पैकेजिंग के क्षेत्र में प्राकृतिक तरीके से नष्ट होने वाली पॉलीमर फिल्म विकसित करने के लिए दिया गया है। जीव विज्ञान में अनुसंधान के लिए विजिटर्स पुरस्कार जामिया मिलिया इस्लामिया के जैव प्रौद्योगिकी विभाग के प्रो. मोहम्मद जाहिद अशरफ को दिया गया। श्री कोविंद ने इस मौके पर अपने संबोधन में कहा कि बड़े लक्ष्यों को हासिल करने के लिए उच्च शिक्षा केे संस्थानों की गुणवत्ता में सुधार करना बेहद जरूरी है। भारत को दुनिया के लिए आदर्श स्थापित करना चाहिए। उन्होंने इस बात पर प्रसन्नता जाहिर की कि इस वर्ष 35 भारतीय संस्थानों को क्यू एस रैकिंग मिली है जबकि पिछली बार 29 को यह रैकिंग मिली थी। शीर्ष 300 संस्थानों में इस बार छह भारतीय संस्थान हैं जबकि पिछली बार यह संख्या चार थी। राष्ट्रपति ने इस बात का भी उल्लेख किया कि भारतीय विज्ञान संस्थानों को अनुसंधान मानदंडों के मामले में 100 अंक मिले हैं। दुनिया भर में आठ संस्थानों ने यह उपलब्धि हासिल की है। उन्होंने इस उपलब्धि के लिए भारतीय विज्ञान संस्थान निदेशक डा. गोविंदन रंगराजन को बधाई भी दी। 

कोई टिप्पणी नहीं: