बिहार : जदयू चाहता है कि पद पर बने रहें हरिवंश - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

गुरुवार, 18 अगस्त 2022

बिहार : जदयू चाहता है कि पद पर बने रहें हरिवंश

jdu-wants-harivansh-to-continue-in-the-post
पटना: बिहार में जदयू और नीतीश कुमार एनडीए से अलग हो चुके हैं। पाला बदल कर अब वह एनडीए की बजाय राजद के साथ महागठबंधन के सीएम बन चुके हैं। इसके बाद भी जदयू चाहता है कि राज्यसभा के डिप्टी स्पीकर हरिवंश नारायण सिंह अपने पद से इस्तीफा न दें और वे डिप्टी स्पीकर बने रहें। जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह ने कहा कि हरिवंश सिंह को अपने पद से इस्तीफा देने की कोई जरूरत नहीं। एनडीए से जदयू का अलग होना राजनीतिक फैसला है, जबकि वह एक सदन में डिप्टी स्पीकर हैं। इसका उनसे कोई लेना.देना नहीं। एक अखबार से बातचीत में ललन सिंह ने कहा कि राज्यसभा के डिप्टी चेयरमैन का पद सदन से जुड़ा मामला है। इसलिए उन्हें अपने पद से इस्तीफा देने की कोई जरूरत नहीं है। हरिवंश ने कहा है कि वे नीतीश कुमार की वजह से ही सार्वजनिक जीवन में हैं। महागठबंधन के साथ जाने का जो फैसला उन्होंने लिया, मैं भी उसके साथ हूं। लेकिन अभी तक हरिवंश सिंह ने सामने आकर इस पर कुछ नहीं कहा है। जदयू के अनुसार उच्च सदन के डिप्टी स्पीकर का चुनाव हुआ था और कई गैर.एनडीए दलों ने भी हरिवंश को वोट किया था। अब देखना है कि भाजपा और एनडीए राज्यसभा के डिप्टी स्पीकर पर जदयू के स्टैंड के बारे में क्या कहते हैं। यह भी देखना होगा कि नीतीश के पाला बदल के बाद राज्यसभा में एनडीए का आंकड़ा कम होकर 109 पर आ गया है।

कोई टिप्पणी नहीं: