सीहोर (मध्य प्रदेश) की खबर 22 जुलाई - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शनिवार, 23 जुलाई 2022

सीहोर (मध्य प्रदेश) की खबर 22 जुलाई

लेखक श्रीमती सोनी शर्मा की पुस्तक प्रार्थना स्तोत्र का भागवत भूषण पंडित प्रदीप मिश्रा ने किया विमोचन

  • प्रार्थन स्त्रोत्र पुस्तक है गुरु गं्रथ-भागवत भूषण पंडित प्रदीप मिश्रा

sehore-news
सीहोर। क्षेत्र की वरिष्ठ समाजसेवी और लेखक सोनी शर्मा के द्वारा लगातार तीन साल के कठिन प्रयास से अपने गुरु भैरूयाजी महाराज के जीवन पर आधारित प्रार्थना स्तोत्र मेरी नजर से...का विमोचन भागवत भूषण पंडित प्रदीप मिश्रा ने शुक्रवार को जिला मुख्यालय के समीपस्थ चितावलिया हेमा स्थित निर्माणाधीन मुरली मनोहर एवं कुबेरेश्वर महादेव मंदिर में किया गया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि यदि आप किसी पुस्कालय या शब्दों के सत्संग में जाएं तो केवल सुने या सुनाए नहीं बल्कि उन बातों को अपने आचरण में भी उतारें। परोपकार और व्यापार में मर्यादा होनी चाहिए। पुस्तक में लेखक की भावनाओं के शब्द हो सकते हैं, लेकिन भाव और भक्ति सिर्फ यहीं सीखी जा सकती है। साधना से ही भक्ति और शक्ति मिलती है और साधना हमें गुरु से प्राप्त हो सकती है। ज्ञान प्राप्त करने का अगर कोई स्थान है तो वो गुरु के चरणों में है। भागवत भूषण पंडित श्री मिश्रा ने कहा कि कोरोना काल के दो साल और एक साल अतिरिक्त कुल मिलाकर तीन साल के कठिन परिश्रम के बाद श्रीमती शर्मा के द्वारा जो पुस्तक का लेख किया गया है वो प्रार्थन स्तोत्र नहीं एक गुरु गं्रथ है। जिसमें उन्होंने अपने गुरु की प्रार्थना करने के भाव को जनकल्याण के लिए प्रदान किए है। इस मौके पर श्रीमती शर्मा ने बताया कि आगामी दिनों में शहर सहित आस-पास के सभी धार्मिक स्थलों पर नि:शुल्क रूप से  प्रार्थना स्तोत्र का वितरण किया जाएगा। विमोचन के दौरान उनके पति विनय शर्मा, समाजसेवी राकेश शर्मा, त्रिशला शर्मा आदि शामिल थे। 


ओटले तोडऩे से कई दुकानदार हुए बेरोजगार, दुकानदारों के सामने खड़ा हुआ रोजीरोटी संकट


sehore-news
सीहोर। ओटले तोडऩे से कई दुकानदार बेरोजगार हो गए है। नगर पालिका ने बिना पूर्व सूचना के ही मछली बाजार पहुंचकर ओटले तोड़ दिए है। गरीब दुकानदारों के सामने रोजी रोटी का संकट खड़ा हो गया है। मल्टीपर्पज बिल्डिंग में पर्याप्त दुकाने आवंटित कर रोजगार देने की मांग दुकानदारों ने नगर पालिका प्रशासन से की है। शुक्रवार को कलेक्ट्रेट पहुंचकर राष्ट्रीय मानव अधिकार मंच अध्यक्ष नौशाद खान के नेतृत्व में पीडि़त दुकानदारों ने डिप्टी कलेक्टर सतीष राय को ज्ञापन दिया है। दुकानदारों ने कहा की बीते 25 सालों से मछली बाजार में दुकानें लगा रहे है रोजी रोटी का केवल यही दुकान साधन है नगर पालिका प्रशासन ने गुरूवार को बिना पूर्व सुचना के ओटलों को तोड़ दिया है जिस से बेरोजगार हो गए है। परेशानियों का सामना सभी दुकानदारों को करना पड़ रहा है। दुकाने बंद होने से परिवारों के सामने भूखे मरने जैसी हालत होने लगी है। दुकानदारों ने नगर पालिका के द्वारा बनाए जा रहे मछली बाजार भवन में दुकानें आवंटित किए जाने की मांग की है। राष्ट्रीय मानव अधिकार मंच अध्यक्ष नौशाद खान ने कहा की मांग पूरी नही की जाती है तो मजबूरीवश दुकानदार धरना प्रदर्शन चक्का जाम जैसे आंदोलन करने के लिए विवश होंगे। ज्ञापन देने वालों में अकरम कुरैशी,मोहम्मद रज्जाक कुरैशी, अमीन कुरैशी, जब्बार कुरैशी, अवरार कुरैशी, जावेद, अजीम, याशीन, जाविर गोलू, समीर, कलीम, सलीम, वहीद, निजाम, इमरान, सौहेल, शहजाद, शौएव, अरमान सहित अन्य दुकानदार शामिल रहे।


पूरे सावन मास के दौरान चलेगी राधा कृष्ण मंदिर में भगवान शिव की अर्चना


sehore-news
सीहोर। शहर के गाड़ी अड्डा स्थित राधा कृष्ण मंदिर में हर साल की तरह इस साल भी सावन मास के दौरान भगवान शिव का विशेष अभिषेक साथ ही राधा कृष्ण महिला मंडल के तत्वाधान में भजन-कीर्तन का आयोजन किया जा रहा है। शुक्रवार को पंडित मनोहर शर्मा और यश शर्मा सहित अन्य मार्गदर्शन में पूर्ण विधि-विधान से पंचामृत से भगवान शिव का अभिषेक और महामृत्यंजय और ऊं नम: शिवाय का जाप किया गया।  इस मौके पर पंडित श्री शर्मा ने बताया कि मनुष्य की रचना पांच तत्वों  से मिलकर हुई है जिसमें पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु तथा आकाश। इनके अलावा पांच ज्ञानेन्द्रियां तथा पांच कर्मेन्द्रियां भी उसमें समावेशित हैं। इन सब  में सर्वाधिक शक्तिशाली मन को माना गया है जिसकी गति अत्यधिक तीव्र होती है मन की इसी चंचलता के कारण मात्र मनुष्यों को ही नहीं अपितु देवताओं के साथ-साथ दैत्यों को भी दु:ख झेलने पड़े थे। वहीं मन के पांच विकार बताये गये हैं। जिसमें काम, क्रोध, लोभ, मोह तथा अहंकार इन पांचों के कारण ही मनुष्य सदा ही दु:ख पाता है। प्राचीन काल में भी ऋषि विश्वामित्र, ऋ़षि दुर्वासा तथा इन्द्रादि देवताओं को भी इन विकारों के हाथों पराजित होना पड़ा था। कोई भी अनुष्ठान हो अथवा पूजा-अर्चना हो वह केवल तभी सफल होती है जब मन के इन विकारों से व्यक्ति मुक्त हो जाए और निर्मल मन से ईश्वर की आराधना करे। मन को निर्मल करने के लिए प्रत्येक पूजा में पंचामृत का उपयोग करने की सलाह दी गई है। शिवलिंग और अन्य देव मूर्तियों को स्नान कराने से लेकर प्रसाद के रूप में पंचामृत ग्रहण करने की परंपरा है।


कब्रिस्तान में बच्चों को डर लगता है पढऩे नहीं भेजेंगे, प्रशासन कबरों पर बुलडोजर चलाकर बना रहा है स्कूल

  • मईयत को स्कूल में रखकर हीं करेंगे ग्रामीण विरोध, तहसील श्यामपुर के ग्राम पंचायत बिछिया के ग्राम टप्पर का है पूरा मामला  

sehore-news
सीहेार। बच्चों को पढऩे नहीं भेजेंगे,क्योंकी बच्चों को कब्रिस्तान में डर लगता है। पुराना सरकारी स्कूल हाईवे निर्माण में जमीदोज हो गया है और प्रशासन कब्रिस्तान में स्कूल बना रहा है। कब्रिस्तान की जमीन के अंदर ग्रामीणों के पुरखों के कई शव दफन हैं। पूरा मामला जिले के श्यामपुर तहसील के ग्राम पंचायत बिछिया के अंतर्गत ग्राम टप्पर का है। स्थानीय प्रशासन कब्रिस्तान में मौजूद कबरों पर बुलडोजर चलाकर सरकारी स्कूल बनाना चाहता है ग्राम टप्पर में पुराना कब्रिस्तान है लगभग 50 वर्ष पुराना है। कब्रिस्तान में स्कूल बनाने को लेकर ग्रामवासियों में आक्रोश बना हुआ है। पहले भी कब्रिस्तान के पास जब स्कूल बनाया जा रहा था तब ग्रामीणों द्वारा मना किया गया था यहां स्कूल नहीं बनाएं लेकिन प्रशासन द्वारा ग्रामीणों की बात को नहीं सुना गया और जबरन स्कूल बना दिया गया। अब यह स्कूल फोरलेन सड़क निर्माण में चला गया है जिससे इस स्कूल का टूटना तय हो गया है। स्कूल भवन टूटने से शासन को भी लाखों रुपए का नुकसान होगा इधर वापस स्थानीय प्रशासन कब्रिस्तान की भूमि पर स्कूल बनाना चाहता है जबकि कब्रिस्तान के बाहर भी शासकीय भूमि मौजूद है। बावजूद इसके कब्रिस्तान में ही वापस स्कूल भवन का निर्माण कराया जा रहा है। ग्रामीणों का कहना है कि कब्रिस्तान में स्कूल बनाया तो हम अपने बच्चों को वहां पढ़ाने नहीं भेजेंगे क्योंकि बच्चे डर जाएंगे पूर्व अनुसार फिर शासन के पैसे का दुरुपयोग हो जाएगा जिससे सरकार को भी नुकसान होगा बच्चों की सुरक्षा देखते हुए कब्रिस्तान की भूमि को छोड़कर अन्य शासकीय भूमि पर ही विद्यालय को बनाया जाए जिससे वे अच्छी शिक्षा प्राप्त कर सकें सरपंच द्वारा भी तहसीलदार श्यामपुर से अनुशंसा की गई थी की कब्रिस्तान में स्कूल नहीं बनाया जाए ग्रामीणों का कहना है कि यदि फिर भी कब्रिस्तान में ही शासकीय विद्यालय बनाया गया तो हमारे पास दफनाने के लिए जगह नहीं बचेगी तो हम फिर मृतक को दफन कहां पर करेंगे। ऐसी अवस्था में हम सब स्कूल के परिसर में ही रख कर चले जाएंगे और दफनाने की जिम्मेदारी भी फिर स्कूल और प्रशासन की होगी। मांग करने वालों में रहीम खा,अब्दुल करीम, नसरू, मजीद खां, बशीर खान, अयूब खां, कमरुद्दीन हाजी साहब, इरफान खा,शब्बीर खा, हनीफ खा, शाकिर खा, इरशाद खा,समीर खा,मजीद खा,बाबू खा, मतीन खा, बाबू खा, नसीब खा, निजामुद्दीन, सद्दाम, अफजल, अमजद आदि ग्रामीणजन शामिल है।


इनरव्हील क्लब का पौधारोपण कार्यक्रम हुआ।


sehore-news
इनरव्हील क्लब का पौधारोपण कार्यक्रम हुआ। गत दिवस इनरव्हील क्लब द्वारा वृक्षारोपण का कार्यक्रम विजयवर्गीय मोटर्स के फॉर्म पर संपन्न हुआ।   इनरव्हील अध्यक्ष श्रीमती शशि विजयवर्गीय ने बताया कि पर्यावरण संरक्षण एवं प्रकृति को प्रदूषण  से बचाने हेतु और पृथ्वी पर प्राकृतिक संतुलन बनाने हेतु आज वृक्षारोपण  हमारी नैतिक जिम्मेदारी, और आवश्यकता भी है । आज उसी दायित्व को पूरा करने हेतु  हम सब यहां उपस्थित हुए हैं।  सचिव हेमलता राठौर ने कहा हमने करीबन 25 पौधे लगाएं और आगे 75 पौधे और लगाने का सोचा है  हमने।  श्रीमती शशि विजयवर्गीय ने कहा इस प्रांगण में इन पौधो को लगाने का मुख्य कारण यही है इन पौधों का संरक्षण भी किया जा सके केवल पौधे लगा लेना ही काफी नहीं होता है उनका बचाव भी किया जा सके और उनमें समय-समय पर पानी और खाद डाला जा सके इसीलिए यहां यह भी अति आवश्यक है।  आर . ए.के कॉलेज से श्रीमान वर्मा जी ने पौधों के रखरखाव के बारे में  विस्तार से बताया।   मंडल की सभी सदस्यों कोषा. नीति ठकराल , तारा अग्रवाल, कुसुम सरेआम, नमिता श्रीवास्तव, मधु मिस्त्री, पम्मी  बादवा, मीरा कौशल, सीमा व्यास अर्चना वर्मा,   श्वेता  , माधवी आदि ने वृक्षारोपण कार्यक्रम में सक्रियता से भाग लिया।


बालिकाओं को जूडो कराटे आत्मरक्षा अटैक एंड  डिफेंस फाइट योग आसन प्राणायाम सूर्य नमस्कार 


sehore-news
सीहोर आर्य वीर दल प्रशिक्षण शिविर आर्य समाज लोधी मोहल्ला गंज  एवं आर्य समाज का युवा संगठन आर्य वीर दल के संयुक्त तत्वाधान में अग्नि वीर के लिए प्राथमिक सात दिवसीय अल्पकालीन प्रशिक्षण शिविर ग्राम खजुरिया कला सरस्वती शिक्षा विद्या मंदिर मैं समय दोपहर 12:00 बजे से 3:00 बजे तक विद्यालय के विद्यार्थियों को योग एवं आत्मरक्षा का प्रशिक्षण दिया जा रहा है जिसमै बालक एवं बालिकाओं को जूडो कराटे आत्मरक्षा अटैक एंड डिफेंस फाइट योग आसन प्राणायाम सूर्य नमस्कार भूमि  नमस्कार देशीये खेलो का अभ्यास वैदिक धर्म एवं आर्य समाज आर्य संस्कृति के विषय में आर्य वीरो को बौद्धिक  ज्ञान कराया जा रहा है आर्य वीर दल मध्य प्रदेश से विदर्भ के पूर्व प्रांतीय संचालक दिनेश वाजपेई एवं मध्य प्रदेश विदर्भ के प्रांतीय संचालक  भेरू सिंह  आर्य आर्य वीर दल  जिला संचालक संदीप  आर्य जिला आगर मालवा ग्राम हरनावदा व्य्यायाम शिक्षक  राहुल आर्य आर्य समाज  प्रधान आचार्य विजय राठौर मंत्री अरुण राठौर कोषाध्यक्ष जितेंद्र  सोनी उप प्रधान पंकज  राठौर उप मंत्री नीरज राठौर प्रचार मंत्री अंकित  राठौर एवं अमित  आर्य आर्य समाज के पुरोहित  जगदीश  दुबे आर्य वीर दल जिला सीहोर के बौद्धिक अध्यक्ष संतोष सिंह आर्य सहायक बौद्धिक अध्यक्ष एवं आर्य समाज निपानिया कला के मंत्री बृजेश  झलावा कमांडो ट्रेनिंग देने वाले नितेश  दुबे आर्य समाज के पूर्व प्रधान रामस्वरूप गौर इन सभी के सहयोग एवं मार्गदर्शन में में साथ ही विद्यालय परिवार के विशेष सहयोगी आचार्य सर्वेश आचार्य मनोहर जोशी आचार्य नंदगोपाल गौर आचार्य अशोक धनगर आचार्य ओम प्रकाश गौर आचार्य राजेंद्र वर्मा आचार्य राघव गौर आचार्य योगेश सक्सैना आचार्य नेहा  जोजोशी आचार्य रचना रघुवंशी आचार्य माया रघुवंशी आचार्य रीना ठाकुर आचार्य मोनिका बाहेती आचार्य आरती महेश्वरी आचार्य शगुफ्ता खान आदि शिक्षकों ने अपना विशेष योगदान इस प्रशिक्षण शिविर के लिए दिया


भागवत कथा में गोवर्धन पूजा के साथ छप्पन भोग के दर्शन


sehore-news
सीहोर। भगवान की भक्ति के लिए भक्तों के अंदर शरणागत का भाव होना आवश्यक है, तभी उसे प्रभु के श्री चरणों में स्थान प्राप्त हो सकता है। जीवन की सफलता का भी तो मुख्य उद्देश्य यही है। यह बात शहर के बड़ा बाजार स्थित अग्रवाल धर्मशाला में जारी सात दिवसीय भागवत कथा के पांचवें दिवस आचार्य पंडित देवेन्द्र राधेश्याम व्यास ने गोवर्धन पूजा की दिव्य कथा विस्तार पूर्वक सुनाई। जिसे सुनकर श्रद्धालु भाव विभोर हो गए। शुक्रवार को आरती के दौरान पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष राकेश राय सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालु मौजूद थे। आचार्य श्री व्यास ने बाल कृष्ण की अनेकों बाल लीलाओं का वर्णन करने के पश्चात गोवर्धन पूजा एवं इन्द्र के मान मर्दन की कथा सुनाई। इस अवसर पर भगवान गिरिराज महाराज के समक्ष सुंदर छप्पन भोग के दर्शन कराए। उन्होंने यह भी बताया कि जहां सत्य एवं भक्ति का समन्वय होता है, वहां भगवान का आगमन अवश्य होता है। गाय की सेवा एवं महत्व को समझाते हुए बताया कि प्रत्येक हिन्दु परिवार में गाय की सेवा अवश्य होनी चाहिए। गाय का दूध अमृत के समान बताया। गोवर्धन भगवान की पूजा विधि विधान से कराई। उन्होंने कहा कि भगवान को उनकी की कृपा से ही जाना जा सकता है, मगर भगवत कृपा की एक शर्त शरणागति है। शरणागत का शाब्दिक अर्थ है शरण में आया हुआ, कितु इसका निहितार्थ आध्यात्मिक संदर्भ में ईश्वर के प्रति संपूर्ण समर्पण से है। वसुदेव जी के कहने पर ब्रज से भगवान कृष्ण और बलराम के रक्षार्थ नंद बाबा का गोकुल जाने की बजाय श्री हरि के शरण में जाना इसकी प्रामाणिकता को सिद्ध कर रहा है। कथा को आगे बढ़ाते हुए सांसारिक, सामाजिक, भौतिक और मानसिक व्याधियों से मुक्ति का सबसे सुलभ मार्ग भगवान के श्री चरणों में समर्पण का भाव होना है। चूंकि, जीव अपनी जरूरत से अधिक सांसारिक इच्छाओं की पूर्ति में जुटा रहता है और अनेकानेक प्रकार के कर्म बंधनों में बंध जाता है। इन कर्म बंधनों से मुक्त होने का एक मात्र उपाय है कृष्ण भक्ति। मगर इसके लिए भक्त में श्रद्धा और विश्वास का होना आवश्यक है। उन्होंने कहा कि भगवान की कृपा के बिना कोई भी उन्हें नहीं जान सकता। ईश्वर की सच्ची साधना समस्त प्रकार के अहंकार से मुक्त होकर निष्काम भाव से कर्म करना है। कहने का तात्पर्य यह है कि भगवान श्रीकृष्ण का पूर्ण शरणागत भक्त इस अनित्य संसार में किसी भी परिस्थिति में व्याकुल नहीं होता। भगवान श्रीकृष्ण निरंतर अपने शरणागत भक्त की रक्षा करते हैं और उसका पालन करते हैं। 


जिला सड़क सुरक्षा समिति की बैठक

  • इंदौर-भोपाल हाईवे पर चार फ्लाईओवर बनाने का प्रस्ताव शासन को भेजा गया, चौराहों पर रिफ्लेक्टर लगाने के कलेक्टर ने दिए निर्देश
  • निरंतर कार्यवाही के परिणामस्वरूप जिले के ब्लैक स्पॉट में आई है कमी

sehore-news
जिला सड़क सुरक्षा समिति की बैठक कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित की गई। बैठक में कलेक्टर श्री ठाकुर ने सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए पुलिस, परिवहन तथा सभी संबंधित विभागों को समन्वित रूप से प्रभावी कार्यवाही करने के निर्देश दिए। बैठक में एसपी श्री मयंक अवस्थी, जिला परिवहन अधिकारी श्री रीतेश तिवारी सहित सड़क सुरक्षा समिति के अन्य सदस्य उपस्थित थे। बैठक में जानकारी दी गई कि जिले में पहले 16 ब्लैक स्पॉट थे। ब्लैक स्पॉट को कम करने की कार्यवाही के स्वरूप 6 ब्लैक स्पॉट की कमी आई है। ब्लैक स्पॉट के मामले में पहले सीहोर जिला प्रदेश में दूसरे स्थान पर था, निरंतर कार्यवाही के चलते जिला अब ब्लैक स्पॉट के मामले में प्रदेश में 11वें स्थान पर है। बैठक में मध्यप्रदेश रोड डेव्हलपमेंट कार्पोंरेशन के अधिकारी ने बताया ‍कि सैकड़ाखेड़ी जोड़, बिलकिसगंज जोड़, क्रीसेन्ट चौराहा तथा जावर जोड़ पर फ्लाइओवर बनाने का प्रस्ताव शासन को भेजा गया है। इसके साथ ही बिलकिसगंज जोड़ से कोलीपुरा एवं क्रीसेन्ट चौराहे से शहर के अंदर तक सड़क को फोरलेन बनाया जाएगा। बैठक में जानकारी दी गई कि माह जनवरी 2022 से तेज गति से वाहन चलाने वाले 136 वाहन चालकों के विरूद्ध कार्यवाही की गई है। दुर्घटना के दौरान दुर्घटनाग्रस्त व्यक्ति की मदद कर अस्पताल तक पहुचाने के लिए मददगार दो व्यक्तियों के नाम गुड समरिटन पुरूस्कार के लिए प्रस्तावित किए गए है। कलेक्टर श्री ठाकुर ने दुर्घटनाओं को कम करने के लिए क्रीसेन्ट चौराहे पर हाई मास्क लगाने के साथ ही सभी चौराहों पर रिफलेक्टर लगाने के निर्देश दिए। साथ ही उन्होंने स्कूलों में जागरूकता कार्यक्रम चलाने के निर्देश दिए। उन्होंने वाहनों चालकों के नेत्र परीक्षण के लिए नेत्र परीक्षण शिविर लगाने के निर्देश दिए। नाबालिग बच्चों द्वारा वाहन को चलाने से रोकने के लिए निरंतर चैकिंग कर चालानी कार्यवाही करने के निर्देश दिए। इसके अलावा यातायात नियमों का बार-बार उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों का लायसेंस निरस्त करने के निर्देश भी दिए।


जिले में संक्रामक रोग हैजा की आशंका तथा सार्वजनिक स्वास्थ्य सुरक्षा के दृष्टिगत तथा बीमारियों के फैलाव की रोकथाम के लिए जिले में प्रतिबंधात्मक आदेश जारी


जिले में संक्रामक रोग हैजा के फैलाव से सार्वजनिक स्वास्थ्य सुरक्षा को दृष्टिगत रखते हुए तथा अन्य बीमारियों के फैलाव की रोकथाम के लिए कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर ने जिले को अधिसूचित घोषित कर प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किये है। अधिसूचित क्षेत्र के सार्वजनिक स्थानों के उपहारगृहो, भोजनालयों, होटलो जनता के लिये खाद्य और पेय पदार्थो के निर्माण करने या उसके प्रदाय के लिये ली गई स्थापना में विक्रय या निमूल्य वितरण के लिए उपयोग में गये स्थानों पर बासी मिठाईयॉ या खराब वस्तुओं या सडे गले फलो, सब्जियों, मांस, मछलिया अण्डो की ब्रिकी प्रतिबंधित रहेगी। कलेक्टर श्री ठाकुर द्वारा जारी आदेश अनुसार खुले बाजार में बिकने वाले खाद्य पदार्थों ताजी मिठाईयों, नमकीन, फल, सब्जियों, दूध, दही, उबली चाय, काफी, शरबत, मांस-मछली अण्डे, आईस्क्रीम, कुल्फी आदि खाध पदार्थ, बर्फ के लडडू व चूसने वाले अन्य पदार्थ ब्रिकी के लिए खुले में नही रखे जाएंगे। उन्हें जालीदार ढ़क्कनो से ढककर रखा जाएं ताकि दूषित होने से बचाया जा सके। प्रतिबंध अवधि में अधिसूचित क्षेत्र से बाहर कोई भी व्यक्ति इन वस्तुओं से तैयार भोजन लायेगा और न ही ले जायेगा। प्रतिबंधित अवधि में घोषित क्षेत्र में बाजार, भवन, दुकान, स्टॉल अथवा खाने पीने की किसी भी वस्तु के विक्रय निमूल्य वितरण के लिए उपयोग में लाए जा रहे स्थानों में प्रवेश करने, वस्तुओं की जांच पड़ताल करने तथा खाने की ऐसी वस्तुओं जो मानव उपयोग के लिए अभिप्रेरित है और अन्य उपयुक्त बस्तुओं के अधिग्रहण करने, हटाने एवं नष्ट करने या ऐसी रीति से निवर्सन करने के लिए मानव द्वारा उपयोग में लाए जाने से रोका जा सके। इसके लिए कलेक्टर श्री ठाकुर ने जिले के समस्त कार्यपालिक दण्डाधिकारी, चिकित्सा पदाधिकारी, सहायक चिकित्सा अधिकारी तथा शासकीय एवं आयुर्वेदिक अस्पतालों, प्रधान आरक्षक, सीहोर एवं आष्टा के नगर पालिका सीएमओ, खाद्य सुरक्षा अधिकारी,स्वास्थ्य अधिकारी, स्वच्छता निरीक्षक सीहोर, आष्टा, बुधनी, नसरूल्लागंज, इछावर, श्यामपुर, जनपद पंचायत सीहोर, आष्टा, बुधनी, इछावर, नसरूल्लागंज के सीईओ को प्राधिकृत किया है। अधिसूचित क्षेत्र में नालियो, नालों गटरों, पानी के गढ्डों, पोखरो, जल कुण्डों, संडासों, संक्रामक वस्त्रों, कूड़ाकरकट अथवा किसी प्रकार की गंदगी को हटाने के संबंध में सूचित एवं रोगाणु नाशक पदार्थों का समुचित उपयोग करने के आदेश दे सकेंगे। यह आदेश तत्काल प्रभाव से 6 माह की अवधि या अन्य आदेश तक प्रभावशील होगा। 


जिला एवं जनपद पंचायतों के अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष के निर्वाचन के लिए पीठासीन अधिकारी नियुक्ति में संशोधन


जिले में जिला पंचायत एवं जनपद पंचायों के अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष के निर्वाचन के लिए अधिकारियों को पीठासीन अधिकारी बनाया गया है। जिला पंचायत सीहोर के लिए अपर कलेक्टर श्रीमती गुंचा सनोबर के स्थान पर कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर को पीठासीन अधिकारी बनाया गया है। शेष आदेश यथावत रखा रहेगा। जिसमें जनपद पंचायत सीहोर के लिए एसडीएम श्री अमन मिश्रा, जनपद पंचायत इछावर के लिए एसडीएम श्री विष्णु प्रसाद यादव, जनपद पंचायत नसरूल्लागंज के लिए एसडीएम श्री दिनेश तोमर, जनपद पंचायत आष्टा के लिए एसडीएम श्री आनन्द सिंह राजावत, जनपद पंचायत बुधनी के लिए एसडीएम श्री राधेश्याम बघेल को पीठासीन अधिकारी बनाया गया है।

कोई टिप्पणी नहीं: