कन्हैया कुमार बने सबसे कम आयु में स्कूल के प्रधानाचार्य - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

रविवार, 14 अगस्त 2022

कन्हैया कुमार बने सबसे कम आयु में स्कूल के प्रधानाचार्य

kahiya-kumar
नई दिल्ली। ब्रिलियंट जूनियर पब्लिक स्कूल,विकास नगर के शारीरिक शिक्षक कन्हैया कुमार की मेहनत और लगन के साथ योगयताओं को देखते हुए उन्हें अब स्कूल का प्रधानाचार्य नियुक्त किया गया है। सबसे कम आयु में प्रधानाचार्य बनने वाले कन्हैया कुमार को स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर स्कूल प्रांगण में आयोजित एक समारोह में रोप स्किपिंग फेडरेशन ऑफ़ इंडिया के मीडिया प्रभारी एवं दिल्ली जम्प रोप एसोसिएशन के कोषाध्यक्ष अशोक कुमार निर्भय ने स्कूल के चेयरमैन जय प्रकाश सोनी की उपस्थिति में प्रधानाचार्य का नियुक्ति पत्र सौंपा।  इस मौके पर अशोक कुमार निर्भय ने नव - नियुक्त प्रधानाचार्य कन्हैया कुमार को बधाई और शुभकामना देते हुए कहा कि किसी भी शिक्षक के लिए वह क्षण बहुत गौरवशाली होता है जब उसकी पहचान उसके काम और मेहनत से बनती है। आज कन्हैया कुमार जी का जन्मदिन भी है और स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या जब हम आज़ादी का अमृत महोत्सव मना रहे हैं और दूसरा जिसको प्रमोशन मिला उसका जन्मदिन भी हो तो यह ख़ुशी किसी के लिए भी गरिमामयी अनुभूति ही होगी। इस मौके पर स्कूल क बच्चों और सहभागी प्रशिक्षकों ने स्वतंत्रता दिवस मनाया और खुशियों को साझा किया। बच्चों के देशभक्ति कार्यक्रम और तिरंगा यात्रा ने मन मोह लिया। इस कार्यक्रम के दौरान ब्रिलियंट जूनियर पब्लिक स्कूल के चेयरमैन जय प्रकाश सोनी,शारीरिक शिक्षिका सुश्री सोनाली गुप्ता,शिक्षिका सुश्री नेहा,कशक,प्रियंका,इसिका,शिल्पी,विभा,कविता अमरीन के साथ साथ हमारे मुख्य प्रशिक्षक विवेक सोनी, राष्ट्रीय प्रशिक्षक रामकुमार शर्मा,हेमलता निषाद,दीपक गुप्ता,दीपक शांडिल्य,राहुल शर्मा,कुश रावत,रवि पासवान,मुकुल गुप्ता,डी ए वी स्कुल के शारीरिक शिक्षक आकाश शर्मा समेत अनेक साथियों ने इस गरिमामयी क्षण का साक्षी बनकर अपनी उपस्थिति दर्ज़ करायी।

कोई टिप्पणी नहीं: