बिहार : नड्डा का पटना विश्वविद्यालय में छात्रों ने किया विरोध - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शनिवार, 30 जुलाई 2022

बिहार : नड्डा का पटना विश्वविद्यालय में छात्रों ने किया विरोध

students-protest-against-nadda-in-patna-university
पटना 30 जुलाई, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के खिलाफ आज बिहार के प्रतिष्ठित पटना विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा दिये जाने की मांग को लेकर छात्रों ने जोरदार विरोध प्रदर्शन किया। श्री नड्डा शनिवार को यहां भाजपा संयुक्त मोर्चा राष्ट्रीय कार्यकरिणी में शामिल होने से पहले पटना विश्वविद्यालय पहुंचे। उनके विश्वविद्यालय पहुंचते ही बड़ी संख्या में मौजूद छात्रों ने उनके खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। छात्र ‘जेपी नड्डा गो बैक’ के नारे लगाते रहे। छात्रों ने पटना विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा देने की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन किया। ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (आइसा) से जुड़े छात्रों ने श्री नड्डा के खिलाफ नारेबाजी की और केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर पटना विश्वविद्यालय के हितों की अनदेखी करने का कथित रूप से आरोप लगाया। भव्य रोड शो के साथ पटना की सडकों पर उत्साहजनक स्वागत के बाद पटना विश्वविद्यालय में जब श्री नड्डा के खिलाफ नारेबाजी शुरू हुई तो कुछ समय के लिए स्थिति तनावपूर्ण हो गई। जब तक श्री नड्डा और उनके साथ गए भाजपा के नेता कुछ समझ पाते पटना विश्वविद्यालय का परिसर ‘नड्डा गो बैक’ के नारों से गूंज उठा। वहीं, इसके खिलाफ अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के छात्रों ने भी आइसा का विरोध शुरू कर दिया। कुछ समय तक दोनों पक्षों के बीच तीखी नोकझोंक भी हुई। बाद में भारी हंगामे को देखते हुए पुलिस को हल्का लाठीचार्ज करना पड़ा। उल्लेखनीय है कि श्री नड्डा का जन्म और पढाई-लिखाइ पटना में हुई है। वह युवावस्था तक पटना में ही रहे। उनके परिवार के लोगों का पटना से दशकों का नाता रहा है और इसी को लेकर वह अपने पुराने शिक्षण संस्थान की सुध लेने पटना विश्वविद्यालय गए थे। हालांकि इस दौरान उन्हें वहां भारी विरोध का सामना करना पड़ा। छात्रों ने विरोध जताते हुए कहा कि केंद्र सरकार को पटना विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय बनाना होगा। साथ ही ‘नयी शिक्षा नीति वापस लो’ एवं ‘पटना विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा दो’ जैसे प्रमुख नारे के साथ श्री नड्डा का विरोध किया गया। 

कोई टिप्पणी नहीं: