बिहार : भाजपा की चिन्ता छोर अपनी पार्टी जदयू की चिन्ता करे कुशवाहा : मोर्चा - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

रविवार, 14 अगस्त 2022

बिहार : भाजपा की चिन्ता छोर अपनी पार्टी जदयू की चिन्ता करे कुशवाहा : मोर्चा

bihar-news-morcha
पटना 14 अगस्त, राष्ट्रीय सामाजिक न्याय मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेन्द्र चौहान,प्रधान महासचिव नरेश महतो एव राष्ट्रीय प्रवक्ता नीलमणि पटेल ने संयुक्त बयान जारी करते हुये कहा कि जदयू संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा को भाजपा की चिन्ता छोड़ जदयू की चिन्ता करना चाहिए। उपेन्द्र कुशवाहा यह कैसे भूल गये कि जदयू मे जार्ज साहब के योगदान को कैसे  दरकिनार कर उन्हे हाशिये पर ला दिया गया था। जदयू के कद्दावर नेता जिन्होंने पार्टी के निर्माण मे एहम भूमिका का निर्वहन किया शरद यादव के साथ क्या व्यवहार किया और कैसे उन्हे पार्टी से दरकिनार किया गया कुशवाहा जी कैसे भूल गये। जदयू वास्तव मे डुबता हुआ जहाज है जिसमे कयी सारे छेद हो चुके है और बिहार की राजनीति रुपी समुद्री ज्वार मे इस जहाज का डुबना भी तय है।  मोर्चा नेताओं ने कहा कि कुशवाहा जी यह समझ ले कि बिहार की जनता नीतीश कुमार जी के अवसरवादी चेहरा को देख चुकी है। राजद के साथ जदयू का बेमेल गठजोड़ ज्यादा दिन तक चलने वाला नही है।‌ जनादेश का अपमान कर स्वार्थ की राजनीति करने वाले नेताओं को चुनाव मे सबक सिखाने को तैयार बैठी बिहार की जनता। भाजपा विकासवाद की राजनीति करने मे विश्वास करती है। इसलिए भाजपा की चिन्ता छोर कुशवाहा जी को जदयू की डुबती नैया कि चिन्ता करना चाहिए।

कोई टिप्पणी नहीं: