मधुबनी : संभावित सुखाड़ एवम उससे उत्पन्न होने वाली स्थितियों हेतु बैठक आयोजित - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

सोमवार, 1 अगस्त 2022

मधुबनी : संभावित सुखाड़ एवम उससे उत्पन्न होने वाली स्थितियों हेतु बैठक आयोजित

  • मुख्य सचिव,बिहार की अध्यक्षता में अनियमित मॉनसून के कारण संभावित सुखाड़ एवम उससे उत्पन्न होने वाली स्थितियों से निपटने हेतु मधुबनी सहित सभी जिलों के जिला पदाधिकारियों के साथ वर्चुअल माध्यम से आयोजित हुई बैठक।
  • जिलाधिकारी अरविन्द कुमार वर्मा ने जिले में वर्षापात की वर्तमान स्थिति,धान की रोपनी,डीजल अनुदान,खाद की उपलब्धता, नहरों में पानी की स्थिति,नलकूपों की स्थिति,कृषि फीडर को बीजली की उपलब्धता ,वैकल्पिक कृषि योजना आदि को लेकर दी विस्तृत जानकारी 

madhubani-dm-news
मधुबनी, मुख्य सचिव,बिहार की अध्यक्षता में अनियमित मॉनसून के कारण संभावित सुखाड़ एवम उससे उत्पन्न होने वाली स्थितियों से निपटने हेतु मधुबनी सहित सभी जिलों के जिला पदाधिकारियों के साथ  वर्चुअल माध्यम से बैठक आयोजित की गई। बैठक में जिलावार वर्षापात की अद्यतन स्थिति,रोपनी की स्थिति, डीजल अनुदान,उर्वरक की उपलब्धता,सिंचाई की व्यवस्था,वैकल्पिक कृषि आदि की विस्तृत समीक्षा की गई।समीक्षा के क्रम में जिलाधिकारी अरविन्द कुमार वर्मा ने जिले में वर्षापात की वर्तमान स्थिति,धान की रोपनी,डीजल अनुदान,खाद की उपलब्धता, नहरों में पानी की स्थिति,नलकूपों की स्थिति,कृषि फीडर को बीजली की उपलब्धता वैकल्पिक कृषि योजना आदि को लेकर विस्तृत जानकारी दिया।  उन्होंने कहा कि जून 2022 से 31जुलाई,2022 तक 32.2%कम वर्षापात हुई है। इस अवधि में सामान्य वर्षापात 536.4 mm के विरुद्ध वास्तविक औसत वर्षापात 374.2 mm हुई है। इस प्रकार -162.2mm विचलन है।  जुलाई माह में सामान्य वर्षापात 322.8 के विरुद्ध वास्तविक औसत वर्षापात 144.5mm हुई है। उन्होंने कहा कि अगले तीन-चार दिन अच्छी बारिश की संभावना व्यक्त की गई है।।अभी तक 70 प्रतिशत धान की रोपनी हुई है। नहरों से पर्याप्त पानी की आपूर्ति हो रही है। नहरों के अंतिम छोर तक पानी पहुचाने का कार्य किया जा रहा है।पिछले वर्ष लगभग 87 प्रतिशत रोपनी हुई थी। उन्होंने बताया कि इस वर्ष भी लगभग 90 प्रतिशत धान की रोपनी हो जाएगी। वर्तमान में 122 नलकूप चालू है,बन्द पड़े नलकुपो को शीघ्र चालू करने का निर्देश दिया गया है। उन्होंने कहा की जिले में पटवन हेतु 39 कृषि फीडर से सुबह 5 बजे से रात्रि 9 बजे तक विधुत आपूर्ति की जा रही है। उन्होंने कहा कि  आकस्मिक फसल योजना भी बना ली गई है एवम फसलवार संभावित बीज की आवश्यकता का आकलन भी कर ली गई है। उन्होंने कहा रोपनी को देखते हुए जिले में खाद की उपलब्धता बनाये रखने का निर्देश जिला कृषि पदाधिकारी को दिया गया है,साथ ही खाद की कालाबाजारी पर भी नजर रखी जा रही है। उन्होंने कहा कि खाद की कालाबाजारी की सूचना के लिए नंबर जारी किया गया है। 7484086690 नंबर पर कोई भी व्यक्ति खाद की कालाबाजारी से संबधित सूचना दे सकता है,जिस पर त्वरित करवाई की जाएगी। जिलाधिकारी ने कहा कि  सभी संबधित पदाधिकारियो को लगातार स्थिति पर नजर बनाए रखने का निर्देश दिया गया है। उन्होंने कहा कि मौसम विभाग द्वारा बारिश की संभावना व्यक्त की गई है।  हर स्थिति के लिए हम तैयार है।वर्तमान में सभी महत्त्वपूर्ण नदियों का जलस्त में वृद्धि देखी रही है।   नदियों के जलस्तर पर लगातार नजर रखी जा रही है एवम तटबन्धों की 24 घंटे निगरानी किया जा रहा है। जिलाधिकारी ने बताया कि मानसून की वर्षा कभी भी जिले को प्रभावित कर सकती* है ,एवम कभी भी बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हो सकती है,इसलिये सभी संबधित पदाधिकारी को पूरी तरह से अलर्ट मोड में रहने का निर्देश दिया गया है। जिला पदाधिकारी अरविन्द कुमार वर्मा,जिला कृषि पदाधिकारी,डीपीआरओ सह आपदा प्रभारी परिमल कुमार सहित सभी संबंधित अधिकारी वर्चुअल माध्यम से बैठक में शामिल हुए।

कोई टिप्पणी नहीं: