संकेत का पान की दुकान से कॉमनवेल्थ तक का सफर - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 30 जुलाई 2022

संकेत का पान की दुकान से कॉमनवेल्थ तक का सफर

sanket-wins-medal-in-birmingham
सांगली, 30 जुलाई, बर्मिंघम राष्ट्रमंडल खेलों में भारत के लिए वेटलिफ्टर संकेत महादेव ने 55 किलो भार वर्ग में रजत पदक जीता। भारत के लिए पदक खाता खोलने वाले संकेत अबतक काफी साधा जीवन जीते आए हैं। संकेत के पिता की सांगली में एक पान की दुकान है। इस साल कॉमनवेल्थ खेलों में भारत की ओर से कोई भी मेडल जीतने वाले पहले खिलाड़ी बने संकेत का जीवन काफी संघर्षों से भरा हुआ रहा है। संकेत बेहद गरीब परिवार से हैं और उनकी कामयाबी के पीछे परिवार का बड़ा हाथ रहा है। संकेत के पिता की सांगली में एक पान की दुकान है। संकेत कोल्हापुर के शिवाजी यूनिवर्सिटी में हिस्ट्री के छात्र हैं। वह इससे पहले खेलो इंडिया यूथ गेम्स 2020 और खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स 2020 में भी अपनी कैटेगरी के चैम्पियन रहे हैं। इंटरनेशनल लेवल पर संकेत का ये पहला बड़ा मेडल है। सुबह साढ़े पांच बजे उठकर ग्राहकों के लिए चाय बनाने के बाद ट्रेनिंग, फिर पढ़ाई और शाम को फिर दुकान से फारिग होकर व्यायामशाला जाना, करीब सात साल तक संकेत की यही दिनचर्या हुआ करती थी। संकेत सरगर स्वर्ण पदक से महज एक किलोग्राम से चूक गए, क्योंकि क्लीन एंड जर्क वर्ग में दूसरे प्रयास के दौरान चोटिल हो गए थे। 

कोई टिप्पणी नहीं: