सुमैया रौशन बनीं जीआईओ की पहली राष्ट्रीय अध्यक्ष - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 31 जुलाई 2022

सुमैया रौशन बनीं जीआईओ की पहली राष्ट्रीय अध्यक्ष

sumaiya-roshan-became-the-first-national-president-of-gio
नयी दिल्ली, 31 जुलाई, जमात-ए-इस्लामी हिन्द (जेआईएच) के बालिका छात्र संगठन गर्ल्स इस्लामिक ऑर्गेनाइज़ेशन (जीआईओ) ने कर्नाटक की एडवोकेट सुमैया रौशन को अपना पहला राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना है। जीआईओ ने रविवार को यह जानकारी दी। जीआईओ ने यहां जारी एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि देशभर में जीआईओ के राज्य परिषदों को संगठित करके पहली बार एक राष्ट्रीय महासंघ बनाया गया है। एडवोकेट रौशन जहां जीआईओ की राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं, वहीं केरल की समर अली को राष्ट्रीय महासचिव चुना गया है। सुश्री रौशन ने यहां संवाददाताओं को संबोधित करते हुए कहा,“ऐसे कई संगठन हैं जो महिलाओं के लिये काम कर रहे हैं, लेकिन जीआईओ का काम राज्य स्तर पर भी बाकी सब से अलग रहा है। हम एक संविधान और कार्य नीति के तहत सब काम करते हैं। जीआईओ के सभी राज्य परिषदों को एक साथ लाने के लिये राष्ट्रीय महासंघ की ज़रूरत थी। हम यहां से अलग-अलग राज्यों के सदस्यों के विचारों पर ध्यान देंगे।” जीआईओ महासचिव अली ने कहा, “जीआईओ राज्य स्तर पर मुस्लिम महिलाओं के समग्र विकास पर काम कर रहा है और आगे भी करता रहेगा। राष्ट्रीय स्तर पर, महासंघ का उद्देश्य राज्यों के बीच बातचीत और विचारों के आदान-प्रदान का समन्वय करना और राष्ट्रीय महत्व के प्रमुख मुद्दों को संबोधित करना और आवाज देना होगा।” उन्होंने कहा, “जीआईओ का उद्देश्य महिलाओं को समाज की चुनौतियों से लड़ने के लिए तैयार करना है। इसके कार्य का दायरा केवल मुस्लिम मुद्दों तक ही सीमित नहीं है, बल्कि सामान्य रूप से महिलाओं के मुद्दे और राष्ट्रीय मुद्दे भी हमारे लिये महत्वपूर्ण हैं।”

कोई टिप्पणी नहीं: