हजरत मौलाना रसूल बख़्श नूरी उर्फ गामा मियां का का इंतकाल - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 31 अगस्त 2022

हजरत मौलाना रसूल बख़्श नूरी उर्फ गामा मियां का का इंतकाल

gama-miyan-no-more
खागा - फतेहपुर। हजरत हुजूर मुफ्ती ए आजम हिंद के खलीफा हजरत मौलाना रसूल बख़्श नूरी उर्फ गामा मियां का मंगलवार दोपहर को इंतकाल हो गया था उन्हें बुधवार की सुबह बख़्शीश नगर, बहेरा सादात में 10 बजे के बाद नम आंखों के साथ सुपुर्द-ए-खाक कर दिया गया। इस दौरान हजारों की तादाद में लोग मौजूद रहें। वे लगभग 80 वर्ष के थे, उनके इंतकाल की खबर लगते ही क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई तथा उनके गांव बहेरा सादात सहित इलाके से भारी भीड़ जुटनी शुरू हो गई।  मौलाना रसूल बख़्श नूरी उर्फ गामा मियां का मंगलवार की दोपहर डेढ़ बजे उनके घर पर ही इंतकाल हो गया था, वह काफी दिन से बीमार चल रहे थे। वे अपने पीछे अपनी धर्म पत्नि, चार लड़के और तीन लड़कियां छोड़ गए हैं। हजरत मौलाना रसूल बख़्श नूरी उर्फ गामा मियां अपने क्षेत्र में एक विशेष सम्मान पाने वाले मुस्लिम धर्म गुरु थें, उनके चाहने व मानने वाले कई जिले में लोग हैं। और उनके पांच बेटे थें जो सभी हाफ़िज़, कारी और मौलाना हैं जिसमें से एक बड़े साहबजादे का बीते 2 वर्ष पहले इंतकाल हो गया था और वर्तमान में कारी बिलाल नूरी, कारी हेलाल नूरी, कारी अफजाल नूरी और कारी अहमद नूरी आज भी इस्लाम के धर्म गुरुओं के रूप में देश के विभिन्न इलाकों में अपनी सेवा दे रहे हैं।  उनके जनाजे में शिरकत करने के लिए दूर - दराज से चलकर आए कई धर्म गुरुओं के साथ ही इलाके के संभ्रांत लोगों सहित आमजन भी भारी तादाद में उपस्थित रहें।

कोई टिप्पणी नहीं: