शर्म के कारण महिलाएं गंभीर बीमारियों के बारे में भी नहीं बताती - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 31 अगस्त 2022

शर्म के कारण महिलाएं गंभीर बीमारियों के बारे में भी नहीं बताती

  • लुक इन टू द फ्यूचर सम्मेलन में मधुबनी की डॉ निधि झा

women-problems
इंडियन सोसायटी ऑफ एस्थेटिक एंड रीजनरेटिव मेडिसिन (इनसर्ग) द्वारा फॉग्सी यंग टेलेंट प्रमोशनल कमेटी, जेनेटिक्स कमेटी के सहयोग से उत्तर प्रदेश में आगरा के ताज कन्वेंशन सेंटर में महिला स्वास्थ्य और आनुवंशिक पर तीन दिवसीय सम्मेलन का आयोजन किया गया। लुक इन टू द फ्यूचर थीम पर आयोजित इस सम्मेलन में महिलाओं से जुड़ी उन रोगों या समस्याओं पर चर्चा की गई, जिसका निदान किया जाना जरूरी है। इस सम्मेलन में देश-दुनिया से 500 से अधिक स्त्री रोग विशेषज्ञों ने भाग लिया।  सम्मेलन में मधुबनी जिला के अरेर निवासी डॉ निधि झा ने अंतरंग महिला स्वास्थ्य और भारत में इसकी स्थिति पर बात की। डॉ निधि झा फिलहाल दिल्ली में रहती हैं। डॉ निधि झा के पति भी दिल्ली में लीवर ट्रांसप्लेंट के सीनियर चिकित्सक हैं। डॉ निधि झा एक प्रसिद्ध कॉस्मेटिक स्त्री रोग विशेषज्ञ और बांझपन (IVF) विशेषज्ञ हैं। उनके प्रदर्शनों की सूची में कई कठिन गर्भधारण शामिल हैं, जिसके परिणामस्वरूप सफल परिणाम प्राप्त हुए हैं। बांझपन और आईवीएफ के क्षेत्र में उन्होंने बहुत कठिन प्रसूति इतिहास और बार-बार गर्भावस्था के नुकसान वाले सैकड़ों जोड़ों की सफलतापूर्वक मदद की है। डॉ निधि झा ने कॉस्मेटिक स्त्री रोग के क्षेत्र में सही उपचार खोजने के लिए संघर्ष कर रहे कई रोगियों को राहत दी है। सम्मेलन में आए चिकित्सकों को संबोधित करते हुए डॉ निधि झा ने कहा कि महिलाएं कई बार शर्म के कारण अपने बीमारियों के बारे में भी परिवार के लोगों को नहीं बताती हैं। इससे वो धीरे-धीरे गंभीर रूप ले लेती हैं। उन्होंने बांझपन के कुछ कारणों के बारे में भी बताया और कहा कि इसका उपचार संभव है। डॉ निधि झा ने कहा कि महिलाओं की कई समस्याएं ऐसी हैं जिसका अगर शुरू में ही इलाज लेना शुरू कर दिया जाए तो हम उससे छुटकारा पा सकते हैं। लेकिन हम आमतौर पर हल्के में लेते हैं और ना चो डॉक्टर के पास जाते हैं ना इलाज करा पाते हैं। इससे बाद में बढ़कर वो खतरनाक रूप ले लेता है। आज चिकित्सा विज्ञान ने काफी प्रगति की है और हमारे पास बीमारियों के रोकथाम के लिए आजकल काफी संसाधन और क्षमता मौजूद हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: